BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

3 दिनों तक पुलिस रिमांड के दौरान सियासी आकाओं के नामों का भी हो सकता है खुलासा

लुधियाना-एसएएस नगर : पंजाब सिंचाई विभाग में पिछले 10 साल में करवाएं गए विभिन्न कार्यो में हुए हजारों करोड़ के घोटाले के मुख्य आरोपी ठेकेदार गुरविंद्र सिंह द्वारा आज सुप्रीम कोर्ट से राहत ना मिलने के पश्चात मोहाली की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया और गुरविंद्र सिंह को 3 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। जबकि सेवामुक्त चीफ इंचीनियरिंग हरविंद्र सिंह ने भी कल सुप्रीम कोर्ट द्वारा राहत ना मिलने पश्चात अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था। अदालत ने हरविंद्र सिंह को 14 दिसंबर की न्यायिक हिरासत में भेजा है। दोनों आरोपियों के खिलाफ विजिलेंस ने 4 महीने पहले केस दर्ज किया था। अकाली-भाजपा सरकार के कार्यकाल में सिंचाई विभाग में हुए हजारों करोड़ के कामों में मोटा घोटाला किया गया था।

कांग्रेस सरकार के सत्ता में आते ही सरकार ने सिचाई विभाग में घोटाले की जांच के आदेश दिए थे और विजिलेस विभाग की जांच में खुलासा हुआ था कि ठेकेदार गुरविंद्र सिंह के साथ मिलीभगत के चलते सिचाई विभाग के आधा दर्जन से ज्यादा बड़े अधिकारियों ने विभाग के कामों में टेंडर देने के दौरान सैकड़ों का घोटाला किया है। उनमें एक्सीएन गुलशन नागपाल, चीफ इंजीनियर सेवानिवृत्त परमजीत सिंह घुम्मन, एक्सीएन बजरंग लाल सिंगला, चीफ इंजीनियर सेवामुक्त हरविंद्र सिंह, एसडीओ सेवानिवृत्त गुरदेव ङ्क्षसह, सुपरवाइजर विमल कुमार शर्मा और सिंचाई विभाग के कुछ अधिकारी इंजीनियर और कर्मचारी भी शामिल है। जिनपर आरोप है कि उन्होंने सरकारी पदों का र्दुप्रयोग करके गुरविंद्र सिंह ठेकेदार के साथ मिलीभगत करके सरकारी खजाने को बड़ा वित्तीय नुकसान पहुंचाया है।

विजिलेंस के मुताबिक गुरविंद्र सिंह को लाभ पहुंचाने के लिए सी.एस.आर दरों से ज्यादा दरों पर ठेके अलाट किए जाते रहे है। जिससे सरकारी खजाने को बड़ा वित्तीय नुकसान हुआ है। विजिलेस का यह भी कहना है कि ठेकेदार गुरिंद्र सिंह की वर्ष 2006-07 में वार्षिक आमदन 4.74 करोड़ रूपए थी जो वर्ष 2016-17 के दौरान बढक़र 300 करोड़ रूपए हो गई। जिसपर विजिलेस गंभीरता से जांच कर रही है। उधर विजिलेस इस मामले में पुष्पिंद्र गर्ग (चीफ इंजीनियर नहर विभाग) जो सिंचाई विभाग के विजिलेस अधिकारी भी है की भूमिका संबंधित भी जांच करने की बात कही जा रही है। इस प्रकार दूसरे ठेकेदार पुष्पिंद्र सिंह सिद्धू और खारा कंट्रेक्टरस की भूमिका की भी जांच की जा रही है। फिलहाल पुलिस इस गौरखधंधे में सिंचाई विभाग के 3 रिटायर्ड अफसरों के अलावा 4 अधिकारियों के अतिरिक्त 10 साल तक कौन-कौन से लोग इसमें जुड़े है, इसका खुलासा गुरविंद्र की रगड़ाई के बाद ही पुलिस पता लगाएंगी।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ

- सुनीलराय कामरेड