BREAKING NEWS

महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, चिंताजनक और शर्मनाक : नायडू ◾ओवैसी ने लोकसभा में नागरिकता विधेयक की प्रति फाड़ी भाजपा सदस्यों ने संसद का अपमान बताया ◾पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों के दलों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया ◾अनुच्छेद 370 को रद्द किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर संविधान पीठ कल से करेगी सुनवाई ◾दुष्कर्म की राजधानी बना भारत, फिर भी चुप हैं मोदी : राहुल गांधी◾कांग्रेस कभी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरती : नरेन्द्र मोदी ◾TOP 20 NEWS 09 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भीकाजी कामा प्लेस मेट्रो स्टेशन के नजदीक जेएनयू के छात्रों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज ◾नागरिकता संशोधन विधेयक भाजपा के घोषणापत्र का हिस्सा रहा, जनता ने इसे मंजूर किया : अमित शाह◾कर्नाटक उपचुनाव : BJP को 12 सीटों पर जीत मिली, विधानसभा में मिला स्पष्ट बहुमत ◾कर्नाटक : सिद्धारमैया ने कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से दिया इस्तीफा◾JNU छात्रों ने राष्ट्रपति भवन तक शुरू किया मार्च, पुलिस ने की शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील◾रॉबर्ट वाड्रा को कोर्ट से बड़ी राहत, मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए विदेश जाने की मिली अनुमति◾बीजेपी ने छह सीटें जीतने के साथ कर्नाटक विधानसभा में बहुमत किया हासिल ◾झारखंड में बोले राहुल- सत्ता में आने पर लोगों को जल, जंगल और जमीन लौटाया जाएगा◾कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश विभाजन किया जिसके कारण नागरिकता कानून में संशोधन की जरूरत पड़ी : अमित शाह◾अखिलेश यादव ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया भारत और संविधान का अपमान◾झारखंड में बोले PM मोदी- कांग्रेस कभी भी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरी◾गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में पेश किया नागरिकता संशोधन विधेयक◾शिवसेना नागरिकता संशोधन विधेयक का करेगी समर्थन: संजय राउत ◾

देश

बैंकों में कैश की किल्लत जनता को हुई दिक्कत : सदानंद सिंह

 560

पटना : बिहार कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि इन दिनों बैंकों में कैश की किल्लत से जनता को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मोदी सरकार की अकुशल वित्तीय प्रबंधन और नोटबंदी जैसे आत्मघाती निर्णयों की वजह से बैंक शाखाओं और एटीएम में कैश की किल्लत हो रही है। लगन और खेती-बारी के समय में लोगों को बैंकों से अपना पैसा ही नहीं मिल रहा है।

जो जनता के लिए बड़ी पीड़ादायक स्थिति है। श्री सिंह ने कहा कि बिहार-झारखंड में एसबीआई के 110 करेंसी चेस्ट हैं। जिसकी क्षमता 12 हजार करोड़ रुपये की हैय किन्तु उपलब्धता मात्र ढ़ाई हजार करोड़ रुपये ही है। ऐसे में स्वाभाविक रूप से शाखाओं और एटीएम में करेंसी सप्लाई प्रभावित होगी।

मार्च 2018 में बैंकों के करेंसी चेस्टो की बैलेंस शीट के अनुसार बैंकों में 2000 रुपये के नोटों की संख्या कुल रकम का औसतन 10 फीसद ही रह गया है। आरबीआई की रिपोर्ट कहती है कि कुल जारी करेंसी में 2000 रुपये के नोटों का हिस्सा 50 फीसद से अधिक है। फिर मनी इन सर्कुलेशन में कमी कैसे हुयी? क्या मोदी सरकार इसका जवाब जनता को देगी?

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी  के साथ।