BREAKING NEWS

IPL-13 : 2 बार की चैंपियन KKR का सामना 3 बार की चैंपियन CSK के साथ, जानिए दोनों संभावित टीमें ◾तेजस्वी यादव का PM मोदी को जवाब, कहा- वो देश के प्रधानमंत्री हैं, कुछ भी बोल सकते हैं◾अभिनंदन की रिहाई पर PAK के खुलासे के बाद नड्डा का राहुल पर वार, शहजादे भरोसेमंद देश की ही सुन लें◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बीएसपी ने 7 बागी विधायकों को किया निलंबित, मायावती बोलीं-सपा को हराने ले लिए BJP को भी दे सकते हैं वोट◾गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन, CM विजय रुपाणी ने दुख व्यक्त किया◾कांपते पैर, माथे पर पसीना, हमले का डर.....अभिनंदन की रिहाई पर पाकिस्तान का सच◾10 नवंबर के बाद CM नीतीश अपने पद को नहीं रख पाएंगे बरकरार, बनेगी BJP-LJP की सरकार : चिराग◾टेरर फंडिंग मामले में श्रीनगर और दिल्ली में 9 स्थानों पर NIA की छापेमारी◾देश में कोरोना के 49,881 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 80 लाख के पार ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता का स्तर ‘गंभीर स्थिति’ की श्रेणी में दर्ज, छायी प्रदूषण की चादर ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 4 करोड़ 44 लाख के पार◾Bihar Election : दूसरे, तीसरे चरण में और ताकत झोंकेगी BJP, घर-घर जाकर प्रचार के लिए बनाई जा रही रणनीति ◾आज का राशिफल ( 29 अक्टूबर 2020 )◾महामारी के बीच चुनाव आयोग ने ‘अपने भरोसे के दम’ पर बिहार चुनाव कराया : EC◾भारत ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों पर व्यक्तिगत हमलों की कड़ी निंदा की ◾MI vs RCB : मुंबई इंडियंस ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 5 विकेट से हराया◾ED ने सोना तस्करी मामले में निलंबित IAS शिवशंकर को किया गिरफ्तार◾PM का पुतला जलाये जाने वाले बयान पर भाजपा ने बताया राहुल की 'राजनीतिक औकात' ◾केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को हुआ कोरोना, ट्वीट कर दी जानकारी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मंत्रियों एवं सांसदों के वेतन, भत्ते में कटौती संबंधी विधेयकों को राज्यसभा ने मंजूरी दी

राज्यसभा ने मंत्रियों के वेतन एवं भत्तों से संबंधित संशोधन विधेयक और सांसदों के वेतन, भत्ते में एक वर्ष के लिये 30 प्रतिशत की कटौती करने के प्रावधान वाले विधेयकों को शुक्रवार को मंजूरी दे दी। इस धनराशि का उपयोग कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति से मुकाबले के लिये किया जायेगा। 

उच्च सदन में संक्षिप्त चर्चा के बाद मंत्रियों के वेतन एवं भत्तों से संबंधित संशोधन विधेयक 2020 और संसद सदस्य वेतन, भत्ता एवं पेशन संशोधन विधेयक 2020 को ध्वनिमत से मंजूरी दे दी गयी। यह विधेयक इससे संबंधित अध्यादेश के स्थान पर लाया गया है। 

इसके माध्यम से सांसदों के वेतन में 30% की कटौती के लिए संसद सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन अधिनियम, 1954 और मंत्रियों के सत्कार भत्ते में कटौती के लिए मंत्रियों का वेतन और भत्ते अधिनियम, 1952 में संशोधन किया गया है। 

राज्यसभा में इन विधेयकों पर हुई चर्चा में भाग लेते हुए अधिकतर विपक्षी सदस्यों ने कहा कि सांसदों के वेतन में कटौती से उन्हें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन सरकार को सांसद निधि के निलंबन पर पुनर्विचार करना चाहिए। 

संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न अभूतपूर्व स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाये हैं। यह कदम उनमें से एक है। 

उन्होंने कहा कि परोपकार की शुरूआत घर से होती है, ऐसे में संसद के सदस्य यह योगदान दे रहे हैं और यह छोटी या बड़ी राशि का सवाल नहीं है बल्कि भावना का है। 

राज्यसभा में कांग्रेस का वार - बिना सोचे समझे लागू किया लॉकडाउन, 'कोरोना की जगह रोजगार समाप्त'

कुछ सदस्यों द्वारा नोटबंदी, जीएसटी जैसे मुद्दे उठाने का जिक्र करते हुए जोशी ने कहा कि 2019 के चुनाव में इसके बारे में कई दलों एवं लोगों ने मिथ्यारोप किया था और कुछ लोग उच्चतम न्यायालय भी गए थे । लेकिन देश की जनता ने हमें जबर्दस्त जनादेश दिया । 

सांसद क्षेत्र विकास निधि (एमपीलैड) के बारे में सदस्यों के सवालों के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सांसद निधि को अस्थायी रूप से दो वर्षो के लिये निलंबित किया गया है। उन्होंने कहा कि लोगों की मदद के लिये कुछ कड़े फैसले लेने की जरूरत थी। उन्होंने कहा, ‘‘ यह अस्थायी है। ’’ 

दरअसल, कांग्रेस, राकांपा, आम आदमी पार्टी सहित अधिकतकर विपक्षी दलों के सदस्यों ने सांसद निधि को बहाल करने की मांग की थी । वहीं, गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि कोविड-19 के समय में आम लो, रेहड़ी पटरी वाले, श्रमिक आदि प्रभावित हुए हैं । ऐसे में हम सांसदों एवं मंत्रियों को आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए । 

चर्चा के दौरान कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यहां 70 प्रतिशत सांसद सिर्फ तनख्वाह पर गुजारा करते हैं लेकिन छोटी सी तनख्वाह से गरीबों और देश के लिये योगदान करने को वे तत्पर हैं । उन्होंने कहा कि लेकिन सांसद निधि हमारा पैसा नहीं है, यह गरीबों का पैसा है । पहले तो इसे दो साल के लिये निलंबित नहीं किया जाना चाहिए था, निलंबन एक साल के लिये करते। और इसमें भी आधा पैसा यानी 2. 5 करोड़ रूपये की कटौती करते । 

कांग्रेस सदस्य राजीव सातव ने कहा कि उनकी पार्टी इस प्रस्ताव का समर्थन करती है लेकिन सरकार को विकास कार्य के लिए महत्वपूर्ण अहम ‘‘एमपीलैड’’ को बंद नहीं करना चाहिए। उन्होंने सरकार से मांग की कि उसे पीएम केयर्स फंड का हिसाब लोगों को देना चाहिए। 

होमियोपैथी केंद्रीय परिषद विधेयक को राज्यसभा से मिली मंजूरी, चिकित्सा पद्धतियों को मिलेगा बढ़ावा