BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : सरकार बनाने की राह में आदित्य को सीएम बनाने की मांग से बाधा ◾आतंक वित्तपोषण : प्रवर्तन निदेशालय ने सलाहुद्दीन, अन्य से जुड़ी सम्पत्तियों को कब्जे में लिया ◾श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति 29 नवम्बर को आयेंगे भारत की यात्रा पर : जयशंकर ◾रजनीकांत, हासन ने तमिलनाडु की भलाई के लिए हाथ मिलाने के दिए संकेत◾जम्मू कश्मीर में जल्द से जल्द राजनीतिक गतिविधियां बहाल होनी चाहिये : राम माधव ◾पाक नापाक हरकतें करता रहता है : राजनाथ ◾पाक नापाक हरकतें करता रहता है : राजनाथ ◾सोनिया ने दिल्ली के वायु प्रदूषण पर चिंता जताई ◾लोकसभा में उठा प्रदूषण का मुद्दा: पराली जलाने के बजाय वाहनों, उद्योगों को ठहराया गया जिम्मेदार . संसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर पहुंचे श्रीलंका , नये राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकात◾आप' के साथ दिल्ली के 'वाटर-वार' में कूदे पासवान◾दिल्ली में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 5.0 रही तीव्रता◾TOP 20 NEWS 19 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या फैसले पर ओवैसी फिर बोले- SC का फैसला किसी भी तरह से ‘पूर्ण न्याय’ नहीं ◾भाजपा के कार्यकर्ताओं ने CM केजरीवाल के गुमशुदगी पोस्टर लगाए, किया प्रदर्शन ◾ममता बनर्जी के 'अल्पसंख्यक अतिवादी' वाले बयान पर ओवैसी ने किया पटलवार ◾JNU विवाद : जीवीएल नरसिम्हा बोले-नर्सरी में एक लाख फीस देने वालों को उच्च शिक्षा के लिए 50 हजार देने में दिक्कत क्यों◾आर्थिक मंदी को लेकर 30 नवंबर को कांग्रेस की होने वाली रैली स्थगित हुई ◾महाराष्ट्र सरकार गठन पर सोनिया के घर हुई बैठक, अहमद, एंटनी और खड़गे भी हुए शामिल◾सांसदों ने आसन के समीप आकर की नारेबाजी, लोकसभा अध्यक्ष ने दी चेतावनी◾

देश

प्रदूषण एक बार फिर आपात श्रेणी में पहुंचा

सीपीसीबी की अगुवाई वाले एक कार्यबल ने यहां होने वाले आसियान सम्मेलन के दौरान वायु प्रदूषण को काबू में रखने के लिए दिल्ली और एनसीआर में 15 जनवरी से एक पखवाड़ के लिए कोयला आधारित उद्योगों को बंद करने की आज सिफारिश की। केंद्र द्वारा अधिसूचित क्रमिक जवाबी कार्वाई योजना (जीआरएपी) के तहत गठित इस कार्यबल ने प्रदूषण के एक बार फिर आपात स्तर तक पहुंच जाने के आलोक में विभिन्न प्रस्तावों के तहत ईपीसीए से यह सिफारिश की है। आसियान सम्मेलन राष्ट्रीय राजधानी में 19 से 30 जनवरी के बीच होने वाला है। पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम एवं नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) ने भी दिल्ली, हरियाण, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के मुख्य सचिवों को जीआरएपी)) की आपात श्रेणी के तहत अगले दौर की कार्वाई के लिए तैयार रहने के लिए पत्र लिखा है। उसके तहत सम-विषम योजना भी शामिल है। सीपीसीबी कार्यबल ने स्थिति की समीक्षा के बाद यह सिफारिश भी की कि राज्य निजी वाहनों के लिए युक्तिसंगत योजना को लागू करने में तत्परता दिखाएं, वैसे आपात सेवाएं उनका अपवाद हो सकती हैं।

कार्यबल के सदस्य स्वास्थ्य विशेषज्ञ टी के जोशी ने पीटीआई भाषा से कहा कि इस क्षेत्र में कोयला आधारित ताप बिजली संयंत्रों को बंद करने की सिफारिश भी विचाराधीन है लेकिन इसे फिलहाल मुल्तवी कर दिया गया है क्योंकि यह प्रतिकूल फलदायक भी हो सकता है। जोशी ने कहा, इससे बिजली का संकट पैदा हो सकता है, तत्पश्चात डीजल जेनरेटरों का उपयोग होने लगेगा जो पहले से ही प्रतिबंधित है। हम लगातार स्थिति की समीक्षा करेंगे क्योंकि यह स्थिति कुछ और दिन तक बनी रह सकती है। आज दोपहर एक बजे पीएम 2.5 की सांद्रता 320.9 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर और पीएम 10 की सांद्रता 496 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी। पीएम 10 की सांद्रता 500 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर की आपात सीमा से महज चार इकाई कम थी। शाम छह बजे पीएम 2.5 की सांद्रता 314 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर और पीएम 10 की सांद्रता 487 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी। केंद्र द्वारा अधिसूचित क्रमिक जवाबी कार्वाई योजना (जीआरएपी))) के तहत जब पीएम 2.5 और पीएम 10 के अतिसूक्ष्म कण क्रमश: 300 और 500 माइक्रोक्रोम प्रति घनमीटर से अधिक हो जाते हैं तो उस प्रदूषण को गंभीर से अधिक या आपात श्रेणी का प्रदूषण समझा जाता है। जब ऐसी स्थिति 48 घंटे से भी ज्यादा देर तक बनी रहती है तो आपात श्रेणी के उपाय करने होते हैं।

बैठक के ब्योरे में कहा गया है, कार्यबल ने दिल्ली एनसीआर के लिए वायु की गुणवथा की समीक्षा की। आज सुबह सात बजे से गंभीर से भी अधिक वायु गुणवथा बनी हुई है। भारतीय मौसम विभाग ने सुबह में कम हवा तथा मध्यमाघने कोहरे का अनुमान लगाया है। यदि ईपीसीए आपात कार्ययोजना की अधिसूचना जारी करता है, जो नवंबर में धुंध के दौरान की गयी थी, तब ट्रकों के प्रवेश, निर्माण गतिविधियों पर रोक, सम-विषम वाहन परियोजना जैसे उपाय शहर में लागू किए जा सकते हैं। पहले दौर में ये उपाय आठ नवंबर को किये गये थे जो 16 नवंबर को वापस लिये गये थे जब धुंध छंट गई थी। नवीनतम गंभीर प्रदूषण 19 दिसंबर की रात को शुरु हुआ जो लगातार बढ़ है। इसकी वजह हवा की रफ्तार में भारी गिरावट है जिससे प्रदूषक नहीं छितराते हैं।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।