BREAKING NEWS

देश में कोरोना मामले 81 लाख के करीब, एक्टिव केस छह लाख से कम◾बिहार चुनाव में CM नीतीश का आरक्षण पर बड़ा दांव, आबादी के हिसाब से मिले लोगों को रिजर्वेशन ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप तेज, वैश्विक स्तर पर संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े 4 करोड़ के करीब ◾आज का राशिफल ( 30 अक्टूबर 2020 )◾आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत फ्रांस के साथ : PM मोदी◾PM मोदी आज से दो दिन के गुजरात दौरे पर, देश की पहली सी-प्लेन सेवा का करेंगे उद्घाटन◾CSK vs KKR ( IPL 2020 ) : रुतुराज और जडेजा ने चेन्नई सुपरकिंग्स को दिलाई जीत, मुंबई प्ले आफ में◾जम्मू कश्मीर के कुलगाम में आतंकी हमला, भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या◾कांग्रेस 31 अक्टूबर को मनाएगी ‘किसान अधिकार दिवस’, जिला मुख्यालयों पर देगी धरना◾नीतीश की दोहरी चुनौती : NDA के भीतर पार्टी को शीर्ष स्थान पर रखना, सत्ता बरकरार रखना◾एस जयशंकर ने यूनान के विदेश मंत्री डेंडियास से वार्ता की◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बिहार में NDA गठबंधन की मजबूत सरकार बनेगी : रविशंकर प्रसाद ◾पाकिस्तान का कबूलनामा, मंत्री फवाद चौधरी ने कहा- पुलवामा हमला इमरान सरकार की बड़ी उपलब्धि◾राहुल को घेरे जाने पर कांग्रेस का पलटवार - बिहार चुनाव में हार तय देखकर BJP को याद आया पाकिस्तान◾सपा का बसपा पर जोरदार हमला , कहा - मायावती ने खुद ही खोली अपनी पोल◾केशुभाई पटेल के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद ने जताया शोक, कहा - देश ने एक महान नेता खोया◾बंबई उच्च न्यायालय ने केंद्र से पूछा - क्या 'अत्यधिक' मीडिया रिपोर्टिंग से न्याय बाधित होता है ? ◾दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण रोकने के लिए नया कानून लागू - 1 करोड़ का जुर्माना, 5 साल की जेल◾फ्रांस: नीस के गिरिजाघर में आतंकी ने किया चाकू से हमला, कम से कम दो लोगों की ली जान◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जम्मू कश्मीर में जल्द से जल्द राजनीतिक गतिविधियां बहाल होनी चाहिये : राम माधव

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 100 से अधिक दिन बीतने का जिक्र करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता राम माधव ने मंगलवार को कहा कि वह केंद्र शासित प्रदेश में ‘‘जल्द से जल्द’’ राजनीतिक गतिविधियों को बहाल करने के पक्ष में हैं। 

उन्होंने जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर विभिन्न वर्गों की मांगों पर कहा कि ये मांगें संविधान के दायरे के भीतर होनी चाहिए। 

उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘मैं व्यक्तिगत रूप से इसके पक्ष में हूं, कम से कम अब फैसला किए हुए तकरीबन 100 दिन हो चुके हैं तो घाटी में कुछ हद तक राजनीतिक गतिविधियां शुरू होनी चाहिए।’’ 

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव माधव ने कहा, ‘‘मैं अपनी पार्टी में भी इसके बारे में बात कर रहा हूं। उम्मीद है कि हम इस बारे में कुछ कर पाएंगे।’’ उन्होंने कहा कि जम्मू में सामान्य राजनीतिक गतिविधियां हो रही हैं। 

यह पूछे जाने पर कि कश्मीर में एहतियातन हिरासत में लिये गए नेताओं को रिहा करने से सरकार को क्या चीज रोक रही है, इस पर उन्होंने कहा कि चाहे सरकार अपना रुख बताए या न बताए लेकिन ‘‘इसमें कोई शक’’ नहीं है कि जिस दिन ये नेता बाहर आ जाएंगे उस दिन वे निश्चित तौर पर प्रदर्शनों का नेतृत्व करेंगे। 

उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि ये प्रदर्शन लोकतांत्रिक तथा शांतिपूर्ण हों। कोई भी नहीं कहता कि कोई प्रदर्शन नहीं होना चाहिए। यह लोकतंत्र है, प्रदर्शन तो होंगे।’’ 

इस संबंध में दिल्ली या श्रीनगर में सुरक्षा प्रतिष्ठान की योजनाओं के बारे में अनुमान जताने से इनकार करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘राजनीतिक स्तर पर गतिविधियां जल्द से जल्द बहाल करने की जरूरत है।’’ 

माधव ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से भूतपूर्व राज्य जम्मू कश्मीर में बड़े बदलाव हुए हैं। 

उन्होंने थिंक टैंक ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ओआरएफ) द्वारा आयोजित ‘अनुच्छेद 370 के बाद कश्मीर’ पर एक चर्चा में कहा, ‘‘जब भी पहला अवसर आएगा तो नयी तरह की राजनीतिक गतिविधियां बहाल होंगी। मैं बहुत उत्सुक हूं कि अवसर जल्द से जल्द आए।’’ 

इस चर्चा में भाग लेते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर ने कश्मीर में राजनीतिक नेताओं को एहतियातन हिरासत में लेने पर सवाल उठाया। 

उन्होंने कहा, ‘‘इससे निश्चित तौर पर सवाल पैदा होता है : आप किस मानदंड का इंतजार कर रहे हैं? क्योंकि याद रखिए कि कोई वस्तुनिष्ठ बाधाएं नहीं थी जिसके चलते सबसे पहले गिरफ्तारी की गई।’’ 

थरूर ने कहा कि जब इन नेताओं को रिहा किया जाएगा तो प्रदर्शन अब से तीन महीने बाद भी उतने ही होंगे जितना तीन महीने पहले उन्हें रिहा करने पर होते। 

क्षेत्र में स्थिति के बारे में कांग्रेस नेता ने कहा कि जम्मू कश्मीर में हालात काफी खराब हैं। 

उन्होंने कहा, ‘‘अगस्त में क्या हुआ और इसके बाद अंतरराष्ट्रीय रूप से हमें काफी नुकसान हुआ।...हमें अपनी खोई हुई जमीन वापस पाने के लिए अथक प्रयास करने होंगे। जो आधार हमने खोया है वह बहुत गंभीर है।’’ 

इसका विरोध करते हुए माधव ने कहा कि तकरीबन 200 नेता हिरासत में हैं। उन्होंने कहा, ‘‘क्या हम यह कहने की कोशिश कर रहे हैं कि पूरे कश्मीर में ये 200 नेता ही हैं। नहीं? कई नेता बाहर हैं।’’