BREAKING NEWS

ईरान में कोरोना संकट के बीच फंसे 275 भारतीयो को दिल्ली लाया गया ◾कोरोना वायरस से अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 121,000 के पार हुई, अबतक 2000 अधिक से लोगों की मौत ◾कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾

लॉकडाउन पर PM मोदी को मिला सोनिया का समर्थन, बोलीं- कोरोना संकट से निपटने के लिए कांग्रेस है सरकार के साथ

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कोरोना वायरस (कोविड-19) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाए गए 21 दिनों के लॉकडाउन का समर्थन किया। उन्होंने गुरुवार को पीएम मोदी से आग्रह किया कि ''न्यूनतम आय गारंटी योजना'' (न्याय) लागू करके आजीविका के संकट का सामना कर रहे मजदूरों एवं गरीबों के खातों में आर्थिक मदद भेजी जाए और किसानों एवं छोटे कारोबारियों को राहत देने के लिए कदम उठाए जाएं।

प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सोनिया ने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए इस संकट से निपटने के लिए पूरी तरह से सरकार के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा, ''कोरोना वायरस की महामारी ने लाखों लोगों का जीवन खतरे में डाल दिया है तथा पूरे देश में खासकर समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों की आजीविका एवं रोजमर्रा के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। कोरोना महामारी को रोकने व हराने के संघर्ष में पूरा देश संगठित होकर एक साथ खड़ा है।'' 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ''कोराना वायरस से लड़ने के लिए आपकी सरकार द्वारा घोषित ‘21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन’ का हम समर्थन करते हैं। मैं विश्वास दिलाती हूँ कि इस महामारी को रोकने के लिए उठाए गए हर कदम में हम सरकार को अपना पूरा सहयोग देंगे।'' कांग्रेस अध्यक्ष ने आग्रह किया कि कोरोना वायरस से लड़ रहे चिकित्साकर्मियों के लिए एन-95 मास्क एवं दूसरे सभी स्वास्थ्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए जाएं । उन्होंने कहा कि मजदूरों और गरीबों को राहत देने के लिए न्याय योजना लागू करके उनके खातों में सीधी आर्थिक मदद भेजी जाए।

दिल्ली : मोहल्ला क्लिनिक डॉक्टर में था कोरोना पॉजिटिव, अब मौजपुर इलाके के 900 लोग होंगे क्वॉरनटाइन

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ''इस समय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा प्रस्तावित ‘न्याय योजना’ यानि ‘न्यूनतम आय गारंटी योजना’ को लागू करना सबसे ज्यादा जरूरी है। इस मुश्किल दौर में जिन गरीबों पर इस महामारी की सबसे ज्यादा आर्थिक मार पड़ने वाली है, उन्हें न्याय योजना से सबसे अधिक राहत मिलेगी।'' दरअसल, पिछले लोकसभा चुनाव के समय ठीक एक साल पहले तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 25 मार्च को ‘न्याय’ का वादा किया था। इसके तहत देश के करीब पांच करोड़ गरीब परिवारों को सालाना 72 हजार रुपये देने का वादा किया गया था।

सोनिया ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया, ''इस विपदा की घड़ी में किसानों के रिण व बकाया राशि की वसूली को छः महीनों के लिए रोक दिया जाना चाहिए एवं नए सिरे से तथा उदार हृदय से किसानों की कर्जमुक्ति के बारे में निर्णय लिया जाना चाहिए।'' उन्होंने छोटे एवं मध्यम व्यापारियों की दिक्कतों का उल्लेख करते हुए कहा, ''केंद्र सरकार को हर सेक्टर के लिए विशेष राहत पैकेजों की घोषणा करनी चाहिए तथा उन्हें आवश्यक टैक्स ब्रेक, ब्याज माफी एवं देनदारियों पर छूट अनिवार्य होना चाहिए।''