BREAKING NEWS

चीन के पीछे हटने से एक दिन पहले NSA डोभाल और चीनी विदेश मंत्री के बीच हुई थी बातचीत◾सेना के पीछे हटने पर बोला चीन- दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए उठाया गया कदम◾CM केजरीवाल बोले-दिल्ली में अब रोज 20 से 24 हजार हो रहे है कोरोना टेस्ट, मृत्यु दर में आई कमी ◾गलवान घाटी में 1-2 किमी तक पीछे हटी चीनी सेना, झड़प वाले स्थान पर बना बफर जोन◾विकास दुबे के संपर्क में आए तीन और पुलिसकर्मी सस्पेंड, हिस्ट्रीशीटर अब भी पकड़ से दूर◾साउथ चाइना सी में अमेरिकी युद्धपोत की तैनाती पर चीन ने दी धमकी, US नेवी ने उड़ाई ड्रैगन की खिल्ली◾राहुल रक्षा मामले की एक भी बैठक में नहीं हुए शामिल, लेकिन सशस्त्र बल पर उठा रहे हैं सवाल : नड्डा◾श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती आज, पीएम मोदी समेत इन नेताओं ने ऐसे किया याद◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 14 लाख से अधिक, अब तक 5 लाख 33 हजार लोगों की हुई मौत ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 7 लाख के करीब, महामारी से लगभग 20 हजार लोगों की मौत ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- भविष्य में कोविड-19, GST और नोटबंदी फेलियर पर स्टडी में होंगी शामिल ◾दिल्ली में पिछले 3 महीने से बंद ऐतिहासिक स्मारक आज से खुलेंगे, लेना होगा ऑनलाइन टिकट ◾राहुल गांधी ने सरकार पर लगाया आरोप, बोले-PM केयर्स कोष में अपारदर्शिता से खतरे में पड़ रही है जिंदगियां◾कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जम्मू कश्मीर में जल्द से जल्द राजनीतिक गतिविधियां बहाल होनी चाहिये : राम माधव

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 100 से अधिक दिन बीतने का जिक्र करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता राम माधव ने मंगलवार को कहा कि वह केंद्र शासित प्रदेश में ‘‘जल्द से जल्द’’ राजनीतिक गतिविधियों को बहाल करने के पक्ष में हैं। 

उन्होंने जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर विभिन्न वर्गों की मांगों पर कहा कि ये मांगें संविधान के दायरे के भीतर होनी चाहिए। 

उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘मैं व्यक्तिगत रूप से इसके पक्ष में हूं, कम से कम अब फैसला किए हुए तकरीबन 100 दिन हो चुके हैं तो घाटी में कुछ हद तक राजनीतिक गतिविधियां शुरू होनी चाहिए।’’ 

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव माधव ने कहा, ‘‘मैं अपनी पार्टी में भी इसके बारे में बात कर रहा हूं। उम्मीद है कि हम इस बारे में कुछ कर पाएंगे।’’ उन्होंने कहा कि जम्मू में सामान्य राजनीतिक गतिविधियां हो रही हैं। 

यह पूछे जाने पर कि कश्मीर में एहतियातन हिरासत में लिये गए नेताओं को रिहा करने से सरकार को क्या चीज रोक रही है, इस पर उन्होंने कहा कि चाहे सरकार अपना रुख बताए या न बताए लेकिन ‘‘इसमें कोई शक’’ नहीं है कि जिस दिन ये नेता बाहर आ जाएंगे उस दिन वे निश्चित तौर पर प्रदर्शनों का नेतृत्व करेंगे। 

उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि ये प्रदर्शन लोकतांत्रिक तथा शांतिपूर्ण हों। कोई भी नहीं कहता कि कोई प्रदर्शन नहीं होना चाहिए। यह लोकतंत्र है, प्रदर्शन तो होंगे।’’ 

इस संबंध में दिल्ली या श्रीनगर में सुरक्षा प्रतिष्ठान की योजनाओं के बारे में अनुमान जताने से इनकार करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘राजनीतिक स्तर पर गतिविधियां जल्द से जल्द बहाल करने की जरूरत है।’’ 

माधव ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से भूतपूर्व राज्य जम्मू कश्मीर में बड़े बदलाव हुए हैं। 

उन्होंने थिंक टैंक ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ओआरएफ) द्वारा आयोजित ‘अनुच्छेद 370 के बाद कश्मीर’ पर एक चर्चा में कहा, ‘‘जब भी पहला अवसर आएगा तो नयी तरह की राजनीतिक गतिविधियां बहाल होंगी। मैं बहुत उत्सुक हूं कि अवसर जल्द से जल्द आए।’’ 

इस चर्चा में भाग लेते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर ने कश्मीर में राजनीतिक नेताओं को एहतियातन हिरासत में लेने पर सवाल उठाया। 

उन्होंने कहा, ‘‘इससे निश्चित तौर पर सवाल पैदा होता है : आप किस मानदंड का इंतजार कर रहे हैं? क्योंकि याद रखिए कि कोई वस्तुनिष्ठ बाधाएं नहीं थी जिसके चलते सबसे पहले गिरफ्तारी की गई।’’ 

थरूर ने कहा कि जब इन नेताओं को रिहा किया जाएगा तो प्रदर्शन अब से तीन महीने बाद भी उतने ही होंगे जितना तीन महीने पहले उन्हें रिहा करने पर होते। 

क्षेत्र में स्थिति के बारे में कांग्रेस नेता ने कहा कि जम्मू कश्मीर में हालात काफी खराब हैं। 

उन्होंने कहा, ‘‘अगस्त में क्या हुआ और इसके बाद अंतरराष्ट्रीय रूप से हमें काफी नुकसान हुआ।...हमें अपनी खोई हुई जमीन वापस पाने के लिए अथक प्रयास करने होंगे। जो आधार हमने खोया है वह बहुत गंभीर है।’’ 

इसका विरोध करते हुए माधव ने कहा कि तकरीबन 200 नेता हिरासत में हैं। उन्होंने कहा, ‘‘क्या हम यह कहने की कोशिश कर रहे हैं कि पूरे कश्मीर में ये 200 नेता ही हैं। नहीं? कई नेता बाहर हैं।’’