BREAKING NEWS

गुजरात विजय पर बोले असम के सीएम शर्मा- यह तो ट्रेलर है... असली पिक्चर 2024 के लोकसभा चुनाव में दिखाएंगे◾ओडिशा उपचुनाव सीट पर बीजेपी की हार, बीजद उम्मीदवार ने भारी मतों से जीत की हासिल◾सोने की चमक में उछाल, दर्ज की गई 211 की बढ़ोत्तरी, चांदी इतने रूपए के साथ फिसली◾गुजरात में बजा 'मोदी' का डंका, जीत को लेकर जनता का आभार प्रकट किया, हिमाचल पर भी कही यह बड़ी बात◾गुजरात में 'BJP' की प्रचंड जीत, राज्य में चल पड़ा 'घर-घर मोदी' नड्डा ने कहा: भाजपा की ऐतिहासिक विजय◾खतौली सीट पर फैल हुई BJP की रणनीति, रालोद प्रत्याशी मदन भैया ने भाजपा को इतने वोटों से पछाड़ा, देखें पूरा समीकरण ◾रामपुर पर 'BJP' ने रचा इतिहास, 26 साल के चक्रव्यूह को तोड़कर एक नए युग की शुरूआत, इतने भारी मतों से हारी 'सपा'◾खतौली सीट पर फेल हुई BJP की रणनीति, रालोद प्रत्याशी मदन भैया ने भाजपा को इतने वोटों से पछाड़ा, देखें पूरा समीकरण ◾गुजरात में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद भूपेंद्र पटेल फिर से संभालेंगे मुख्यमंत्री पद, 12 दिसंबर को लेंगे शपथ ◾HP: 'मोदी लहर' में फेल हुए 'जयराम ठाकुर', कहा- मैं जनादेश का करता हूं सम्मान...राज्यपाल को सौंप रहा हूं इस्तीफा ◾ संजय सिंह ने कहा- 10 साल में राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल किया, गुजरात के लोगों के शुक्रगुजार हैं ◾Gujarat Election: EVM में गड़बड़ी का आरोप लगाकर कांग्रेस प्रत्याशी भरत सोलंकी ने की आत्महत्या की कोशिश◾गुजरात चुनाव : AAP के मुख्यमंत्री पद के चेहरे इसुदान गढ़वी की हार, भाजपा को 18,000 मतों से मिली शिकस्त ◾मोदी गढ़ में फिर 'डबल इंजन' सरकार, शाह ने कहा- गुजरात की जनता ने 'फ्री की रेवड़ी' और 'खोखले वादों' को नकारा◾Gujarat: 'कमल' की जीत पर बोले पवार- गुजरात में चल गया 'मोदी मेजिक'... लेकिन 2024 में नहीं चलेगा ◾Tata स्टील को सुप्रीम कोर्ट से लगा बड़ा झटका, जानिए 35000 करोड़ का क्या है मामला◾Mainpuri: डिंपल यादव ने किया बड़ा फेर- बदल, जीत दर्ज कर ले गई लोकसभा सीट◾अखिलेश यादव ने शिवपाल को दिया समाजवादी पार्टी का झंडा, सपा में प्रसपा के विलय की तेज हुई अटकलें ◾'भारत जोड़ो यात्रा' पहुंचेगी पश्चिम बंगाल में..., राहुल औऱ प्रियंका निभाएंगे अहम भूमिका, जानें पूरी रणनीति◾आजम खान के गढ़ में हुआ बड़ा उलटफेर, रामपुर किला ढहाने की ओर भाजपा◾

रेलवे का ऐलान- ट्रेन नंबर के आगे से हटेगा जीरो, जानें इससे आप पर क्या पड़ेगा असर

देश की लाइफलाइन कहे जाने वाली रेलवे कोरोना काल में भी नहीं थमी, क्योंकि यह भारत की अहम रीढ़ है। ऐसे में यात्रियों को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाने तक इसका कितना योगदान होत है, इसका अंदाजा लगाना अधिक मुश्किल नहीं है। तो दूसरी तरफ, कोरोना के कारण रेलवे में बदली किराया नीति के अब पटरी पर आने की उम्मीद है। रेलवे में दो साल से ट्रेनों का टाइम टेबल भी अटका है।

अब पहली अक्तूबर से गाड़ियों का टाइम टेबल जारी होने की संभावना है। माना जा रहा है कि नया टाइम टेबल रेल यात्रियों को राहत देगा। वर्तमान टाइम टेबल में गाड़ियों को मिला फेस्टिवल व स्पेशल ट्रेनों का दर्जा हटेगा। यानि ट्रेनों के नंबर के आगे लगा जीरो हटते ही तमाम गाड़ियों के किराए में अंतर आ आएगा। रेलगाड़िया अपने पुराने नार्मल फेयर (सामान्य किराए) के आधार पर चलेंगी। रेल प्रशासन ने नए वर्किंग टाइम टेबल को लेकर तैयारियां शुरु कर दी।

करनाल में किसानों के साथ हुई हिंसा पर भड़के गहलोत, बोले- कृषि कानूनों को रद्द कर किसानों से माफी मांगे मोदी सरकार

कोरोना की पहली लहर के बाद रेलवे ने ट्रेनों का संचालन शुरु किया तो गाड़ियां जीरो नंबर से संचालित हुई। जीरो से शुरु नंबरों से ट्रेनों का किराया औसत से तीस से पचास प्रतिशत अधिक हो गया। पर्व न होने के बावजूद रेलवे बोर्ड ने ज्यादातर गाड़ियों का अपने ढंग से किराए का निर्धारण किया। चुनिंदा ट्रेनों में पहले जैसा सामान्य किराया था वहीं ज्यादातर दुगने से भी ज्यादा का अंतर। पर सवा साल से रेलयात्रियों का बजट बिगाड़ रही ट्रेनों से जीरो नंबर हटाकर पुराने फार्मूले पर चलाने की मंशा है।

कोरोना से रेलवे में ट्रेनों का टाइम टेबल भी अटका है। रेलवे में अब पहली अक्तूबर से नया टाइम टेबल आने की संभावना है। कोरोना से उलट पुलट हुई ट्रेनों के शेडयूल को नए सिरे से तैयारी के साथ ही टाइम टेबल में जीरो नंबर से ट्रेन संचालन की पाबंदी हट जाएगी। इससे पटरी से उतरीं रेलवे में किराया नीति के 'बहाल' होने की उम्मीद है। अजय नंदन डीआरएम मुरादाबाद ने बताया कि रेलवे बोर्ड को ट्रेनों को लेकर जानकारियां उपलब्ध कराई जाती है। पिछली बार भी डिवीजन से बोर्ड को सूचनाएं भेजी गई थी। हालांकि रेलवे का टाइम टेबल अक्तूबर में जारी होता है।

हालांकि अभी ट्रेनों के जीरो नंबर से हटने का अनुमान नहीं है। कोरोना काल के बाद शुरु संचालन में रेलवे ने स्पेशल व फेस्टविल के नाम पर ज्यादा किराया वसूला। बल्कि एमएसटी धारक,सीनियर सिटीजन व बीमार यात्रियों को मिलने वाली छूट भी खत्म हो गई। नए टाइम टेबल में यदि पुराने फार्मूले पर अमल हुआ तो इन यात्रियों को भी राहत मिलेगी। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच रेलवे का यह फैसला कितना कामयाब होगा, ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।