BREAKING NEWS

राज्य सरकारों के अनुरोध पर बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि, केंद्र कर रही है विचार◾कोरोना को मात देने के लिए केजरीवाल सरकार ने बनाई खास '5T' योजना, होगा महामारी का सफाया◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोविड-19 से निपटने की दी सलाह◾महबूबा मुफ्ती को जेल से स्थानांतरित कर भेजा गया घर, PSA के तहत जारी रहेगी हिरासत◾मलेरिया रोधी दवा पर हटी पाबंदी को लेकर राहुल बोले- सभी देशों की करनी चाहिए मदद लेकिन पहले भारतीयों को कराया जाए मुहैया◾शर्मनाक : नरेला में 2 जमातियों ने क्वारनटीन सेंटर के दरवाजे पर किया शौच, दर्ज हुई FIR◾दुनियाभर में मलेरिया रोधी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा की मांग के बीच मोदी सरकार ने आपूर्ति पर हटाया प्रतिबन्ध◾UP के बागपत में अस्पताल से फरार हुआ कोरोना पॉजिटिव जमाती, प्रशासन में मचा हड़कंप◾Coronavirus : विश्व में लगभग 14 लाख पॉजिटिव केस आए सामने वहीं 74,000 के करीब पहुंचा मौत का आंकड़ा◾कोविड-19 : देश में 4,421 संक्रमित मामलों की पुष्टि , पिछले 24 घंटे में हुई 5 मौत◾भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति पर ट्रम्प बोले- भेजेंगे तो सराहनीय वरना करेंगे आवश्यक कार्रवाई◾विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर PM मोदी ने किया ट्वीट,लिखा-फिर मुस्कुराएगा इंडिया और फिर जीत जाएगा इंडिया◾जम्मू-कश्मीर में LOC के पास आज सुबह पाकिस्तान ने की गोलीबारी, सेना की जवाबी कार्रवाई जारी ◾चीन से आई कोविड-19 की अच्छी खबर, पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से नहीं हुई किसी भी व्यक्ति की मौत ◾coronavirus : तमिलनाडु में कोविड-19 से 621 लोग संक्रमित, 574 मामलें तबलीगी जमात से जुड़े◾Coronavirus : तेलंगाना मुख्यमंत्री कार्यालय की सफाई, कहा- सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने की सलाह दी लेकिन कोई घोषणा नहीं ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : तबलीगी जमात से जुड़े 1,445 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए, 25 हजार से अधिक एकांतवास में◾दिल्ली में कोरोना से अब तक 523 लोग हुए संक्रमित, पिछले 24 घंटे में 20 नए मामले आए सामने ◾कोरोना से हुई कुल मौतों में 73 प्रतिशत पुरुष जबकि 27 प्रतिशत महिलाएं : स्वास्थ्य मंत्रालय◾केंद्र का बड़ा फैसला, PM सहित कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों के वेतन में 30 फीसदी की होगी कटौती◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राजनीति से दूर रखा जाए राम मंदिर मुद्दा, सरकार को 'रचनात्मक सुझाव' दे शिवसेना : विहिप

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की 16 जून को प्रस्तावित अयोध्या यात्रा से पहले, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के एक शीर्ष नेता ने रविवार को कहा कि भगवान राम की जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के मुद्दे को लेकर किसी भी दल को राजनीति नहीं करनी चाहिये। 

विहिप नेता ने भाजपा की अगुवाई वाले सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल शिवसेना को यह सलाह भी दी कि उसे केंद्र सरकार को राम मंदिर मुद्दे पर 'रचनात्मक सुझाव' देने चाहिये। विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा, "वैसे तो राम मंदिर मुद्दे पर होने वाली दलीय राजनीति से हमें कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन मेरा मानना है कि इस मुद्दे पर किसी भी दल को राजनीति नहीं करनी चाहिये, क्योंकि यह विषय करोड़ों हिंदुओं की गहरी आस्था से जुड़ा है।" 

शिवसेना प्रमुख की आगामी अयोध्या यात्रा के बारे में पूछे जाने पर विहिप के शीर्ष नेता ने कहा, "अयोध्या विवाद की वर्तमान स्थिति को देखते हुए शिवसेना को सरकार को ऐसे रचनात्मक सुझाव देने चाहिये जिससे राम जन्मभूमि पर संवैधानिक दायरे में मंदिर निर्माण की राह प्रशस्त हो सके। शिवसेना को यह भी बताना चाहिये कि इस विषय में वह खुद क्या कर रही है?" 

अयोध्या विवाद के मुकदमे के उच्चतम न्यायालय में लम्बित होने के बीच राम मंदिर मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार से विहिप की अपेक्षाओं के बारे में पूछे जाने पर कोकजे ने कहा, "हम हमेशा से इस बात के पक्ष में रहे हैं कि अयोध्या में राम जन्मभूमि पर संवैधानिक दायरे में मंदिर बनाया जाना चाहिये। सामाजिक सद्भावना और करोड़ों लोगों की आस्था को दृष्टिगत रखते हुए सरकार को वह हरसंभव कदम उठाना चाहिये जिससे अयोध्या मसले का कानूनी समाधान जल्द से जल्द निकल सके।" 

मध्यप्रदेश और राजस्थान के उच्च न्यायालयों के पूर्व न्यायाधीश ने जोर देकर कहा, "अयोध्या में राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की हमारी मांग संवैधानिक और कानूनी रूप से पूरी तरह जायज है।" उन्होंने यह भी बताया कि विहिप के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की हरिद्वार में 19 और 20 जून को आयोजित बैठक में राम मंदिर मुद्दे पर हिन्दू संगठन की आगामी रणनीति तय की जायेगी। इसमें विहिप पदाधिकारियों के साथ देश भर के साधु-संत भी मौजूद रहेंगे।

 कोकजे ने एक सवाल पर कहा कि हाल के लोकसभा चुनावों में देश के लोगों ने 'परिपक्व' तरीके से मतदान किया और वे राम मंदिर मुद्दे की मौजूदा वस्तुस्थिति से भी पूरी तरह अवगत हैं। उन्होंने कहा, "देश में हाल के दिनों में जो वातावरण बदला है, वह राष्ट्रवाद और हिंदुत्व की अवधारणा के हित में है।"