BREAKING NEWS

लखनऊ में बोले अमित शाह- जिसे विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला◾पेरियार पर की गई टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगूंगा : रजनीकांत ◾चिदंबरम का सरकार पर कटाक्ष, बोले- अब हमें गीता गोपीनाथ पर मंत्रियों के हमले के लिए तैयार हो जाना चाहिए◾साईं बाबा के जन्मस्थान का विवाद बेवजह, CM ठाकरे को दोष नहीं दे सकते : शिवसेना ◾प्रधानमंत्री मोदी और नेपाली प्रधानमंत्री ने जोगबनी-विराटनगर निगरानी चौक का किया उद्घाटन◾जम्मू-कश्मीर जा रहे मंत्रियों को मणिशंकर अय्यर ने बताया 'डरपोक', बोले- 36 में से सिर्फ 5 जा रहे हैं घाटी◾दिल्ली चुनाव: केजरीवाल बोले- 'मेरा उद्देश्य भ्रष्टाचार खत्म करना, दिल्ली को आगे ले जाना'◾लखनऊ में आज अमित शाह करेंगे रैली, CAA विरोधियों को देंगे जवाब ◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए JDU ने स्टार प्रचारकों की सूची की जारी, प्रशांत किशोर और पवन वर्मा का नाम गायब◾AAP ने भाजपा उम्मीदवारों की दूसरी सूची पर कसा तंज, कहा- चुनाव से पहले ही मानी हार◾सूरत के रघुवीर मार्केट में लगी भीषण आग, कई दुकानें जलकर खाक◾दिल्ली विधानसभा चुनाव : भाजपा ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची की जारी, केजरीवाल को टक्कर देंगे सुनील यादव◾कोहरे ने 25 ट्रेनों की रफ्तार पर लगाई ब्रेक, दिल्ली आने वाली ये ट्रेनें 1 से 6 घंटे तक लेट◾अकाली दल नहीं लड़ेगा दिल्ली चुनाव : मनजिंदर सिंह सिरसा◾दविंदर सिंह का डीजीपी पदक और प्रशस्ति पत्र जब्त ◾CAA को लेकर कपिल सिब्बल बोले- इसे लेकर मेरे रुख में कोई बदलाव नहीं ◾राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- पत्रकारिता ‘कठिन दौर’ से गुजर रही है, फर्जी खबरें नये खतरे के तौर पर सामने आई हैं◾कपिल सिब्बल ने ''परीक्षा पे चर्चा' को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना ◾सीडीएस बिपिन रावत बोले- पाक के साथ युद्ध की परिस्थिति उत्पन्न होगी या नहीं, अनुमान लगाना मुश्किल◾भाजपा के नये अध्यक्ष बने नड्डा, नरेंद्र मोदी समेत इन नेताओं ने दी शुभकामनाएं ◾

आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जन्मदिन की शुरुआत अपने गृह राज्य गुजरात में ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ तथा नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध का अवलोकन करने के साथ की। वह 69 वर्ष के हो गए हैं। दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा कहे जाने वाले ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण पिछले वर्ष 31 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ही किया था। पीएम मोदी ने केवडिया में नमामि देवी नर्मदे महोत्सव में लोगों को संबोधित किया। 

UPDATES : 


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सरदार के सपने को आज देश साकार होते हुए देख रहा है। आज़ादी के दौरान जो काम अधूरे रह गए थे, उनको पूरा करने का प्रयास आज देश कर रहा है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को 70 साल तक भेदभाव का सामना करना पड़ा है। इसका दुष्परिणाम, हिंसा और अलगाव के रूप में, अधूरी आशाओं और आकांक्षाओं के रूप में पूरे देश ने भुगता है। मुझे पूरा विश्वास है कि जम्मू-कश्मीर के, लद्दाख और कारगिल के लाखों साथियों के सक्रिय सहयोग से हम विकास और विश्वास की नई धारा बहाने में सफल होंगे।

उन्होंने कहा, मैंने चुनाव के दौरान भी आपसे कहा था, आज फिर कह रहा हूं। हमारी नई सरकार, पहले से भी तेज गति से काम करेगी, पहले से भी ज्यादा बड़े लक्ष्यों को प्राप्त करेगी। भारत की एकता और श्रेष्ठता के लिए आपका ये सेवक पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। बीते 100 दिन में अपनी इस प्रतिबद्धता को हमने और मजबूत किया है।


उन्होंने कहा, टूरिज्म की बात जब आती है तो स्टेच्यु ऑफ यूनिटी की चर्चा स्वभाविक है। इसके कारण केवड़िया और गुजरात पूरे विश्व के टूरिज्म मैप पर प्रमुखता से आ गया है। अभी इसका लोकार्पण हुए सिर्फ 11 महीने ही हुए हैं, लेकिन अब तक 23 लाख से अधिक पर्यटक देश और दुनिया से यहां आ चुके हैं। पीएम मोदी ने कहा, हर दिन औसतन साढ़े 8 हज़ार टूरिस्ट आ रहे हैं। मुझे बताया गया है कि पिछले महीने जन्माष्टमी के दिन तो रिकॉर्ड 34 हज़ार से अधिक पर्यटक यहां पहुंचे थे। 

उन्होंने कहा, इस क्षेत्र को प्लास्टिक से बचाना है। सिंगल यूज़ प्लास्टिक से मुक्ति के लिए पूरा देश प्रयास कर रहा है। मुझे जानकारी है कि आप सभी स्वच्छता ही सेवा अभियान के तहत इस काम में जुटे हुए हैं। इसके लिए हमारी कोशिशें और तेज़ होनी चाहिए। पीएम मोदी ने कहा, गुजरात सहित देश के हर किसान परिवार की आय को 2022 तक दोगुना करने के लिए निरंतर प्रयास चल रहा है। 

नई सरकार बनने के बाद बीते 100 दिनों में इस दिशा में अनेक कदम उठाए गए हैं। गुजरात के किसानों, व्यापारियों और दूसरे नागरिकों के लिए पानी के माध्यम से ट्रांसपोर्ट की भी एक व्यापक व्यवस्था तैयार की जा रही है। घोघा-दहेज रो-रो फेरी सेवा की शुरुआत तो मैंने खुद की थी।मुझे बताया गया है कि अब तक इस फेरी सुविधा का सवा तीन लाख से ज्यादा यात्री उपयोग कर चुके हैं।


प्रधानमंत्री ने कहा, गुजरात में हो रहे सफल प्रयोगों को हमें पूरे देश में आगे बढ़ाना है। गुजरात के गांव-गांव में जो इस प्रकार के अभियान से दशकों से जुड़े हैं, ऐसे साथियों से मैं आग्रह करुंगा कि वो पूरे देश में अपने अनुभवों को साझा करें। आज कच्छ और सौराष्ट्र के उन क्षेत्रों में भी मां नर्मदा की कृपा हो रही है, जहां कभी कई-कई दिनों तक पानी नहीं पहुंच पाता था। 

पीएम मोदी ने कहा की आपने जब मुझे यहां का दायित्व दिया, तब हमारे सामने दोहरी चुनौती थी। सिंचाई के लिए, पीने के लिए, बिजली के लिए, डैम के काम को तेज करना था, दूसरी तरफ नर्मदा कैनाल के नेटवर्क को और वैकल्पिक सिंचाई व्यवस्था को भी बढ़ाना था। लेकिन गुजरात के लोगों ने हिम्मत नहीं हारी और आज सिंचाई की योजनाओं का एक व्यापक नेटवर्क गुजरात में खड़ा हो गया है। बीते 17-18 सालों में लगभग दोगुनी जमीन को सिंचाई के दायरे में लाया गया है। 

उन्होंने कहा,केवड़िया में आज जितना उत्साह है, उतना ही जोश पूरे गुजरात में है। आज तालों, तालाबों, झीलों, नदियों की साफ-सफाई का काम किया जा रहा है। आने वाले दिनों में बड़े स्तर पर वृक्षारोपण का भी कार्यक्रम है। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा,  “आज के दिन मां नर्मदा के दर्शन का अवसर मिलना, पूजा-अर्चना का अवसर मिलना, मेरे लिए बहुत बड़ा सौभाग्य है”। हमारी संस्कृति में हमेशा माना गया है कि पर्यावरण की रक्षा करते हुए भी विकास हो सकता है। प्रकृति हमारे लिए आराध्य है, प्रकृति हमारा आभूषण है। पर्यावरण को संरक्षित करते हुए कैसे विकास किया जा सकता है, इसका जीवंत उदाहरण अब केवड़िया में देखने को मिल रहा है।

उन्होंने कहा, मैं समझता हूं कि केवड़िया में विकास, प्रकृति और पर्यटन की एक ऐसी त्रिवेणी बह रही है, जो सभी के लिए प्रेरणा है। एक तरफ सरदार सरोवर बाँध है, बिजली उत्पादन के यंत्र हैं तो दूसरी तरफ एकता नर्सरी, बटर-फ्लाई गार्डन जैसी इको-टूरिज्म से जुड़ी बहुत ही सुंदर व्यवस्थाएं हैं। इन सबके बीच सरदार पटेल जी की भव्य प्रतिमा जैसे हमें आशीर्वाद देती नजर आती है।

पीएम मोदी ने कहा, हमने पहली बार सरदार सरोवर बाँध को पूरा भरा हुआ देखा है। एक समय था जब 122 मीटर के लक्ष्य तक पहुंचना ही बड़ी बात थी। लेकिन आज 5 वर्ष के भीतर-भीतर 138 मीटर तक सरदार सरोवर का भर जाना, अद्भुत है, अविस्मरणीय है। उन्होंने कहा, आज का ये अवसर बहुत भावनात्मक भी है। सरदार पटेल ने जो सपना देखा था, वो दशकों बाद पूरा हो रहा है और वो भी सरदार साहेब की भव्य प्रतिमा की आंखों के सामने। 

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, मुझे विश्वास है कि उनकी प्रेरणा से हम नए भारत से जुड़े हर संकल्प को सिद्ध करेंगे, हर लक्ष्य को प्राप्त करेंगे। आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो सरदार सरोवर बाँध और सरदार साहब की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा, दोनों ही उस इच्छाशक्ति, उस संकल्पशक्ति के प्रतीक हैं। आज ही निर्माण और सृजन के देवता विश्वकर्मा जी की जयंती भी है। नए भारत के निर्माण के जिस संकल्प को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं, उसमें भगवान विश्वकर्मा जैसी सृजनशीलता और बड़े लक्ष्यों को प्राप्त करने की इच्छाशक्ति बहुत आवश्यक है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार सरोवर बांध पर नर्मदा नदी की पूजा के बाद गरुड़ेश्वर दत्त मंदिर में पूजा-अर्चना की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साथ ही उन्होंने सीएम रुपाणी के साथ पोषण पार्क का दौरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार सरोवर बांध पर नर्मदा नदी की आरती की। 

पीएम मोदी ने नर्मदा जिले के केवडिया में खलवानी इको-टूरिज्म साइट और जंगल सफारी पर्यटक पार्क का दौरा किया। इस दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी और राज्यपाल आचार्य देवव्रत भी मौजूद। उन्होंने सरदार सरोवर बांध का भी दौरा किया। 

स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास स्थित एक नर्सरी का पीएम मोदी ने दौरा किया। नर्सरी विभिन्न पारंपरिक पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों का निर्माण करती है और आगंतुकों को उनकी विनिर्माण प्रक्रिया का लाइव प्रदर्शन प्रदान करती है।

नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध के उच्चतम स्तर 138.68 मीटर तक पानी भर जाने के अवसर पर गुजरात सरकार ‘नमामी नर्मदा’ समारोह का आयोजन कर रही है। इसी में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मंगलवार सुबह केवडिया पहुंचे। वर्ष 2017 में जलाशय की ऊंचाई बढ़ाई गई थी उसके बाद से यह पहली बार है जब रविवार शाम को बांध में पानी इसके उच्चतम स्तर 138.68 मीटर तक पहुंचा है। 

नर्मदा नदी में आए पानी के ‘स्वागत’ में प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी बांध स्थल पर पूजा करेंगे। प्रधानमंत्री बांध के निकट सभा को संबोधित भी करेंगे। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ और बांध के निकट जारी कई विकास परियोजनाओं का भी उन्होंने अवलोकन किया। 

एक अधिकारी ने बताया कि इन परियोजनाओं में रिवर राफ्टिंग, जंगल सफारी पार्क, बटरफ्लाय पार्क और एकता नर्सरी शामिल हैं। प्रधानमंत्री खालवानी सफारी में इको-टूरिज्म स्थल पर भी पहुंचे और संभवत: उन्होंने वहां हिरण देखा। वह नर्मदा के तट पर बसे गरूड़ेश्वर गांव में दत्त मंदिर के दर्शन के लिए भी जा सकते हैं।