BREAKING NEWS

उत्तराखंड : PM मोदी ने फोन पर CM धामी से की बात , हरसंभव सहायता का दिया आश्वासन ◾UK : बारिश भूस्खलन से 34 की मौत, सैकड़ो पर्यटक और श्रद्धालुओं का रेस्क्यू◾अपनी पार्टी बनाएंगे, BJP के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार : अमरिंदर सिंह◾कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान◾बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमला : भाजपा नेता दिलीप घोष हसीना पर नरम, ममता पर गरम◾केंद्र को भाजपा में सही सोचने वाले लोगों की सुननी चाहिए: किसान नेताओं ने कहा◾भारत-पाक टी-20 को लेकर 'AAP' ने की मांग, कहा- कश्मीर में नागरिकों की हत्या को देखते हुए रद्द हो मैच ◾लखीमपुर हिंसा मामले में SIT का नया पैंतरा, छह तस्वीरें जारी कर कहा- पहचान बताने वाले को देंगे इनाम◾पाकिस्तान सेना का दावा- भारत की पनडुब्बी को अपने समुद्री क्षेत्र में घुसने से रोका! जारी की वीडियो फुटेज ◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: कृषि मंत्री की वायरल फोटो पर मचा बवाल, तोमर के साथ दिखे निहंग अमनदीप सिंह◾बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले दोनों देशों के रिश्तों को कमजोर करने की साजिश: CM बिप्लब देब◾बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने गृह मंत्री से कहा-हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ जल्द करे कार्रवाई◾घोषणाओं के बजाय प्रतिज्ञा को तरजीह देगी कांग्रेस, UP की राजनीति महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ी : सुप्रिया श्रीनेत ◾प्रियंका के महिलाओं को टिकट देने के ऐलान को मायावती ने बताया कांग्रेस की कोरी चुनावी नाटकबाजी◾बंगाल उपचुनाव : BJP उम्मीदवार के साथ धक्का-मुक्की, कहा- प्रचार से रोकने के TMC ने की ऐसी हरकत◾पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना◾चुनाव प्रचार के दौरान मछली मारते नजर आए तेजस्वी, RJD ने CM नीतीश पर कसा तंज ◾हिंदी ना आने पर भिड़े कस्टमर और जोमैटो का कर्मचारी, विवाद बढ़ने पर कंपनी को मांगनी पड़ी माफी ◾उत्तराखंड में भारी बारिश से मची तबाही, मरने वालों की संख्या 11 हुई, कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका◾कश्मीर में बढ़ रही हिंसा पर बोले राहुल गांधी-मोदी सरकार सुरक्षा देने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई◾

एससीओ में बोले राजनाथ - आतंकवाद गैर सरकारी तत्वों, गैर जिम्मेदार देशों का पसंदीदा हथियार

पाकिस्तान पर परोक्ष निशाना साधते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि आतंकवाद को गैर सरकारी तत्वों और गैर जिम्मेदार देशों द्वारा क्षेत्र में अपने राजनीतिक उद्देश्यों को पूरा करने के लिये पसंदीदा हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। 

सुरक्षा का सिद्धांत महत्वपूर्ण बदलाव से गुजर रहा है - राजनाथ सिंह

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के एक सम्मेलन में सशस्त्र बलों में महिलाओं की भूमिका विषय पर अपने संबोधन में राजनाथ सिंह ने कहा कि सुरक्षा का सिद्धांत महत्वपूर्ण बदलाव से गुजर रहा है और समूह के सदस्य देशों को आतंकवाद जैसी चुनौतियों से सामूहिक रूप से निपटना होगा । उन्होंने कहा, ‘‘ सुरक्षा का सिद्धांत महत्वपूर्ण बदलाव से गुजर रहा है । युद्ध की प्रकृति में बदलाव से खतरे हमारी सीमाओं से समाज के भीतर और लोगों तक पहुंच गए हैं ।’’ सिंह ने कहा कि आतंकवाद इसमें सबसे अधिक स्पष्ट है और इस वास्तविकता का शैतानी स्वरूप है। 

रक्षा मंत्री ने डिजिटल माध्यम से सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ इसे गैर सरकारी तत्व और गैर जिम्मेदार देश अपने राजनीतिक उद्देश्यों को हासिल करने के लिये अपनी पसंद के हथियार के तौर पर इस्तेमाल करते हैं । ’’ सिंह ने कहा कि एससीओ ने आतंकवाद के सभी स्वरूपों को खारिज किया है और स्पष्ट किया है कि इस बुराई के खिलाफ लड़ाई में महिलाओं की बराबर भूमिका रही है और रहेगी । 

हमारा भविष्य हमारे हाथ में है - रक्षा मंत्री

उन्होंने कहा, ‘‘ एससीओ ने एक संगठन के रूप में आतंकवाद के सभी स्परूपों को एक स्वर से खारिज किया है। इसकी हकीकत एससीओ के सभी नागरिकों को इस साझा खतरे के खिलाफ लड़ाई में उनकी भूमिका स्पष्ट करती है जो हमारे लिये चुनौतिपूर्ण है। ’’ उन्होंने कहा कि यह लड़ाई हमारे क्षेत्र की आधी आबादी या एक देश नहीं जीत सकता है। इस लड़ाई में महिलाओं की भूमिका समान रही है और रहेगी, चाहे सशस्त्र बल हो या उससे आगे हो । 

रक्षा मंत्री ने अपने संबोधन में भारतीय सशस्त्र बलों में महिलाओं की भूमिका का संक्षित परिचय दिया । राजनाथ सिंह ने कहा, ‘‘ हमारा भविष्य हमारे हाथ में है। यह एससीओ देशों पर निर्भर करता है कि वे क्षेत्र में स्थिरता सुनिश्चित करें, शांति को बढ़ावा दें तथा लैंगिक समानता एवं पूरे क्षेत्र की बेहतरी के लिये काम करें । सिंह ने कहा कि हम सशस्त्र बलों में विभिन्न कार्यो में महिलाओं की वृहद भूमिका एवं हिस्सेदारी को आशान्वित हैं। 

युद्ध की प्रकृति हो गई है हाइब्रिड - जनरल बिपिन रावत

वहीं, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने कहा कि युद्ध की प्रकृति पारंपरिक रूप से परिवर्तित होकर हाइब्रिड और गैर सरकारी तत्वों से जुडी (ग्रे जोन वारफेयर) हो गई है तथा साइबर स्पेस तथा बाहरी अंतरिक्ष युद्ध के नये क्रांतिकारी क्षेत्र के रूप में उभर कर आये हैं । उन्होंने कहा कि इसके परिणाम स्वरूप आधुनिक समय में युद्ध में पुरूषों एवं महिलाओं की भूमिका में भेद दिन प्रति दिन कम हो गया है । महिलाओं ने लड़ाई में अपनी दृढता साबित की है। 

विदेश मंत्रालय में सचिव (पश्चिम) रीनत संधु ने कहा कि पिछले दशकों में भारतीय सशस्त्र बलों में महिलाओं के लिये नये आयाम खुले हैं और महिला सैन्य अधिकारियों ने संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक मिशनों में वैश्विक सतर पर अपना स्थान बनाया है। उन्होंने कहा कि भारत ने वर्ष 2007 में लाइबेरिया में संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक अभियान में पहली बार सम्पूर्ण महिलाओं की पुलिस इकाई तैनात करके इतिहास रचा था । 

भारत की ओर से डिजिटल माध्यम से आयोजित इस सम्मेलन में एससीओ के लगभग सभी देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया ।