BREAKING NEWS

अमित शाह ने केजरीवाल पर लगाया दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप ◾मैंने अपना भगवा रंग नहीं बदला है : उद्धव ठाकरे◾राज की मनसे ने अपनाया भगवा झंडा, घुसपैठियों को बाहर करने के लिए मोदी सरकार को समर्थन◾भाजपा नेता ने मोदी को चेताया, देश बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ◾पासवान से मिला ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल, एथेनॉल प्रौद्योगिकी साझेदारी पर बातचीत◾हिंदू समाज में साधु-संतों को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती : अखिलेश◾पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें : ठाकरे◾दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾‘हिंदुत्व’ की राह पर निकले राज ठाकरे, MNS का नया झंडा लॉन्च किया◾

बाल ठाकरे की पुण्यतिथि पर तेज हुई राजनीति

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की खींचतान के बीच शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की सातवीं पुण्यतिथि पर रविवार को राजनीति जोरों पर रही। 

पहली बार कांग्रेस व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने रविवार को शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बाल ठाकरे को संदेश के जरिए और दादर पश्चिम में शिवाजी पार्क में स्थित ठाकरे के स्मारक शिव तीर्थ जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता भी दिवंगत सेना सुप्रीमो को श्रद्धांजलि देने में शामिल रहे।

 

महाराष्ट्र भर से आए हजारों शिव सैनिकों ने पंक्तिबद्ध होकर शिव तीर्थ पर अपने करिश्माई व फायरब्रांड नेता बाल ठाकरे को श्रद्धांजलि दी। ठाकरे का 17 नवंबर 2012 को निधन हो गया था। 

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने बाल ठाकरे को श्रद्धांजलि अर्पित की जिनके साथ उनके गर्मजोशी भरे निजी संबंध थे। पवार, एक पार्टी बैठक के लिए पुणे में थे। 

पवार ने कहा, 'बाला ठाकरे ने अपनी आवाज आत्म सम्मान व मराठी मानुष के गौरव के लिए बुलंद की। वह एक साहसी व्यक्ति थे और विशिष्ट वक्ता थे।' 

बाद में राकांपा के राज्य अध्यक्ष जयंत पाटील, पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल और जितेंद्र अवहाद भी शिवाजी पार्क पहुंचे, जहां 'शिव तीर्थ' स्थित है और श्रद्धांजलि अर्पित की। 

दिवंगत नेता के पूर्व में करीबी रहे छगन भुजबल भावुक दिखाई दिए और उन्होंने दिवंगत ठाकरे के साथ बिताए गए दिनों को याद किया। 

भाई जगताप सहित कांग्रेस नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी और महाराष्ट्र के लोगों व राज्य के लिए उनकी सेवाओं को याद किया। 

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, उनकी पत्नी रश्मि, परिवार के दूसरे सदस्य व पार्टी के शीर्ष नेताओं ने शिवाजी पार्क जाकर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की और दिवंगत ठाकरे की प्रतिमा के समक्ष नमन किया।

 

इसके कुछ समय बाद पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उनके पूर्व मंत्रिमंडलीय सहयोगी विनोद तावड़े व पंकजा मुंडे ने भी पुष्पांजलि अर्पित की। 

इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट कर कहा कि बालासाहेब ने हमें आत्म सम्मान की सीख दी। इसके साथ उन्होंने वीडियो भी पोस्ट किया। 

वे शिवतीर्थ प्रतिमा के अंदर नहीं गए, जहां शिवसेना नेता व अध्यक्ष उद्धव ठाकरे मौजूद थे। फडणवीस व दूसरे नेता श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद जल्द ही वहां से चले गए, क्योंकि कुछ शिव सैनिक फडणवीस के चुनावी नारे 'मैं लौटूंगा' व 'छत्रपति शिवाजी महाराज की जय' के नारे लगाते दिखाई दिए। 

सेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि बाल ठाकरे ने पार्टी व देश को हिंदुत्व का रास्ता दिखाया था। 

राउत ने कहा, 'शिवसेना ने उन्हें (बाल ठाकरे को) अपना मुख्यमंत्री देने का वादा किया था और आप देखेंगे कि सपना जल्द ही हकीकत बनेगा।'

 

गौरतलब है कि कांग्रेस-राकांपा व शिवसेना वर्तमान में राज्य में सरकार बनाने से पहले अपने गठबंधन को अंतिम रूप देने में जुटी हैं। 

भाजपा अभी भी उम्मीद लगाए है कि शिवसेना का दिल बदलेगा और वह उसके पास आएगी। 

औपचारिक रूप से विभाजन का संकेत देते हुए शिवसेना ने रविवार को राजग की एक महत्वपूर्ण बैठक में भाग नहीं लिया, जबकि पार्टी के सांसदों के लिए सोमवार से शुरू हो रहे शीतकालीन सत्र में विपक्ष के साथ बैठने की नई व्यवस्था की गई है। 

वरिष्ठ राकांपा नेता अजीत पवार ने कहा कि शिवसेना के साथ गठबंधन को अंतिम रूप देने के लिए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी व राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार की नई दिल्ली में मंगलवार को बैठक निर्धारित है।