BREAKING NEWS

PAK ने पुंछ में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन , भारतीयों जवानों ने दिया मुहतोड़ जवाब◾दिल्ली विधानसभा ने अलका लांबा को किया अयोग्य घोषित◾ईडी ने तृणमूल कांग्रेस के सांसद के परिसरों पर छापा मारा ◾VIDEO : बीजेपी दफ्तर में देखने को मिला हाई वोल्टेज ड्रामा, साउथ दिल्ली की पूर्व मेयर को उनके ही पति ने मारा थप्पड़◾कांग्रेस नेता मणि शंकर अय्यर के खिलाफ नहीं बनता राजद्रोह का मामला : दिल्ली पुलिस ने कोर्ट से कहा◾वित्त मंत्री सीतारमण बोली- कर्ज देने के लिये NBFC के साथ 400 जिलों में खुली बैठकें करेंगे बैंक◾यादवपुर विश्वविद्यालय में बाबुल सुप्रियो के साथ धक्का-मुक्की, राज्यपाल परिसर में पहुंचे ◾आरकेएस भदौरिया अगले होंगे एयरफोर्स चीफ◾चंद्रयान- 2 : नासा को मिली विक्रम लैंडर की अहम तस्वीरें, जल्द मिलेगी बड़ी खबर◾डेविड कैमरन का खुलासा : भारत के पूर्व प्रधानमंत्री ने PAK के खिलाफ सैन्य कार्रवाई के बारे में बताया था ◾TOP 20 NEWS 19 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ढाई साल में ढाई कोस भी नहीं चल पाई योगी सरकार : अखिलेश यादव◾अमेरिका में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे PM मोदी : विजय गोखले◾नासिक में बोले मोदी-राम मंदिर का मामला जब सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है तो न्याय प्रणाली पर भरोसा रखें◾INX मीडिया : 3 अक्टूबर तक बढ़ाई गई चिदंबरम की न्यायिक हिरासत◾CM ममता ने गृह मंत्री अमित शाह से की मुलाकात, NRC मुद्दे पर की चर्चा ◾'हाउडी मोदी' के लिए उत्साहित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, कर सकते है हिंदुस्तान के लिए बड़ा ऐलान ◾प्रियंका गांधी बोली - चिन्मयानंद मामले में भी उन्नाव की तरह आरोपी को संरक्षण दे रही भाजपा सरकार◾रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने तेजस में भरी उड़ान, कहा- मेरे लिए गर्व की बात◾UP : योगी सरकार के ढाई वर्ष पूरे, प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री ने गिनाई उपलब्धियां◾

देश

गैर कराधान प्रावधानों के तहत 7 अधिनियमों में संशोधन के प्रस्ताव का मकसद व्यवस्था को सरल बनाना : सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कहा कि वित्त विधेयक में गैर कराधान प्रावधानों के तहत सात अधिनियमों में संशोधन करने का प्रस्ताव किया गया है ताकि व्यवस्था को सरल किया जा सके, मेक इन इंडिया पहल को सुदृढ़ बनाया जा सके एवं विनिर्माण क्षेत्रों को मजबूती प्रदान की जा सके। 

सीतारमण ने निचले सदन में कहा कि वित्त विधेयक के जरिए कानूनों में संशोधन पांच मुख्य श्रेणियों में किया गया है जिसमें माल एवं सेवा कर (जीएसटी), प्रत्यक्ष कर, आयकर, धन शोधन रोकथाम जैसे क्षेत्र शामिल हैं। निचले सदन में आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन ने धन विधेयक के रूप में वित्त संख्या 2 विधेयक 2019 को चर्चा के लिए आगे बढ़ाए जाने का विरोध किया। 

उन्होंने कहा कि यह वित्त विधेयक संविधान के अनुच्छेद 110 और सदन संचालन की प्रक्रिया के नियमों के तहत धन विधेयक की परिकल्पना को पूरा नहीं करता क्योंकि इसके माध्यम से अनेक कानून में संशोधन करने का प्रस्ताव किया गया है। उन्होंने इस संबंध में पूर्व सभापतियों जी वी मावलंकर, ए अयंगर तथा सुमित्रा महाजन द्वारा दी गई व्यवस्था का भी जिक्र किया। 

प्रेमचंद्रन ने सरकार पर पिछले दरवाजे से कानून में संशोधन के प्रयास का आरोप भी लगाया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने हालांकि उनकी दलील को खारिज करते हुए कहा कि प्रेमचंद्रन ने संविधान के अनुच्छेद 110 और सदन संचालन की प्रक्रिया के नियम 219 का जिक्र करते हुए कहा है कि धन विधेयक के माध्यम से गैर कराधान संबंधी प्रावधान को शामिल नहीं किया जा सकता। 

उन्होंने इस संबंध में अतीत में लोकसभा अध्यक्षों द्वारा दी गई ऐसी व्यवस्था का भी जिक्र किया। ओम बिरला ने कहा कि नियम 219 में भी इस संभावना से इंकार नहीं किया गया है कि गैर कराधान प्रावधान को शामिल नहीं किया जा सकता। ऐसे में इस बारे में आपत्तियों को अस्वीकार किया जाता है। 

सरकार ने इसके माध्यम से गैर कराधान प्रावधान से जुड़े विषयों के संबंध में सात कानूनों में संशोधन करने के अलावा कर संबंधी प्रावधानों वाले सात कानूनों में भी बदलाव का प्रस्ताव किया है। विधेयक को चर्चा के लिए आगे बढ़ाते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इन बदलाव का मकसद गैर कराधान विषयों से जुड़े मामलों को अधिक सरल और प्रभावी बनाना है। 

उन्होंने कहा कि प्रत्यक्ष कर से जुड़े कानूनों में संशोधन के प्रस्ताव का मकसद व्यवस्था को सरल बनाना, मेक इन इंडिया पहल को सुदृढ़ बनाना एवं विनिर्माण क्षेत्रों को मजबूती प्रदान करना है। वित्त मंत्री ने कहा कि जीएसटी के संबंध में ही पांच अलग तरह के संशोधन करने का प्रस्ताव किया गया है ताकि लघु, सूक्ष्म और मध्यम उद्यम क्षेत्र से जुड़ी अनुपालना की व्यवस्था को सरल बनाया जा सके। 

उन्होंने कहा कि सेबी कानून में संशोधन सहित वित्तीय बाजार से जुड़े कई कानूनों में संशोधन का प्रस्ताव किया गया है। एन के प्रेमचंद्रन की आपत्तियों पर सीतारमण ने कहा कि प्रेमचंद्रन ने जिन नियमों एवं संवैधानिक प्रावधानों का जिक्र किया है, वे गैर कराधान प्रावधानों को वित्त विधेयक में शामिल करने से नहीं रोकते और केवल यह कहते हैं कि जब जरूरी हो तब ऐसा किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘ सरकार इन्हें जरूरी मानती है। ’’ कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने भी आरोप लगाया कि सरकार संसद के अधिकार क्षेत्र में दखल दे रही है।