BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 25 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- भ्रांति फैलाकर 2015 का विधानसभा चुनाव जीते केजरीवाल, इस बार विफल रहेंगे◾दिल्ली विधानसभा चुनाव : CM केजरीवाल बोले- संविधान की रक्षा करने का दायित्व देश के नागरिकों पर है◾राहुल ने भीमा-कोरेगांव मामले की NIA जांच को लेकर केंद्र सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने वरिष्ठ नेता आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी से मुलाकात की ◾दिल्ली विधानसभा चुनाव: भाजपा के पूर्व विधायक हरशरण सिंह बल्ली AAP में शामिल◾बुर्के को लेकर बवाल बढ़ने पर पटना के जेडी वीमेंस कॉलेज का यू-टर्न, जारी किया नया ड्रेस कोड◾प्रधानमंत्री मोदी और ब्राजील के राष्ट्रपति ने द्विपक्षीय संबंधों को प्रगाढ़ करने के मुद्दों पर चर्चा की, 15 समझौतों पर किये हस्ताक्षर ◾निर्भया मामला : कोर्ट ने कहा किसी नए दिशा-निर्देश की जरूरत नहीं, दोषियों के वकील की याचिका निपटाई ◾प्रशांत किशोर ने सुशील मोदी पर साधा निशाना, कहा- लोगों को चरित्र प्रमाणपत्र देने में इनका कोई जोड़ नहीं ◾देश में घुसे पाक और बांग्लादेशी घुसपैठियों को निकालो : शिवसेना ◾राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर PM मोदी और उपराष्ट्रपति नायडू ने दी बधाई, देशवासियों से की ये अपील◾मौलाना कल्बे सादिक बोले- देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा◾तुर्की में 6.8 तीव्रता का भूकंप, 18 लोगों की मौत◾...जब दिल्ली में चुनाव प्रचार खत्म कर कार्यकर्ता के घर पहुंचे अमित शाह, खाया खाना◾केंद्र सरकार ने भीमा कोरेगांव मामले की जांच NIA को सौंपी, महाराष्ट्र के गृहमंत्री देशमुख ने की निंदा◾पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी बोले- SCO बैठक के लिए भारत के आमंत्रण का है इंतजार◾फांसी टलवाने के लिए सभी हथकंडे आजमा रहे निर्भया के दोषी, तिहाड़ जेल प्रशासन के खिलाफ आज होगी सुनवाई◾रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ PMLA मामला : प्रवासी कारोबारी थम्पी की हिरासत 4 दिनों के लिए बढ़ी ◾3-4 दिनों में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा : बी एस येदियुरप्पा◾

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले- विश्व भारती ने राष्ट्र निर्माण में शानदार भूमिका निभाई

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने विश्व भारती विश्वविद्यालय की सराहना करते हुए उसे देश की संस्कृति और चरित्र को बरकरार रखने वाला करार देते हुए कहा कि इस संस्थान का उनका यह दौरा किसी तीर्थयात्रा से कम नहीं है। विश्वविद्यालय के वार्षिक दीक्षांत समारोह को परिदर्शक (विजिटर) के तौर पर संबोधित करते हुए कोविंद ने कहा कि शिक्षा के इस केंद्र ने राष्ट्र निर्माण में शानदार भूमिका निभाई है। 

उन्होंने कहा, “मैं इसे (विश्वविद्यालय के दौरे को) एक तीर्थयात्रा कहूंगा क्योंकि आधुनिक भारत की दो महान विभूतियां रवींद्रनाथ टैगोर (विश्वविद्यालय के संस्थापक) और महात्मा गांधी अक्सर यहां मिलते थे। यहीं से हम इन महान संतों के जीवन के सूत्रों और सबकों को समझकर उनसे शिक्षा ले सकते हैं।” कोविंद ने कहा कि 1935 में जब विश्वविद्यालय को कोष की नितांत आवश्यकता थी तब टैगोर ने गांधी से इस बारे में जिक्र किया और उन्हें 60 हजार रुपये का ड्राफ्ट प्राप्त हुआ। 

राष्ट्रपति ने जोर देकर कहा कि गुरुदेव (टैगोर) और महात्मा दोनों ही मानते थे कि सही शिक्षा राष्ट्र पुनर्निर्माण के लिये महत्वपूर्ण है। कोविंद ने कहा, “गुरुदेव ने (शिक्षा के) एक वैकल्पिक मॉडल का विचार किया जो प्रकृति के साथ करीबी संबंध की वकालत करती थी और विश्व भारती विश्वविद्यालय आज तक इस परंपरा का पालन कर रहा है।” उन्होंने कहा कि विश्वभारती की खासियत ऐसी है जिसे हमें “सहेजने और गर्व के साथ बरकरार रखने की जरूरत है।”

 

कोविंद ने छात्रों को अपने संबोधन में कहा, “यह वो जगह है जहां टैगोर जिये, काम किया और अपने सपनों को ठोस आकार दिया। जो समुदाय यहां हैं - छात्र, शिक्षा विद्, कर्मचारी, आश्रम में रहने वाले- वो उस समृद्ध विरासत के उत्तराधिकारी हैं जो यहां के संस्थापक आपके लिये छोड़कर गए हैं।” 

उन्होंने कहा, “इस संस्थान के पूर्व छात्रों में इंदिरा गांधी और सत्यजीत  जैसी शख्सियत रहे हैं जिन्होंने न सिर्फ काफी हद तक इस संस्थान के संस्थापक के सपनों को पूरा किया बल्कि स्वतंत्र भारत को नयी ऊंचाइयों तक ले जाने में भी योगदान दिया।” राष्ट्रपति ने कहा कि ऐसे वक्त में जब मशीनों और संपत्ति को प्रगति का पैमाना माना जाता है, विश्वभारती परंपरा और आधुनिकता के एक विशिष्ट मिश्रण के तौर पर सामने आया है।