BREAKING NEWS

RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾पुतिन ने यूक्रेन के इलाकों को रूस का हिस्सा किया घोषित , कीव और पश्चिमी देशों ने किया खारिज , EU ने कहा -कभी मान्यता नहीं देंगे ◾आखिर ! क्या होगा सोनिया का फैसला ?, अब सब की निगाहें राजस्थान पर◾PM मोदी ने अंबाजी मंदिर में प्रार्थना की, गब्बर तीर्थ में ‘महा आरती’ में हुए शामिल◾Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के 459 नए मामले, 5 मरीजों की मौत◾शाह के दौरे से पहले कश्मीर को दहलाना चाहते थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने बरामद किया जखीरा ◾भाजपा ने थरूर को घोषणापत्र में भारत का विकृत नक्शा दिखाने पर लिया आड़े हाथ, जानें क्या कहा ... ◾कार्यकर्ताओं से थरूर का वादा - बंद करूंगा एक लाइन की पंरपरा, क्षत्रपों को दूंगा बढ़ावा ◾कांग्रेस का अध्यक्ष मैं हूं? थरूर बोले- पार्टी को लेकर मेरा अपना दृष्टिकोण.... मैं हूं शशि पीछे नहीं हटूंगा ◾KCR द्वारा राष्ट्रीय पार्टी की औपचारिक घोषणा के बाद विमान खरीदेगा टीआरएस ◾अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾ अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबूल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾पंजाब : कांग्रेस ने भगवंत मान पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, पूछा- क्या हुआ उन उपदेशों का ?◾CDS जनरल चौहान ने कार्यभार संभालने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में नामांकन कर सबको चौंकाने वाले केएन त्रिपाठी कौन ? चुनाव को लेकर कितने गंभीर ◾इलाहाबाद HC ने मुख्यमंत्री योगी द्वारा दिए गए राजस्थान में आपत्तिजनक भाषण पर दायर याचिका को खारिज किया ◾

भारत के लिए प्रदूषण बना बड़ी चिंता! दिल्ली में हर साल हजारों की जाती है जान

दुनिया में पर्यावरण  प्रदूषण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। भारत के कई शहर दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में शुमार हैं। पीएम 2.5 प्रदूषण की वजह से दिल्ली और कोलकाता में 2019 में प्रति एक लाख आबादी पर क्रमश: 106 और 99 लोगों की मौत हुई। अमेरिका के ‘हेल्थ इफेक्ट इंस्टीट्यूट’ की एक नयी रिपोर्ट में बुधवार को यह कहा गया।

दिल्ली में प्रदूषण से कई लोगों की मौत 

वर्ष 2019 में, दिल्ली ने 110 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर की वार्षिक औसत पीएम 2.5 सांद्रता दर्ज की, जो दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले शहरों में सबसे ज्यादा है। इसके बाद, कोलकाता (84 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर) का स्थान है। ‘हेल्थ इफेक्ट इंस्टीट्यूट’ और ‘द इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन’ के ‘ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज’ प्रोजेक्ट के बीच तालमेल से शुरू ‘स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर इनिशिएटिव’ द्वारा ‘‘शहरों में वायु गुणवत्ता और स्वास्थ्य’’ रिपोर्ट तैयार की गई।

यह रिपोर्ट 2010 से 2019 तक 7,239 शहरों (50,000 की न्यूनतम आबादी के साथ) में वायु प्रदूषण जोखिम और संबंधित स्वास्थ्य प्रभावों पर डेटा का सारांश प्रस्तुत करती है। यह दुनिया भर के शहरों के लिए वायु गुणवत्ता अनुमान व्यक्त करने के लिए उपग्रहों और मॉडल के साथ जमीन आधारित वायु गुणवत्ता डेटा को जोड़ती है।

दिल्ली-कोलकाता दुनिया के सबसे प्रदूषित शहर

पीएम 2.5 अति सूक्ष्म कण (2.5 माइक्रोन या उससे कम व्यास वाले) होता है जो फेफड़ों और श्वसन पथ में सूजन को बढ़ाता है। इससे कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली सहित हृदय और श्वसन संबंधी समस्याएं होने का खतरा रहता है। चीन में बीजिंग में 2019 में पीएम 2.5 के उच्चतम स्तर के कारण मृत्यु दर 124 थी। रैंकिंग में दिल्ली और कोलकाता क्रमशः छठे और आठवें स्थान पर थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण पूर्व एशिया के शहरों में पीएम 2.5 का स्वास्थ्य पर असर तेजी से बढ़ा है।

रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘2010 से 2019 तक 7,239 शहरों का विश्लेषण किया गया। पाया गया कि पीएम 2.5 की वजह से मृत्यु दर में सबसे अधिक वृद्धि वाले सभी 20 शहर दक्षिण-पूर्व एशिया में स्थित हैं, जिसमें इंडोनेशिया के 19 शहर और मलेशिया के एक शहर शामिल हैं। सभी 20 शहरों में 2010 की तुलना में 2019 में पीएम 2.5 की मात्रा में 10 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से ज्यादा की वृद्धि हुई।’’

दुनिया भर में प्रदूषण बड़ी चिंता 

वर्ष 2019 में, 7,239 शहरों में पीएम 2.5 खतरों की वजह से 17 लाख मौतें हुईं, जिनमें एशिया, अफ्रीका और पूर्वी और मध्य यूरोप के शहरों में स्वास्थ्य पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा। रिपोर्ट में कहा गया है कि नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (एनओ2) प्रदूषण के भौगोलिक पैटर्न पीएम 2.5 प्रदूषण के लिए देखे गए पैटर्न से काफी अलग हैं। पीएम 2.5 प्रदूषण निम्न और मध्यम आय वाले देशों के शहरों में सबसे अधिक होता है, जबकि एनओ2 का स्तर सभी आय स्तरों के देशों के बड़े शहरों में अधिक होता है।

गरीब देशों में प्रदूषण भी ज्यादा 

पीएम 2.5 प्रदूषण निम्न और मध्यम आय वाले देशों के शहरों में सबसे अधिक होता है, जबकि एनओ2 का स्तर सभी आय स्तरों के देशों के बड़े शहरों में अधिक होता है। लगभग सभी सबसे अधिक आबादी वाले शहरों (103 शहरों में से 81) ने एनओ2 प्रदूषण की सूचना दी, जो वैश्विक औसत 15.5 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से अधिक है। रिपोर्ट में कहा गया कि 41.6 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर के साथ चीन में शंघाई 2019 में एनओ2 का सबसे अधिक प्रदूषण रहा।

एनओ2 मुख्य रूप से पुराने वाहनों, बिजली संयंत्रों, औद्योगिक इकाइयों और घरों में खाना पकाने और गर्माहट के लिए इस्तेमाल ईंधन के जलने से निकलता है। चूंकि शहर के निवासी घनी यातायात वाली व्यस्त सड़कों के करीब रहते हैं, इसलिए वे अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों की तुलना में अधिक एनओ2 प्रदूषण के संपर्क में आते हैं।

प्रदूषण से हर साल करोड़ो लोग प्रभावित 

वर्ष 2019 में, रिपोर्ट में शामिल 7,239 शहरों में से 86 प्रतिशत ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के एनओ2 के लिए 10 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दिशा-निर्देश पार किया, जिससे लगभग 2.6 अरब लोग प्रभावित हुए। परियोजना समन्वयकों में से एक, जॉर्ज वाशिंगटन विश्वविद्यालय की डॉ सुसान एनेनबर्ग ने कहा, ‘‘चूंकि दुनिया भर के अधिकतर शहरों में जमीन आधारित वायु गुणवत्ता निगरानी की व्यवस्था नहीं है, इसलिए वायु गुणवत्ता प्रबंधन की योजना के लिए अनुमानित अति सूक्ष्म कण और गैस प्रदूषण के स्तर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे सुनिश्चित होगा कि हवा स्वच्छ और सांस लेने के लिए सुरक्षित है।’’

रिपोर्ट में निम्न और मध्यम आय वाले देशों में डेटा अंतराल पर भी प्रकाश डाला गया, जो वायु प्रदूषण के स्वास्थ्य प्रभावों को समझने और संबोधित करने का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा 

डब्ल्यूएचओ के वायु गुणवत्ता डेटाबेस के अनुसार, वर्तमान में केवल 117 देशों के पास पीएम 2.5 को ट्रैक करने के लिए जमीनी स्तर की निगरानी प्रणाली है, और केवल 74 राष्ट्र एनओ 2 स्तर की निगरानी कर रहे हैं। जमीनी स्तर की वायु गुणवत्ता निगरानी प्रणालियों में रणनीतिक निवेश और लक्षित क्षेत्रों में उपग्रहों और अन्य उभरती प्रौद्योगिकियों का विस्तारित उपयोग स्वच्छ हवा की दिशा में पहला महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।