मुंबई : देश के अमीर लोगों की सूची में प्रमुख उद्योगपति व रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी के साथ पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण और डी-मार्ट के राधाकृष्णन दमानी ने जगह बनाई है। इन हस्तियों को हुरुन इंडिया की अमीर लोगों की सूची में शामिल किया गया है।

हुरुन इंडिया की छठी वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में खासी बढ़ोतरी होने के कारण अंबानी की संपत्ति 58 फीसद बढ़कर 2.57 लाख करोड़ रुपये हो गई। अंबानी का नाम लगातार छठे साल सबसे अमीर भारतीय के तौर पर दर्ज हुआ है। हुरुन ग्लोबल की सूची में अंबानी ने पहली बार जगह बनाई है। उनकी संपत्ति बढ़ने के कारण अमीरों की ग्लोबल सूची में उन्होंने 15वां स्थान हासिल किया है। उनकी संपत्ति यमन के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) से भी 50 फीसद ज्यादा है। अंबानी का जन्म यमन में ही हुआ था।

हुरुन इंडिया के बयान के अनुसार पतंजलि के सीईओ बालकृष्ण देश के दस सबसे अमीर लोगों की सूची में जगह बनाने में सफल रहे। डी-मार्ट के दमानी की संपत्ति में सबसे ज्यादा 320 फीसद का इजाफा हुआ है। सूची में बालाकृष्ण ने अच्छी छलांग लगाई और आठवां स्थान हासिल किया। पिछले साल वह 25वें स्थान पर थे। उनकी संपत्ति 173 फीसद बढ़कर 70,000 करोड़ रुपये हो गई। पतंजलि का कारोबार बीते वित्त वर्ष में बढ़कर 10,561 करोड़ रुपये हो गया। उसका कारोबार दूसरी ग्लोबल एफएमसीजी कंपनियों के करीब पहुंच गया।

सूची में डी-मार्ट ग्रुप की कंपनी एवेन्यू सुपरमा‌र्ट्स के चेयरमैन दमानी के बाद एंड्योरेंस टेक के अनुराग जैन ने जगह बनाई। उनकी संपत्ति में 286 फीसद का इजाफा हुआ।

मीडियाडॉटनेट के 34 वर्षीय दिव्यांक तुराखिया सबसे युवा अमीर हैं जिन्होंने सूची में स्थान बनाया। खास बात यह भी है कि उन्होंने अपना मुकाम खुद अपने बूते पर हासिल किया है। उनके साथ पांच अन्य अंडर-40 लोगों ने सूची में जगह बनाई। ये सभी टेक्नोलॉजी बिजनेस से जुड़े हैं और उन्होंने संपत्ति खुद अपने बूते पर अर्जित की है।

बेंगलुरु की 42 वर्षीय अंबिगा सुब्रमण्यम अपने बूते पर मुकाम हासिल करने वाली सबसे युवा महिला हैं। उन्होंने अपनी कंपनी मु-सिग्मा की हिस्सेदारी बेची है। वह इस डाटा एनालिटिक्स कंपनी की को-फाउंडर थीं। इस साल सूची में 51 महिलाओं ने जगह बनाई है।

शीर्ष 100 अमीर लोगों की सूची में सबसे निचले स्तर पर रहे अमीर की संपत्ति वर्ष 2013 के मुकाबले दोगुनी 8400 करोड़ रुपये हो गई। सूची में टॉप टेन शहरों में कानपुर व चेन्नई ने भी जगह बनाई है। कानपुर के आठ अमीरों को जगह मिली है। डीएलएफ के कुशलपाल सिंह ने 27400 करोड़ रुपये संपत्ति के साथ रियल एस्टेट के सबसे अमीर के तौर पर सूची में जगह बनाई

आरआइएल तीसरी सबसे बड़ी एनर्जी कंपनी बनी

रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. (आरआइएल) दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी एनर्जी कंपनी बन गई है। उसने रूस की गैस कंपनी गजरपोम और जर्मनी की ई. ऑन को पीछे छोड़ दिया है। प्लेट्स टॉप 250 ग्लोबल एनर्जी कंपनी रैंकिंग्स के अनुसार टॉप टेन कंपनियों की सूची में इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आइओसी) ने भी जगह बनाई है। इस साल वह सातवें स्थान पर पहुंच गई। पिछले साल वह 14वें स्थान पर थी।

आइओसी लगातार अपनी स्थिति सुधार रही है। वर्ष 2015 में यह 66वें स्थान पर थी। सूची में ओएनजीसी 20वें स्थान से छलांग लगाकर 11वें स्थान पर पहुंच गई। एसएंडपी ग्लोबल प्लेट्स की रैंकिंग में भारत की 14 एनर्जी कंपनियों ने जगह बनाई है। 250 कंपनियों की इस सूची में पिछले साल भारत की 15 कंपनियां थीं।

कौन हैं आचार्य  बालकृ्ष्ण
 आचार्य बालकृष्ण पतंजलि आयुर्वेद के एमडी है। बालकृष्ण के नेतृत्व में पतंजलि देश के शीर्ष एफएमसीजी सेक्टर में शामिल हो गया है। मूल रूप से नेपाल के रहने वाले बालकृ्ष्ण को शुरू से ही आयुर्वेद में रूचि थी। उन्होंने सम्पूर्णानंद विश्वविद्यालय बनारस से आचार्य की डिग्री भी ली है। पतंजलि का प्रमुख चेहरा भले ही रामदेव हो लेकिन सारे कामकाज में बालकृष्ण की भूमिका अहम होती है।