BREAKING NEWS

बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र, आगे की रणनीति को लेकर किसानों की बैठक जारी ◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾आज का राशिफल ( 29 नवंबर 2020 )◾किसान आंदोलन से देश की राजधानी में फलों, सब्जियों की आपूर्ति पर असर◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे में वैक्सीन निर्माण की प्रगति का लिया जायजा◾सरकार ने कहा, किसानों से किसी भी समय बातचीत के लिए तैयार ◾भारत, श्रीलंका और मालदीव समुद्री सुरक्षा सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए ◾राज्यसभा उप चुनाव के लिये उम्मीदवार पर फैसला करने के लिये भाजपा स्वतंत्र : चिराग◾उत्तर भारत में सर्दी बढ़ी, दक्षिणी राज्यों में एक दिसंबर से भारी बारिश की आशंका ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राहुल गांधी ने नए ईआईए 2020 मसौदे के खिलाफ लोगों से प्रदर्शन करने की अपील की

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को लोगों से अनुरोध किया कि वे नए पर्यावरण प्रभाव आकलन (ईआईए) 2020 मसौदे के खिलाफ प्रदर्शन करें। उन्होंने कहा कि यह खतरनाक है और अगर अधिसूचित होता है तो इसके दीर्घकालिक परिणाम विनाशकारी होंगे। पर्यावरण मंत्रालय ने इस साल मार्च में मसौदा ईआईए अधिसूचना जारी की थी और इस पर जनता से सुझाव आमंत्रित किये गए थे। इसके तहत विभिन्न परियोजनाओं के लिये पर्यावरण मंजूरी देने के मामले आते हैं।

हैशटैग ‘विदड्रॉईआईए2020’(ईआईए2020 वापस लो) के साथ एक फेसबुक पोस्ट में गांधी ने ईआईए 2020 मसौदे के लिये सरकार की निंदा करते हुए कहा कि यह न सिर्फ “अपमानजनक” बल्कि “खतरनाक” भी है। उन्होंने कहा, “इसमें पर्यावरण की सुरक्षा के लिहाज से लंबी लड़ाई के बाद हासिल हुए फायदों को न सिर्फ पलटने की क्षमता है बल्कि इसमें पूरे भारत में पर्यावरण के लिहाज से व्यापक विनाश और बर्बादी फैलाने की भी क्षमता है।”

गांधी ने कहा, “इस पर विचार कीजिए स्वच्छ भारत का दिखावा करने वाली हमारी सरकार के मुताबिक, अगर यह मसौदा अधिसूचना अमल में आती है तो रणनीतिक तरीके से कोयला खनन और अन्य खनिजों के खनन जैसे बेहद प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों को पर्यावरण प्रभाव आकलन की जरूरत नहीं रहेगी।” 

उन्होंने कहा कि घने जंगलों और पर्यावरण के लिहाज से संवेदनशील अन्य इलाकों से जाने वाले राजमार्गों या रेल लाइनों के लिये भी ईआईए की जरूरत नहीं होगी जिससे बड़े पैमाने पर पेड़ों की कटाई होगी, जिससे हजारों संरक्षित प्रजातियों के रिहाइश वाले इलाकों में बर्बादी होगी। उन्होंने कहा कि पर्यावरण प्रभाव आकलन काम होने के बाद भी दिया जा सकता है, यह “भयावह” है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, “इसका मतलब है, किसी परियोजना से पर्यावरण को नुकसान हो जाने के बाद भी, ईआईए किया जा सकता है।” गांधी ने कहा कि ईआईए 2020 मसौदा एक तबाही है और यह उन लोगों की आवाज को बंद करने वाली है जो पर्यावरण को होने वाले इस नुकसान से सीधे प्रभावित होंगे। गांधी ने कहा, “मैं सभी भारतीयों से इसके खिलाफ खड़े होने और प्रदर्शन करने का अनुरोध करता हूं।

 हमारे पर्यावरण को बचाने से जुड़ी हर लड़ाई में हमेशा बढ़चढ़कर हिस्सा लेने वाले हमारे युवाओं को निश्चित रूप से इस मुद्दे को उठाना चाहिए और इसे अपना बनाकर लड़ना चाहिए।” उन्होंने कहा, “पर्यावरण को बचाने की लड़ाई राजनीतिक और वैचारिक मान्यताओं से इतर है। यह कुछ और नहीं, हाल में कोविड-19 महामारी ने हमे दिखा दिया है कि मानव जीवन कितना क्षणभंगुर है।”