BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- ढील दिए जाने के बाद 5 राज्यों में बढ़े कोरोना मामले◾राजनाथ सिंह ने CDS और तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक, सड़क का निर्माण कार्य रहेगा जारी ◾राहुल गांधी के वार पर BJP का पलटवार, नकवी ने कांग्रेस को बताया राजनीतिक पाखंड की प्रयोगशाला◾चीन और नेपाल से जुड़े मुद्दों पर पारदर्शिता की जरूरत, केंद्र को करना चाहिए स्पष्ट : राहुल गांधी◾कोविड-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 412 लोगों में संक्रमण की पुष्टि, पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 14 हजार 465◾बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, 96.20 प्रतिशत अंक के साथ टॉपर बने हिमांशु राज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को बताया विफल, बोले-आगे की रणनीति बताएं प्रधानमंत्री ◾तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस ने 83 विदेशी नागरिकों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट◾उद्धव ठाकरे और शरद पवार की मुलाकात पर बोले राउत-सरकार मजबूत, चिंता करने की जरूरत नहीं◾कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, US कंपनी ने 131 लोगों पर शुरू किया ह्यूमन ट्रायल◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर लगा भयंकर जाम, सिर्फ पास वालों को मिल रही है जाने की इजाजत◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का खौफ जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 55 लाख के करीब ◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

PM मोदी UNGA में विकास के एजेंडे पर जोर देंगे

जम्मू एवं कश्मीर में हालिया घटनाक्रमों की पृष्ठभूमि को लेकर सबकी निगाहें संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) पर हैं, खासकर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान के संबोधन पर, जो वे वहां सत्र के दौरान करेंगे। 27 सितंबर को यूएनजीए को संबोधित करने वाले खान ने कहा है कि वह मंच पर जम्मू एवं कश्मीर मुद्दे को जबरदस्त तरीके से उठाएंगे। 

मोदी भी उसी दिन विश्व निकाय को संबोधित करने वाले हैं। जहां खान के जम्मू एवं कश्मीर के मुद्दे को उठाने और इस पर रोना रोने के आसार हैं, वहीं मोदी से अपने संबोधन में आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों के साथ-साथ विकास संबंधी मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है। 

वह वैश्विक अर्थव्यवस्था और बहु-ध्रुवीयता पर भी अपने विचार व्यक्त करेंगे। एक संकेत है कि इमरान खान की बयानबाजी की चाल में मोदी नहीं फंसेंगे। इसका अंदाजा संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन के दिए बयान से लागाया जा सकता है, जिसमें उन्होंने कहा था, वे भले ही अपना स्तर नीचे गिरा सकते हैं, लेकिन इस पर हमारा जवाब यही होगा कि आप जितना नीचे गिरेंगे, हम उतना ही ऊपर उठेंगे। 

उनकी यह टिप्पणी तब आई, जब उनसे पूछा गया कि भारत की प्रतिक्रिया क्या होगी, क्योंकि खान यूएनजीए में इस मुद्दे को उठाने के लिए तैयार हैं। यूएनजीए में कश्मीर मुद्दे को 'घृणास्पद भाषण' की मुख्यधारा में लाने के एजेंडे पर अकबरुद्दीन ने कहा, हमें यकीन है कि हमारा कद बढ़ेगा। हमने आपको उदाहरण दिए हैं कि हम नीचे नहीं गिरेंगे। जब वे नीचे गिरेंगे तो हम ऊपर उठेंगे। 

फडणवीस बोले- भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, मैं दोबारा मुख्यमंत्री बनूंगा

भारत सरकार द्वारा 5 अगस्त को जम्मू एवं कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा निरस्त किए जाने के बाद से बौखलाया पाकिस्तान इस मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने की पूरी कोशिश कर रहा है। उसने तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की भी गुहार लगाई, लेकिन किसी ने उसका साथ नहीं दिया। मोदी द्वारा यूएनजीए में अपने संबोधन में आर्थिक प्रगति और विकास और 2024 तक देश भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की आकांक्षा के बारे में बात किए जाने की संभावना है। 

देश में कारोबार में सहजता का जिक्र किए जाने के दौरान उनके इस बात पर प्रकाश डालने की संभावना है कि दुनिया इसका कैसे फायदा उठा सकती है, क्योंकि जैसा कि भारत बड़े आर्थिक विकास की ओर अग्रसर है। इस वर्ष यूएनजीए का विषय 'गरीबी उन्मूलन, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, जलवायु पर काम करने और समावेश के लिए बहुपक्षीय प्रयासों को बढ़ावा देना' है। 

कल रात अमेरिका की सात दिवसीय यात्रा के लिए रवाना होने से पहले जारी एक बयान में मोदी ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए कई दबावपूर्ण चुनौतियां हैं - अभी भी एक कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था, अशांति और दुनिया के कई हिस्सों में तनाव, आतंकवाद का विकास और प्रसार, जलवायु परिवर्तन और गरीबी उन्मूलन विशेष वैश्विक चुनौती बनी है। 

उन्होंने कहा कि इन मुद्दों पर मजबूत वैश्विक प्रतिबद्धता और ठोस बहुपक्षीय कदम उठाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि 1945 में संयुक्त राष्ट्र के संस्थापक सदस्य के रूप में अपनी भागीदारी के बाद से भारत ने शांति और सुरक्षा को आगे बढ़ाने और दुनिया में व्यापक-समावेशी आर्थिक विकास और विकास को बढ़ावा देने के लिए बहुपक्षवाद के प्रति अटूट प्रतिबद्धता दर्शाई है।