BREAKING NEWS

सावधान ! चीनी मांझे का खतरा बरकरार, कुछ लोगों की जा चुकी है जान, कई लोग घायल◾उद्धव ने CM शिंदे पर साधा निशाना , कहा - शिवसेना कोई खुले में रखी चीज नहीं कि कोई उसे उठा ले जाए◾Independence Day : देशभक्ति के जोश में डूबी दिल्ली, तिरंगे से जगमगाती दिखी प्रतिष्ठित इमारतें◾दिल्ली में शनिवार को सामने आए कोरोना वायरस संक्रमण के 2,031 नए मामले, साथ ही दर्ज हुई नौ और मरीजों की मौत ◾स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करेंगी राष्ट्रपति मुर्मू◾आज का राशिफल (14 अगस्त 2022)◾‘हर घर तिरंगा’ मुहिम को मिली प्रतिक्रिया से बहुत खुश एवं गौरवान्वित हूं : PM मोदी◾हर घर तिरंगा अभियान : मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय पर फहराया तिरंगा ◾CM योगी ने वीर जवानों की सराहना की , कहा - देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया◾NGT चीफ और जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से की मुलाकात ◾विपक्ष के 11 दलों ने ईवीएम, धनबल और मीडिया के ‘दुरुपयोग’ के खिलाफ लड़ने का किया संकल्प◾ पाक : बारूदी सुरंग हमले में एक जवान की मौत, दो घायल◾ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं- लोगों से अपने घरों पर तिरंगा फहराने का आग्रह करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं मोदी ◾J-K News: जम्मू कश्मीर में आतंकियों का कहर! श्रीनगर में ग्रेनेड हमले में CRPF का एक जवान घायल◾जयराम ठाकुर ने कहा- पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग से केंद्र को अवगत कराऊंगा◾ उपराज्यपाल सिन्हा का दावा - आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील ठोकेगी सरकार◾Delhi: सिसोदिया ने कहा- स्कूलों के छात्र उद्यमिता......... कम उम्र में स्टार्ट-अप स्थापित कर रहे◾16 को होगा महागठबंधन सरकार का शपथ ग्रहण समारोह, कांग्रेस की भागीदारी तय ◾तिरंगा अभियान पर मोदी की मां ने बढ़ चढ़कर लिया भाग, पीएम की मां ने बाटे तिरंगे◾आत्मनिर्भर चाय वाली मोना पटेल की चर्चा देश में होगी और वह ब्रांड बनेगी:चिराग पासवान◾

President Election: द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में विपक्ष एकजुट? लगातार बढ़ रही यशवंत सिन्हा की मुश्किलें

राष्ट्रपति चुनाव के लिए यशवंत सिन्हा की उम्मीदवारी ने कमोबेश विपक्ष को एकजुट किया है, लेकिन महाराष्ट्र में हालिया राजनीतिक घटनाक्रम के बाद संतुलन एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की ओर झुका हुआ है। सिन्हा खेमे की रणनीति चुनावी अंकगणित के बजाय व्यक्तित्व पर ध्यान केंद्रित करने की है इसलिए वह एनडीए उम्मीदवार के खिलाफ एक संपत्ति के रूप में अपने लंबे अनुभव का हवाला दे रहे हैं। दोनों ने अपना अभियान शुरू कर दिया है और राज्यों का दौरा कर रहे हैं।

यशवंत सिन्हा ने चुनावी करियर को लेकर कही यह बात 

सिन्हा ने कहा, यह मेरी आखिरी चुनावी लड़ाई होगी। मैंने अपने जीवन में कई चुनावी लड़ाई लड़ी और यह मेरी आखिरी लड़ाई है और मुझे बहुत खुशी है कि मैं देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद के लिए प्रतिस्पर्धा करके अपने चुनावी करियर पर हस्ताक्षर कर रहा हूं।

सिन्हा शनिवार को तेलंगाना में थे, जहां टीआरएस ने उन्हें अपना समर्थन देने की पेशकश की है। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने व्यक्तित्व कारक का हवाला देते हुए कहा, हम भाग्यशाली हैं कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक अच्छे नेता का चयन किया है। मैं सभी सांसदों से दोनों उम्मीदवारों की तुलना करने और सिन्हा जी का चयन करने की अपील करता हूं, क्योंकि हमें भारतीय राजनीति में बदलाव लाने की जरूरत है। 

महज रबर स्टैंप के अध्यक्ष नहीं, संविधान की करेंगे रक्षा :सिन्हा 

मोदी सरकार की आलोचना करने वाले सिन्हा का कहना है कि वह महज रबर स्टैंप के अध्यक्ष नहीं रहेंगे, बल्कि संविधान की रक्षा के लिए काम करेंगे। लेकिन अब तक सत्तारूढ़ दल को शिवसेना से अलग हुए गुट और बीजद और वाईएसआरसीपी के समर्थन के साथ आराम से रखा गया है। एनडीए राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू भी प्रचार अभियान में हैं और एनडीए के अलावा ओबीसी नेताओं या आदिवासियों के नेतृत्व वाली पार्टियों तक पहुंच रही हैं।

जद (यू) प्रमुख नीतीश कुमार सहित एनडीए के सभी सहयोगी एकजुट होकर भाजपा की पसंद का समर्थन कर रहे हैं। इसके अलावा, दो अन्य राजनीतिक दलों, बीजू जनता दल और वाईएसआरसीपी (ओडिशा और आंध्र प्रदेश में सत्ताधारी दल) के नेताओं ने द्रौपदी मुर्मू के नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर किए, जिससे उनके जीतने का मौका और मजबूत हो गया।

BSP प्रमुख मायावती ने मुर्मू को दिया समर्थन 

बसपा प्रमुख मायावती ने मुर्मू को अपना समर्थन देते हुए कहा कि आदिवासी पार्टी के आंदोलन का एक अभिन्न हिस्सा हैं। झारखंड मुक्ति मोर्चा, जो कांग्रेस के साथ गठबंधन में झारखंड में सत्ता में है, पर भी एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का समर्थन करने का दबाव है, क्योंकि मुर्मू राज्य के राज्यपाल रह चुकी हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बारे में कहा जाता है कि वह अलग विचार रखती हैं, क्योंकि उन्होंने कहा कि वह एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने पर विचार कर सकती थीं, अगर भाजपा ने उन्हें अपनी पसंद के बारे में पहले बता दिया होता।

द्रौपदी मुर्मू को विपक्ष से मिल रहा ज्यादा समर्थन 

ममता बनर्जी ने कहा, द्रौपदी मुर्मू के जीतने का एक बेहतर मौका है। अगर भाजपा ने मुझे पहले से सूचित किया होता कि वह एक आदिवासी महिला को अपने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारेगी, तो मैं अन्यथा सोच सकता था और उसी के अनुसार प्रयास कर सकता था। बड़े राष्ट्रीय हित के लिए, विपक्षी दल हो सकते थे तब इस मुद्दे पर चर्चा की। देश में बदलते राजनीतिक परिदृश्य और आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए द्रौपदी मुर्मू को विपक्षी दलों से अधिक समर्थन मिलने की संभावना है।

अपने ही गढ़ में मिली करारी हार के बाद अखिलेश का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय कार्यकारिणी समेत सभी संगठन भंग