BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾विपक्ष के 9 नेताओं के साथ राहुल गांधी कल करेंगे कश्मीर का दौरा ◾TOP 20 NEWS 23 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर निर्मला सीतारमण बोली- भारत की आर्थिक स्थिति बेहतर◾सरकार के आर्थिक सलाहकारों ने भी माना कि संकट में है अर्थव्यवस्था : राहुल गांधी◾पेरिस में PM मोदी का संबोधन, बोले-हिंदुस्तान में अब टेंपरेरी के लिए व्यवस्था नहीं◾ईडी मामले में चिदंबरम को मिली राहत, 26 अगस्त तक नहीं होगी गिरफ्तारी◾एफएटीएफ के एशिया प्रशांत समूह ने पाकिस्तान को काली सूची में डाला◾पश्चिम बंगाल : मंदिर में दीवार गिरने से मची भगदड़ में 4 की मौत, ममता बनर्जी ने किया मुआवजा का ऐलान◾मनमोहन सिंह ने राज्यसभा सदस्य के रूप में ली शपथ◾दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ चिदंबरम की याचिका पर सोमवार को सुनवाई करेगा SC◾SC ने ट्रिपल तलाक को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस ◾कपिल सिब्बल बोले- अर्थव्यवस्था और नागरिकों की आजादी के मकसद को प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत◾जयराम रमेश के बाद बोले सिंघवी- मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत◾जानिए कैसे हुआ आईएनएक्स मीडिया मामले का खुलासा !◾प्रह्लाद जोशी बोले- यदि चिदंबरम बेकसूर हैं तो कांग्रेस को नहीं करनी चाहिए चिंता◾

देश

दल-बदल कानून से संबंधित याचिकाओं पर शीघ्र होना चाहिए फैसला - नायडू

चेन्नई : उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने यहां रविवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द करना राष्ट्रहित में है और इसे राजनीतिक मसले की तरह नहीं, बल्कि राष्ट्रीय मसले के रूप में देखा जाना चाहिए। 

उपराष्ट्रपति दो साल का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर प्रकाशित एक किताब के विमोचन समारोह में बोल रहे थे। 'लिस्निंग, लर्निग एंड लीडिंग' नामक इस किताब में उपराष्ट्रपति के दो साल के कार्यकाल का ब्योरा है। 

नायडू ने न्यायापालिका के मसले पर स्थायी समिति की सिफारिश का जिक्र करते हुए कहा कि लोगों की कठिनाइयों को दूर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की पीठें विभिन्न नगरों में होनी चाहिए। 

उन्होंने कहा, 'यह वक्त की जरूरत है कि कम से कम चार महानगरों में सुप्रीम कोर्ट की पीठें हों। इसका आरंभ करते हुए चेन्नई में एक (सुप्रीम कोर्ट की पीठ) चेन्नई में स्थापित की जा सकती है।' 

उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह न्यायाधीशों की नियुक्ति प्रणाली की समीक्षा करने का वक्त है। उन्होंने पारदर्शी और विश्वसनीय प्रणाली के निर्माण पर बल दिया और कहा कि न्यायिक प्रक्रिया लोक-हितैषी होनी चाहिए और कुछ मामलों, मसलन चुनाव संबंधी याचिकाएं और दल-बदल कानून से संबंधित याचिकाओं पर फैसला शीघ्र होना चाहिए। 

उन्होंने लोकसभा चुनाव को चुनौती देते हुए 2009 में दायर की गई एक याचिका का जिक्र करते हुए कहा कि उसके बाद दो बार लोकसभा चुनाव हो चुका है, लेकिन वह मामला अब तक लंबित है। उन्होंने उच्च न्यायालयों में क्षेत्रीय भाषाओं का इस्तेमाल किए जाने का समर्थन किया। 

उपराष्ट्रपति ने दल-बदल कानून की समीक्षा की आवश्यकता बताई और कहा कि विधायिका और कार्यपालिका को मजबूत बनाने का यह वक्त है। उन्होंने कहा कि विधायिका प्रगतिशील होनी चाहिए और इसमें सुधार की काफी संभावनाएं हैं। 

नायडू ने कहा कि इस पर विचार-विमर्श और बहस होनी चाहिए और बिना किसी बाधा के इस पर फैसला लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विधायिका में दाखिल होने के लिए किसी व्यक्ति के लिए उसकी विश्वसनीयता, क्षमता और दक्षता निर्णायक कारक हो न कि जाति, नकदी और आपराधिक प्रवृत्ति। 

अपना निजी विचार साझा करते हुए नायडू ने कहा कि वह राजनीति से छुट्टी लेने के बारे में सोच रहे हैं और 2019 के बाद सामाजिक सेवा में लगना चाहते हैं। 

उन्होंने कहा, 'मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस संबंध में बताया है। मैंने अपनी पत्नी को भी दिल्ली छोड़कर वापस गांव जाने को तैयार रहने के लिए कहा है।' 

नायडू ने कहा, 'उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के चयन के लिए विचार-विमर्श के दौरान मैंने सुझाव दिया था कि उम्मीदवार दक्षिण से, किसान परिवार से व योग्य व्यक्ति होना चाहिए। नायडू ने कहा कि उन्होंने जब सुना कि उनका नाम प्रस्तावित किया जा रहा है तो उनकी आंखों में आंसू आ गए।