BREAKING NEWS

कांग्रेस के चिंतन शिविर पर प्रशांत किशोर का तंज, गुजरात और हिमाचल चुनाव पर कही ये बात◾ज्ञानवापी सर्वे: विवादित पोस्ट करने पर AIMIM नेता की बढ़ी मुश्किलें, पुलिस ने किया गिरफ्तार ◾CBI रेड को लेकर मांझी ने तेजस्वी पर साधा निशाना, बहन रोहिणी ने हम प्रमुख को बताया 'बिन पेंदी का लोटा'◾पेगासस मामले में SC द्वारा नियुक्त पैनल जून तक सौंपेगा रिपोर्ट, पूरी हो चुकी है 29 फोनों की जांच ◾विवादों में घिरे राज ठाकरे ने रद्द किया अयोध्या दौरा, BJP सांसद बृजभूषण ने दी थी मनसे प्रमुख को चेतावनी! ◾सिद्धू को जाना होगा जेल, सरेंडर से राहत वाली मांग पर SC ने तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾विजय पताका के बावजूद आज हम अधीर और बेचैन, क्योंकि..., जयपुर में BJP कार्यकर्ताओं से बोले मोदी◾World Corona : 52.39 करोड़ हुए कोविड के मामले, 11.43 अरब लोगों का हो चुका है टीकाकरण ◾बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब ने ज्ञानवापी पर दी प्रतिक्रिया, बोले- मुसलमानों ने किया आंदोलन तो...◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,259 नए केस, 191.96 करोड़ दी जा चुकी है वैक्सीन ◾पिता के खिलाफ CBI की कार्रवाई से भड़कीं लालू की बेटी, जांच एजेंसी को बताया 'बेशर्म तोता'◾भर्ती घोटाला मामले में लालू यादव की बढ़ी मुश्किलें, बिहार से लेकर दिल्ली तक CBI ने 17 ठिकानों पर मारी रेड ◾MP : दलित युवक की बारात पर किया था पथराव, अब शिवराज सरकार ने घर पर चलाया बुलडोजर ◾सामना में शिवसेना का तंज, चीन द्वारा कब्जाई जमीन पर भगवान शिव, ताज महल में ढूंढ रहे हैं भक्त ◾ज्ञानवापी : जुमे की नमाज में कम से कम शामिल हों लोग, मस्जिद कमेटी की अपील◾J&K : जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सुरंग का एक हिस्सा गिरा, 10 फंसे, जारी है रेस्क्यू ऑपरेशन ◾UP : 27 महीने बाद जेल से बाहर आए आजम खान, अखिलेश यादव ने Tweet कर किया स्वागत◾कृष्ण जन्मभूमि मामला : Court मस्जिद हटाने का अनुरोध करने वाली याचिका पर करेगी विचार ◾आज का राशिफल ( 20 मई 2022) ◾RCB vs GT ( IPL 2022 ) : कोहली के बल्ले से निकली आरसीबी की जीत और प्लेऑफ की उम्मीद◾

भारत-मध्य एशिया शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने की मेजबानी, अफगानिस्तान को लेकर कही यह बात

अफगानिस्तान की स्तिथि का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को  इसे क्षेत्रीय सुरक्षा को भारत और मध्य एशिया के देशों के लिए एकसमान ‘‘चिंता का विषय’’ करार दिया। पीएम ने कहा, सुरक्षा और समृद्धि के उद्देश्य को हासिल करने के लिए भारत और मध्य एशिया के देशों का आपसी सहयोग अनिवार्य है। डिजिटल माध्यम से पहले भारत-मध्य एशिया शिखर सम्मेलन की मेजबानी करते हुए अपने आरंभिक संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने यह बात कही। इस शिखर सम्मेलन में कजाकिस्तान के राष्ट्रपति कासिम जुमरात तोकायेव, उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव, ताजकिस्तान के राष्ट्रपति इमामअली रहमान, तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहम्मदेवो और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सद्र जापारोप भाग ले रहे हैं।

भारत और मध्य एशिया के 30 सार्थक वर्ष हुए पूरे : पीएम 

डिजिटल सम्मेलन में मध्य एशिया के देशों के बीच रिश्तों को नई ऊंचाई प्रदान करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों और क्षेत्रीय सुरक्षा के मौजूदा हालात पर चर्चा होनी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और मध्य एशिया के देशों के कूटनीतिक संबंधों ने 30 'सार्थक वर्ष' पूरे कर लिए हैं और पिछले तीन दशकों में आपसी सहयोग ने कई सफलताएं भी हासिल की है। उन्होंने कहा कि आज यह रिश्ते अब इस महत्वपूर्ण पड़ाव पर पहुंच गए हैं कि सभी को आने वाले सालों के लिए एक महत्वाकांक्षी दूरदृष्टि परिभाषित करनी चाहिए और वह दूरदृष्टि ऐसी हो, जो बदलते विश्व में लोगों की, विशेषकर युवा पीढ़ी की आकांक्षाओं को पूरा कर सकें। द्विपक्षीय स्तर पर मध्य एशिया के सभी देशों के साथ भारत के संबंधों की घनिष्ठता का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि, कजाकिस्तान जहां भारत की ऊर्जा सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण साझेदार बन गया है, वहीं उज्बेकिस्तान के साथ उनके गृह राज्य गुजरात सहित भारत के विभिन्न राज्यों की सक्रिय भागीदारी भी है।

अफगानिस्तान के घटनाक्रम से हम सभी चिंतित हैं : पीएम मोदी 

हाल के घटनाक्रमों को उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए हम सभी की चिंता और उद्देश्य एक समान हैं। अफगानिस्तान के घटनाक्रम से हम सभी चिंतित हैं। इस संदर्भ में भी हमारा आपसी सहयोग, क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता के लिए और महत्वपूर्ण हो गया है। सम्मेलन के तीन प्रमुख उद्देश्यों का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने भारत और मध्य एशिया का आपसी सहयोग क्षेत्रीय सुरक्षा और समृद्धि के लिए अनिवार्य बताया और स्पष्ट किया कि मध्य एशिया एक समन्वित और स्थिर विस्तारित पड़ोस के लिए भारत के ‘विजन’ का केंद्र है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इनके माध्यम से ही हम अगले तीन सालों में क्षेत्रीय संपर्क और सहयोग के लिए एक समन्वित रुख अपना सकेंगे।