BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री ने टीका निर्माताओं से उत्पादन क्षमता बढ़ाने को कहा, हरसंभव मदद का दिया आश्वासन ◾केंद्रीय मंत्रियों, भाजपा नेताओं ने प्रधानमंत्री के संबोधन को सराहा◾ऑक्सीजन की जरूरत वाले मरीजों का प्रतिशत पिछले दो दिन में कम हुआ : हर्षवर्धन ◾IPL-14 : मुंबई इंडियंस को मात देकर दूसरे नंबर पर पहुंची दिल्ली कैपिटल्स◾दिल्ली में लॉकडाउन के पहले दिन फिर से प्रवासी श्रमिक का सैलाब ◾देश में कोरोना का तांडव जारी : रोगियों की संख्या 20 लाख के पार, कई राज्यों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां◾PM मोदी ने अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ा , राज्यों पर डाली सारी जिम्मेदारी : कांग्रेस ◾ देश को लॉकडाउन से बचाना है, राज्य लॉकडाउन को अंतिम विकल्प मने : PM मोदी ◾कोविड ने लगाया लालू यादव की रिहाई में अड़ंगा, जेल से बाहर आने के लिए करना होगा एक सप्ताह का इंतजार◾UP: पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 से 163 लोगों की गई जान, सामने आए 29754 नए मरीज ◾दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी, कुछ घंटों के लिए ही बची: अरविंद केजरीवाल◾मीडिया दिखा रही है लाशों के ढेर, आम लोगों के बीच के बीच फैल रही महामारी की दहशत: विजयवर्गीय ◾महाराष्ट्र में सख्त हुई कोविड पाबंदियां, दिन में चार घंटे ही खुलेंगी सभी दुकानें◾ममता ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, केंद्र की टीकाकरण नीति को ‘खोखला और अफसोसनाक दिखावा’ बताया◾PM ने छवि चमकाने के लिए विदेशों में बांटी वैक्सीन, अपने देश में भंडार खाली होने पर की बिक्री शुरू : ममता ◾कोरोना संक्रमण के नए मामलों के 77 फीसदी से ज्यादा केस 10 राज्यों से आए सामने ◾कोरोना की वजह से स्थगित हुई UGC-NET की परीक्षा, 15 दिन पहले होगा नई तारीखों का ऐलान◾कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए झारखंड में 22 अप्रैल से एक सप्ताह का लॉकडाउन ◾दिल्ली मेट्रो ने लॉकडाउन के लिए परिचालन योजना में फिर किया बदलाव, पीक आवर्स में होगा 15 मिनट का गैप ◾कोरोना से संक्रमित हुए राहुल गांधी, संपर्क में आए लोगों से की सावधानी बरतने की अपील◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निजी अस्पतालों ने 'कोविड इलाज' के नाम पर बढ़ा-चढ़ाकर पैसे लिए, स्वास्थ्य पर खर्च काफी कम : रिपोर्ट

एक संसदीय समिति ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच सरकारी अस्पतालों में बेड की कमी और इस महामारी के इलाज के लिए विशिष्ट दिशानिर्देशों के अभाव में निजी अस्पतालों ने काफी बढ़ा-चढ़ाकर पैसे लिए। इसके साथ ही समिति ने जोर दिया कि स्थायी मूल्य निर्धारण प्रक्रिया से कई मौतों को टाला जा सकता था। 

स्वास्थ्य संबंधी स्थायी संसदीय समिति के अध्यक्ष राम गोपाल यादव ने राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू को ‘कोविड-19 महामारी का प्रकोप और इसका प्रबंधन' की रिपोर्ट सौंपी। सरकार द्वारा कोविड-19 महामारी से निपटने के संबंध में यह किसी भी संसदीय समिति की पहली रिपोर्ट है। समिति ने कहा कि 1.3 अरब की आबादी वाले देश में स्वास्थ्य पर खर्च 'बेहद कम है' और भारतीय स्वास्थ्य व्यवस्था की नाजुकता के कारण महामारी से प्रभावी तरीके से मुकाबला करने में एक बड़ी बाधा आयी। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि इसलिए समिति सरकार से सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली में अपने निवेश को बढ़ाने की अनुशंसा करती है। समिति ने सरकार से कहा कि दो साल के भीतर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 2.5 प्रतिशत तक के खर्च के राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयास करें क्योंकि वर्ष 2025 के निर्धारित समय अभी दूर हैं और उस समय तक सार्वजनिक स्वास्थ्य को जोखिम में नहीं रखा जा सकता है। 

दिल्ली में कोविड-19 से 118 और मरीजों की मौत, 6608 नये मामले सामने आये

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 में 2025 तक जीडीपी का 2.5 प्रतिशत स्वास्थ्य सेवा पर सरकारी खर्च का लक्ष्य रखा गया है जो 2017 में 1.15 प्रतिशत था। समिति ने कहा कि यह महसूस किया गया कि देश के सरकारी अस्पतालों में बेड की संख्या कोविड और गैर-कोविड मरीजों की बढ़ती संख्या के लिहाज से पर्याप्त नहीं थी। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि निजी अस्पतालों में कोविड के इलाज के लिए विशिष्ट दिशानिर्देशों के अभाव के कारण मरीजों को अत्यधिक शुल्क देना पड़ा। समिति ने जोर दिया कि सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी और महामारी के मद्देनजर सरकारी और निजी अस्पतालों के बीच बेहतर साझेदारी की जरूरत है। 

समिति ने कहा कि जिन डॉक्टरों ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में अपनी जान दे दी, उन्हें शहीद के रूप में मान्यता दी जानी चाहिए और उनके परिवार को पर्याप्त मुआवजा दिया जाना चाहिए।