BREAKING NEWS

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य सरकारों की तारीफ की◾कांग्रेस ने सुरजेवाला ने कहा- राजस्थान का ‘विश्वासमत’ प्रजातंत्र के लिए नई रोशनी लेकर आया है◾चीन से तनातनी के बीच बोले रक्षामंत्री - अगर दुश्मन हम पर हमला करता है तो मुंहतोड़ जवाब देंगे◾विधानसभा कार्यवाही के बाद बोले पायलट-पहले मैं सरकार का हिस्सा था, लेकिन अब नहीं◾गृहमंत्री अमित शाह ने कोरोना को दी मात, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव ◾गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾जम्मू-कश्मीर : स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले श्रीनगर में आतंकवादी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद◾सुशांत मामले में बदले संजय राउत के सुर, कहा-अभिनेता के परिवार को मिले न्याय◾कोरोना वैक्सीन बनाने वाले देशों में से एक होगा भारत, सरकार को वितरण रणनीति बनाने की जरूरत : राहुल गांधी◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 64 हजार 533 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख के करीब◾दुनियाभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 करोड़ 7 लाख के पार, 7 लाख 52 हजार लोगों की मौत ◾LAC विवाद पर US ने दिया भारत का साथ, चीनी आक्रामकता की आलोचना करने वाला प्रस्ताव अमेरिकी सीनेट में पेश◾राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, BJP के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विश्वास प्रस्ताव◾स्वतंत्रता दिवस : कोरोना महामारी के बीच हर साल से अलग होगा समारोह, दिल्ली में की गई बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था ◾राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Pulwama Attack: CRPF की इस छोटी सी गलती से गयी 44 जवानों की जान !

14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था। यह आतंकी हमला पुलवामा जिले के नेशनल हाईवे पर हुआ और इसमें 44 जवान शहीद हो गए हैं। 44 शहीद जवानों के अलावा बहुत सारे सीआरपीएफ के जवान घायल हुए हैं जो इस समय अस्पताल में हैं।

आतंकियों के इस हमले की वजह से पूरा देश आक्रोश में है वह सरकार से आतंकवादियों से इस हमले का मुंह तोड़ जवाब देने के लिए कह रहे हैं। पुलवामा आंंतकी हमले के बाद देश के पीएम मोदी ने कहा है कि इस समय देश के लोग गुस्से में है।

सीआरपीएफ के जवानों को काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था उस समय यह आतंकी हमला हुआ। सीआरपीएफ ने कड़ी सुरक्षा कर रखी थी लेकिन उनकी अपनी एक छोटी सी गलती की वजह से यह आतंकी हमला हो गया और उसमें 44 जवानों की जानें चली गईं।

सीआरपीएफ की इस छोटी सी गलती की वजह से कई 44 जवानों की जानें

हालांकि सीआरपीएफ ने सारे रूट पर सावधानी बरती थी जिस-जिस जगह से जवानों का यह काफिला जाना था। इसके अलावा उन्होंने इस दौरान ग्रेनेड हमले या फिर अचानक से फायरिंग पर भी बहुत सावधानी करी थी। सीआपीएफ ने जवानों के काफिले के जाने से पहले हर रूट की अच्छे से जांच की थी।

पुलवामा के इस आतंकी हमले पर बात करते हुए सीआरपीएफ के इंस्पकक्टर जनरल, कश्मीर जुल्फिकार हसन ने कहा, रोड ओपनिंग पार्टी ने सुबह ही पूरे रूट की अच्छे से चेकिंग की थी। उस समय उस रूट पर किसी तरह के हमले होने का आईईडी नहीं मिला था। हमें तो इस बात की बिल्कुल संभावना नहीं थी कि किसी भी जवानों के काफिले पर फायरिंग या ग्रेनेड से हमला हो जाएगा।

लेकिन सीआरपीएफ के अधिकारियों को क्या मालूम था कि उसी जगह के स्थानीय लोगों के वाहनों को नेशनल हाईवे से जाने की अनुमति देने पर उनके अपने 44 जवानों की मौत हो जाएगी। उनकी इस छोटी से भूल का खामीजाया जवानों ने अपनी जान से दिया। बता दें कि जम्मू-श्रीनगर के एक हिस्से में काफिले के दौरान स्थानीय नागरिकों के वाहनों के जाने की अनुमति दे दी थी जिसका फायदा जैश-ए-मोहम्मद ने उठाया और वहां पर आतंकी आदिल अहमद से आत्मघाती हमला करवा दिया।

गृहमंत्री ने फिर से स्थानीय लोगों के वाहनों पर लगाई रोक

आतंकवादी आदिल जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग की एक सर्विस रोड पर आया और उसने बाद में सीआरपीएफ की एक बस को टक्ककर मार दी और यह आतंकी हमले किया। सीआरपीएफ के उस काफीले में 78 गाडिय़ां जा रही थीं और उसमें 2545 जवान थे।

इससे पहले जब भी जम्मू-कश्मीर में जवानों का काफिला जाता था तो उस बीच स्थानीय नागरिकों के वाहन को जाने की अनुमति नहीं दी जाती थी। लेकिन जब वहां के हालात सही होने लगे तो जवानों के काफिलों के बीच स्थानीय लोगों की गाडिय़ां जाने लगी और इस बार यह खतरनाक साबित हुआ।

हालांकि देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज से स्थानीय लोगों के वाहनों के जाने पर रोक लगा दी है। गृह मंत्री ने कहा है कि जब भी जम्मू-कश्मीर में जवानों के बड़े काफिले जाएंगे तो उस दौरान लोगों के वहान को रोक लगा दी जाएगी।

पुलवामा हमले पर AMU के छात्र ने किया आपत्तिजनक ट्वीट, छात्र के खिलाफ FIR दर्ज