BREAKING NEWS

तालिबान ने शुरू की हैवानियत, मुख्य चौराहे पर शव को क्रेन से लटका कर दी सजा ◾नकवी का कांग्रेस पर तंज- वोटों के ‘सियासी सौदागरों’ ने आजादी के बाद 75 वर्षों तक अल्पसंख्कों को दिया धोखा◾पंजाब में बदलाव का दौर जारी, छुट्टी पर गए DGP, अब इकबाल सिंह सहोता को मिला चार्ज◾कैप्टन के करीबियों को नहीं मिली चन्नी केबिनेट में जगह, सात नए चेहरे के शामिल होने की संभावना◾हमारा मकसद राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रणनीतिक संबंध बनाना : राजनाथ सिंह◾भारत और अमेरिका का तालिबान से आग्रह- अफगानों के मानवाधिकारों का सम्मान करते हुए प्रतिबद्धताओं को करें पूरा◾भारत-US ने 26/11 हमले के दोषियों पर कार्रवाई का किया आह्वान, कहा- आतंकवाद के खिलाफ एक साथ खड़े हैं◾BJP अध्यक्ष नड्डा बोले- PM मोदी के नेतृत्व में बदल रही है भारत की तस्वीर, तेजी से हो रहा विकास◾इमरान खान का अंतरराष्ट्रीय समुदाय से गुहार- तालिबान नीत अफगानिस्तान सरकार को दी जाए मान्यता ◾रोहिणी कोर्टरूम शूटआउट मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस, परिसर के बाहर पुलिस बल तैनात ◾बाइडन की मोदी के साथ पहली बैठक से अमेरिकी संसद उत्साहित, क्वाड शिखर वार्ता का किया स्वागत ◾केरल में कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, प्रमुख नेता वी.एम. सुधीरन ने पीएसी छोड़ी ◾भाजपा जनसंख्या के अनुपात में पिछड़े वर्ग को हक़ नहीं देना चाहती : अखिलेश यादव ◾देशभर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 29616 नए केस की पुष्टि, 290 लोगों की मौत◾क्वाड नेताओं ने बिना नाम लिए पाकिस्तान को लताड़ा, 'पर्दे के पीछे से आतंकवाद’ के इस्तेमाल की निंदा की◾जानिए कौन है स्नेहा दुबे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर की इमरान की बोलती बंद◾विश्व में जारी है कोरोना महामारी का प्रकोप, संक्रमितों का आंकड़ा 23.11 करोड़ से अधिक ◾UNGA में भारत का इमरान खान को मुंहतोड़ जवाब- पाकिस्तान तुरंत POK को खाली करे◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे न्यूयॉर्क, आज UNGA के 76वें अधिवेशन को करेंगे संबोधित ◾PM मोदी एक अक्टूबर को ‘स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0’ की करेंगे शुरुआत : अधिकारी◾

कोरोना की दूसरी लहर में गर्भवती महिलाएं पहली की तुलना में अधिक प्रभावित हुई, वैक्सीनेशन जरूरी : ICMR

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान संस्थान (आईसीएमआर) की एक स्टडी के मुताबिक कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने पहली लहर की तुलना में गर्भवती और शिशुओं को जन्म देने वाली महिलाओं को अधिक असर डाला है। इस साल में गंभीर लक्षण वाले मामले और मृत्यु दर भी पहली लहर के अपेक्षाकृत अधिक रही। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान संस्थान (आईसीएमआर) ने बुधवार को कहा कि भारत में महामारी की पहली लहर (एक अप्रैल, 2020 से 31 जनवरी, 2021 तक) और दूसरी लहर (एक फरवरी, 2021 से 14 मई तक) के दौरान गर्भवती और शिशुओं को जन्म देने वाली महिलाओं से संबंधित संक्रमण के मामलों की तुलना की गयी।

आईसीएमआर ने कहा, ‘‘दूसरी लहर में लक्षण वाले संक्रमण के मामले 28.7 प्रतिशत थे जबकि पहली लहर में यह आंकड़ा 14.2 प्रतिशत था। गर्भवती महिलाओं और प्रसव के बाद महिलाओं में संक्रमण से मृत्यु दर 5.7 प्रतिशत थी जो पहली लहर में 0.7 की मृत्यु दर से अधिक रही।’’ अध्ययन के अनुसार महामारी की दोनों लहर में मारे गये लोगों में 2 प्रतिशत महिलाएं वो थीं जिन्होंने हाल ही में शिशुओं को जन्म दिया था। इनमें से अधिकतर महिलाओं ने कोविड-19 से संबंधित निमोनिया और सांस लेने में परेशानी संबंधी समस्याओं के कारण दम तोड़ दिया।

आईसीएमआर ने कहा, ‘‘यह अध्ययन कोविड-19 के खिलाफ गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के टीकाकरण के महत्व को रेखांकित करता है।’’ भारत में स्तनपान कराने वाली सभी महिलाओं के लिए टीका लगवाने की सिफारिश की गयी है।

हालांकि सरकार ने क्लीनिकल ट्रायल के आंकड़ों की कमी का हवाला देते हुए गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की अब तक अनुमति नहीं दी है। इस बारे में टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी परामर्श समूह (एनटीएजीआई) विचार-विमर्श कर रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने पिछले सप्ताह सिफारिश की थी कि अगर गर्भवती महिलाओं को कोविड का अत्यंत खतरा हो और अगर उन्हें अन्य बीमारियां हैं तो उन्हें टीका लगाया जाना चाहिए।।