BREAKING NEWS

लॉकडाउन 5.0 पर गृह मंत्री अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों से की बात, मांगे सुझाव ◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, 24 घंटे में 1024 नए मामले, संक्रमितों संख्या 16 हजार के पार◾सीताराम येचुरी ने मोदी सरकार पर साधा, कहा- रेलगाड़ियों का रास्ता भटकना सरकार के अच्छे दिन का ‘जादू’ ◾ट्रंप की पेशकश पर भारत ने कहा- मध्यस्थता की जरूरत नहीं, सीमा विवाद के समाधान के लिए चीन से चल रही है बातचीत◾अलग जगहों पर रखे जाएं विदेशी जमाती, दिल्ली HC ने कहा- खुद उठाएंगे अपना खर्चा◾कोविड-19 की वैक्सीन बनाने में जुटे देश के 30 ग्रुप : पीएसए राघवन◾मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने ऑनलाइन आंदोलन किया, केंद्र से गरीबों की मदद की मांग की◾SC का केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश, तत्काल श्रमिकों के भोजन और ठहरने की करें नि:शुल्क व्यवस्था◾महाराष्ट्र में कोरोना की चपेट में 2000 से अधिक पुलिसकर्मी, महामारी से अब तक 22 की मौत◾कोरोना संकट से जूझ रही महाराष्ट्र की सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है BJP : प्रियंका गांधी ◾पुलवामा जैसे हमले को अंजाम देने की फिराक में आतंकी, IG ने बताया किस तरह नाकाम हुई साजिश◾दिल्ली-गाजियाबाद बार्डर पर फिर लगी वाहनों की लाइनें, भीड़ में 'पास-धारक' भी बहा रहे पसीना ◾राहुल गांधी की मांग- देश को कर्ज नहीं बल्कि वित्तीय मदद की जरूरत, गरीबों के खाते में पैसे डाले सरकार◾RBI बॉन्ड को वापस लेना नागरिकों के लिए झटका, जनता केंद्र से तत्काल बहाल करने की करें मांग : चिदंबरम◾‘स्पीकअप इंडिया’ अभियान में बोलीं सोनिया- संकट के इस समय में केंद्र को गरीबों के दर्द का अहसास नहीं◾पुलवामा में हमले की बड़ी साजिश को सुरक्षाबलों ने किया नाकाम, विस्फोटक से लदी गाड़ी लेकर जा रहे थे आतंकी◾दुनिया में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख के करीब, अब तक 3 लाख 55 हजार से अधिक की मौत ◾मौसम खराब होने की वजह से Nasa और SpaceX का ऐतिहासिक एस्ट्रोनॉट लॉन्च टला◾कोविड-19 : देश में महामारी से अब तक 4500 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 58 हजार के पार ◾मुंबई के फॉर्च्यून होटल में लगी आग, 25 डॉक्टरों को बचाया गया ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

PM मोदी ने कश्मीर पंडितों का दिल और विश्वास जीता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका में कश्मीरी पंडितों के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान उनका दिल और विश्वास जीत लिया। मोदी ने यहां कश्मीरी पंडितों से मुलाकात के दौरान उनसे कहा, ‘‘आप लोगों ने काफी कुछ झेला है और अब हम साथ मिलकर एक नए कश्मीर का निर्माण करेंगे।’’ ह्यूस्टन और अमेरिका के विभिन्न हिस्सों में कई कश्मीरी पंडित बसे हुए हैं। वे रविवार को यहां ‘‘हाउडी मोदी’’ कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आये थे। 

प्रधानमंत्री ने इस कार्यक्रम के इतर कश्मीरी पंडित समुदाय से मुलाकात की थी। अमेरिका के सबसे पुराने गैर-लाभकारी सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन ‘कश्मीरी ओवरसीज एसोसिएशन’ (केओए) की अध्यक्ष शकुन मलिक ने कहा, ‘‘भारत की आजादी के लगभग 70 साल में पहली बार और जातीय सफाये के 30 वर्षों बाद भारत के किसी प्रधानमंत्री ने चिंता जताई और अपनी ही जमीन पर शरणार्थियों की तरह रह रहे कश्मीरी पंडित समुदाय के बारे में मुद्दों को उठाने की इच्छा व्यक्त की।’’ 

दिल्ली-NCR समेत देश के कई हिस्सों में भूकंप के तेज झटके, रिक्टर स्केल पर 6.1 तीव्रता

उन्होंने कहा, ‘‘केओए का उद्देश्य कश्मीरी पंडितों की विरासत को बढ़ावा देना और उसे बनाये रखना है और जरूरतमंद तथा पात्र कश्मीरी पंडितों, शैक्षणिक संस्थानों और पूजा स्थलों को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराना है।’’मलिक ने कहा कि कश्मीर पंडितों के प्रतिनिधिमंडल में उनके हितों के लिए काम करने वाले विभिन्न संगठनों की सात महिलायें और आठ पुरुष शामिल थे। 

उन्होंने कहा कि ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री के इतने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधिमंडल से उनका (मोदी) मिलना उनके लिए एक बड़ी जीत है। मलिक ने कहा, ‘‘कश्मीरी शरणार्थी समुदाय पिछले 30 वर्षों से अमानवीय स्थितियों में जीवन व्यतीत कर रहा है और अब यह समय है कि सरकार सम्मान, गरिमा और सुरक्षा के साथ अपनी जड़ों की ओर लौटने के लिए उनके वास्ते अनुकूल परिस्थितियों का निर्माण करे। 

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : चंद्रकांत पाटिल का बड़ा बयान, कहा- 'गठबंधन भी होगा और प्रदेश में 220 सीटें भी जीतेंगे'

हमारा मानना है कि अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाया जाना और जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बनाये जाने का निर्णय इस दिशा में उठाया गया पहला महत्वपूर्ण कदम है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने हमसे कहा कि ‘‘नया कश्मीर प्रक्रिया की यह शुरूआत है और हमारे समुदाय से अनुरोध किया कि वे कश्मीर से संबंधित सभी सरकारी निर्णयों और प्रयासों का समर्थन करें।’’ इस बीच ‘‘हाउडी मोदी’’ कार्यक्रम में शामिल कुछ कश्मीरी लोगों को इस बात पर निराशा हुई कि प्रधानमंत्री ने ‘‘सब कुछ ठीक है’’ कहने के लिए कश्मीरी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया।