कांग्रेस से राम मंदिर और बाबरी मस्जिद में से किसी एक को चुनने के प्रधानमंत्री मोदी के बयान की आलोचना करते हुए आज जम्मू & कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि उन्होंने 2014 में जिस विकास की बात की थी यदि वह किया होता तो उन्हें यह सवाल नहीं पूछना पड़ता।

नेशनल कांफ्रेंस के कार्यकारी अध्यक्ष श्री अब्दुल्ला ने ट्वीट पर लिखा,’महोदय 2014 में जिस विकास की बात की थी यदि वह किया होता तो आपको किसी से ऐसा सवाल ही नहीं पूछना पड़ता।

प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात विधान सभा चुनाव के दौरान बनासकांठा के भाभर में आयोजित एक रैली में कथित रुप से कांग्रेस को राम मंदिर और बाबरी मस्जिद में से किसी एक को चुनने को कहा। उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव से राम जन्मभूमि मामले की सुनवाई को जोड़ने के कांग्रेस के प्रयासों की भी विस्तार से चर्चा की।

उमर अब्दुल्ला ने जम्मू कश्मीर सरकार में भाजपा की सहयोगी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) पर भी हमला करते हुए मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उनकी पार्टी से इस प्रश्न का उत्तर देने को कहा है। ‘प्रिय महबूबा मुफ्ती/जेकेपीडीपी क्या इस प्रश्न का उत्तर देना पसंद करेंगीं। मुझे जवाब मिलने पर खुशी होगी।”

इस बीच गुजरात विधान सभा चुनाव के ‘फिक्स’ होने के आरोप से संबंधित एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उमर अब्दुल्ला ने कहा की तो क्या गुजरात 2017 जम्मू कश्मीर में 53 से 75 के बीच की स्थिति को दोहराता है। इस बात पर स्पष्टीकरण के लिए धन्यवाद।’

उन्होंने चुनाव आयोग से मशीन की गड़बड़िया को गंभीरता से लेने का अनुरोध करते हुए कहा कि PM मोदी को उनके ही राज्य में एक 24 वर्षीय युवक हार्दिक पटेल चुनौती दे रहा है।

लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।