BREAKING NEWS

भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा के खिलाफ FIR दर्ज, टीवी डिबेट में पैगम्बर पर विवादित टिप्पणी का आरोप◾UGC ने कहा- बिना मान्यता डिग्री दे रहे हैं कई संस्थान, यहां न लें दाखिला, नहीं तो होगा नुकसान◾UP News: 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर योगी बोले- 75 सीटें जीतने का लक्ष्य लेकर हमे आगे बढ़ना होगा◾ IPL 2022 Final: आईपीएल का फाइनल मुकाबला देखने आएंगे मोदी-शाह! एक लाख से ज्यादा दर्शक होंगे मौजूद◾यूपी : योगी सरकार ने पुलिस विभाग में किया बड़ा फेरबदल, 11 IPS अधिकारियों के किए तबादले, देखें सभी की लिस्ट ◾J&K News: जम्मू कश्मीर के कठुआ में सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया गया◾'मन की बात' में बोले मोदी- देश में 'यूनिकॉर्न' कंपनियों की संख्या हुई 100, महामारी में भी बढ़ा स्टार्टअप और धन ◾नेपाल : 22 लोगों को लेकर जा रहा तारा एयरलाइन्स का विमान लापता, 4 भारतीय भी थे सवार, तलाश जारी ◾दिल्ली : साकेत कोर्ट के जज की पत्नी ने की आत्महत्या, कल से थी लापता, जांच में जुटी पुलिस ◾दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की फोटो का इस्तेमाल कर युवक को दी धमकी, स्पेशल सेल कर रही जांच ◾यूपी : कर्नाटक से अयोध्या जा रहे श्रद्धालुओं के वाहन की ट्रक से टक्कर, 6 की मौत, 10 घायल ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,828 नए केस, उपचाराधीन मामलों की संख्या हुई 17 हजार 87 ◾इंडोनेशिया : इंजन फेल होने से मकासर जलडमरूमध्य में डूबा जहाज, 25 लोग लापता, तलाश जारी ◾भारत के टीकाकरण अभियान की बिल गेट्स ने की तारीफ, दुनिया को सीख लेने की दी नसीहत ◾राज्यसभा को लेकर झारखंड के CM हेमंत सोरेन ने की सोनिया गांधी से की मुलाकात, मिल सकती है एक सीट ? ◾लिपुलेख, कालापानी को लेकर नेपाल ने फिर दोहराया बयान, PM देउबा बोले- जमीन वापस लेने के लिए है प्रतिबद्ध ◾आज का राशिफल ( 29 मई 2022)◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾

संसद की संसदीय समिति का सुझाव- देश के सभी एम्स केंद्रों में शिक्षा व सेवाओं की गुणवत्ता को एक समान किया जाए

देश में वैश्विक महामारी कोरोना ने देश के स्वास्थ्य ढाचे की सारी हकीकत ऊजागर कर दी। ऐसे में संसद की ण्क समिति ने सरकार को नए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों (एम्स) को नयी दिल्ली की प्रमुख इकाई के समान बनाने के साथ ही सेवाओं और शिक्षा की समान गुणवत्ता बनाए रखने के लिए संकायों के आदान-प्रदान तथा ‘रोटेशन’ की व्यवहार्यता का पता लगाने की पुरजोर सिफारिश की है। 

‘‘सभी एम्स संस्थानों की प्रगति की समीक्षा’’ संबंधी प्राक्कलन समिति की 12वीं रिपोर्ट में इस बात पर जोर दिया गया है कि जब सभी नए एम्स संस्थान वर्ष 2012 में संशोधित एम्स अधिनियम 1956 द्वारा संचालित हो रहे हैं, ऐसे में उपकरणों की खरीद के लिए दी गयी वित्तीय और प्रशासनिक शक्तियों तथा विशेषज्ञों तथा पढ़ाई के संदर्भ में कोई अंतर नहीं होना चाहिए।  

निदेशक की नियुक्ति के लिए कानून के प्रावधानों का कड़ाई से पालन करना चाहिए 

लोकसभा में पेश की गयी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय को कार्यकारी निदेशक को प्रमुख के रूप में नियुक्त करने के बदले हर नए एम्स संस्थान में निदेशक की नियुक्ति के लिए कानून के प्रावधानों का कड़ाई से पालन करना चाहिए। समिति ने 65 वर्ष से अधिक आयु के किसी भी व्यक्ति को प्रशासनिक पदों पर नियुक्त नहीं करने की भी सलाह दी। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि समिति एम्स को मेडकिल उत्कृष्टता के प्रतीक के रूप में देखना चाहेगी जो केवल अनुभवी प्रतिभाओं के साथ भौतिक व्यवहार्यता के साथ ही संभव होगा और यह 70 वर्ष की आयु सीमा के साथ व्यवहार्य नहीं लगता है। समिति महसूस करती है कि नए एम्स में निदेशक के पद पर नियुक्ति के लिए मंत्रालय को मौजूदा प्रोफेसरों के लिए करियर के अवसरों तथा नयी प्रतिभा की अनदेखी नहीं करनी चाहिए।  

15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट में शामिल करेंगे 

रिपोर्ट के अनुसार समिति पुरजोर सिफारिश करती है कि स्वास्थ्य मंत्रालय नए एम्स की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं करे और पीएमएसएसवाई (प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना) के उद्देश्य को सुनिश्चित करने के लिए सभी उपाय करे, अर्थात देश में गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा शिक्षा में वृद्धि करे एवं एम्स कानून के प्रावधान का सख्ती से पालन करे। 

समिति ने उम्मीद जतायी कि स्वास्थ्य मंत्रालय और वित्त मंत्रालय पीएमएसएसवाई के अगले चरण में हर राज्य में एम्स जैसे संस्थानों की स्थापना के लिए सक्रिय कदम उठाएंगे और इसे 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट में शामिल करेंगे। रिपोर्ट में कहा गया है कि समिति चाहती है कि मंत्रालय अन्य राज्यों के अनुरोधों पर फिर से विचार करे और प्रत्येक राज्य में एम्स जैसी संस्था समयबद्ध तरीके से स्थापित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए।

समिति ने मंत्रालय से सभी एम्स को निर्देश व दिशानिर्देश जारी करने का भी आग्रह किया है जो एम्स में सभी श्रेणियों के कर्मचारियों को लाभान्वित करने के लिए ऑनलाइन चिकित्सा शिक्षा की खातिर एक व्यापक मॉड्यूल का मसौदा तैयार करें।