BREAKING NEWS

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान◾बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमला : भाजपा नेता दिलीप घोष हसीना पर नरम, ममता पर गरम◾केंद्र को भाजपा में सही सोचने वाले लोगों की सुननी चाहिए: किसान नेताओं ने कहा◾भारत-पाक टी-20 को लेकर 'AAP' ने की मांग, कहा- कश्मीर में नागरिकों की हत्या को देखते हुए रद्द हो मैच ◾लखीमपुर हिंसा मामले में SIT का नया पैंतरा, छह तस्वीरें जारी कर कहा- पहचान बताने वाले को देंगे इनाम◾पाकिस्तान सेना का दावा- भारत की पनडुब्बी को अपने समुद्री क्षेत्र में घुसने से रोका! जारी की वीडियो फुटेज ◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: कृषि मंत्री की वायरल फोटो पर मचा बवाल, तोमर के साथ दिखे निहंग अमनदीप सिंह◾बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले दोनों देशों के रिश्तों को कमजोर करने की साजिश: CM बिप्लब देब◾बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने गृह मंत्री से कहा-हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ जल्द करे कार्रवाई◾घोषणाओं के बजाय प्रतिज्ञा को तरजीह देगी कांग्रेस, UP की राजनीति महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ी : सुप्रिया श्रीनेत ◾प्रियंका के महिलाओं को टिकट देने के ऐलान को मायावती ने बताया कांग्रेस की कोरी चुनावी नाटकबाजी◾बंगाल उपचुनाव : BJP उम्मीदवार के साथ धक्का-मुक्की, कहा- प्रचार से रोकने के TMC ने की ऐसी हरकत◾पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना◾चुनाव प्रचार के दौरान मछली मारते नजर आए तेजस्वी, RJD ने CM नीतीश पर कसा तंज ◾हिंदी ना आने पर भिड़े कस्टमर और जोमैटो का कर्मचारी, विवाद बढ़ने पर कंपनी को मांगनी पड़ी माफी ◾उत्तराखंड में भारी बारिश से मची तबाही, मरने वालों की संख्या 11 हुई, कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका◾कश्मीर में बढ़ रही हिंसा पर बोले राहुल गांधी-मोदी सरकार सुरक्षा देने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई◾प्रियंका गांधी ने किया बड़ा ऐलान- यूपी चुनाव में कांग्रेस 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी◾'टारगेट किलिंग' से बढ़ते भय के बीच अमित शाह ने PM मोदी से की मुलाकात, आंतरिक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर की चर्चा ◾सेना प्रमुख नरवणे ने LOC के अग्रिम इलाकों का किया दौरा,घुसपैठ रोधी अभियानों की दी गयी जानकारी◾

राजनाथ की गांधी-सावरकर पर टिप्पणी से भड़के रमेश और ओवैसी, बताया इतिहास बदलने की कोशिश

विपक्ष के कुछ नेताओं ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा महात्मा गांधी और वीर सावरकर के संदर्भ में की गई एक टिप्पणी को लेकर बुधवार को उन पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि वह ‘इतिहास को फिर से लिखने की कोशिश कर रहे हैं।’ 

जयराम रमेश और औवैसी ने साधा निशाना 

सिंह ने मंगलवार को कहा था कि महात्मा गांधी के कहने पर वीर सावरकर ने अंग्रेजी शासन को दया याचिकाएं दी थीं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश और एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन औवैसी ने महात्मा गांधी द्वारा से 25 जून, 1920 को सावरकर के भाई को एक मामले में लिखे गए पत्र की प्रति ट्विटर पर साझा की और आरोप लगाया कि भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह गांधी द्वारा लिखी गई बात को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं। 

आरएसएस की आदत से मुक्त नहीं हो सके राजनाथ - रमेश

रमेश ने कहा, ‘‘राजनाथ सिंह जी मोदी सरकार की कुछ गंभीर और शालीन लोगों में से एक हैं। परंतु लगता है कि वह भी इतिहास के पुनर्लेखन की आरएसएस की आदत से मुक्त नहीं हो सके हैं। उन्होंने महात्मा गांधी ने 25 जनवरी, 1920 को जो लिखा था, उसे अलग रूप से पेश किया है।’’ ओवैसी ने कहा कि सावरकर की ओर से पहली दया याचिका 1911 में जेल जाने के छह महीनों बाद दी गई थी और उस समय महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका में थे। इसके बाद सावरकर ने 1913-14 में दया याचिका दी। 

भाजपा ने सावरकर का किया बचाव 

भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने सावरकर का बचाव करते हुए ट्वीट कर कहा, ‘‘कांग्रेस सावरकर जी का विरोध करती है जो ब्रिटिश प्रशासन के साथ कभी नहीं जुड़े और मातृभूमि के लिए सर्वोच्च बलिदान का उदाहरण प्रस्तुत किया। बहरहाल, कुछ लोग माउंटबेटन के घर पर नियमित रूप से रात्रिभोज करते थे।’’ 

भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख अमित मालवीय ने सावरकर के बारे में गांधी की एक टिप्पणी को उद्धृत करते हुए कहा, ‘‘वह बहुत समझदार हैं। वह बहादुर हैं, वह देशभक्त हैं। मौजूदा सरकार में निहित बुराई को उन्होंने मुझसे पहले देख लिया था। वह भारत से बहुत प्रेम करने के कारण अंडमान में हैं। वह सरकार में वह बड़े पद पर आसीन रहे होते।’’ 

राजनाथ सिंह के इस बयान पर उभरी सियासत 

राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा था कि राष्ट्र नायकों के व्यक्तित्व एवं कृतित्व के बारे में वाद-प्रतिवाद हो सकते हैं लेकिन विचारधारा के चश्मे से देखकर वीर सावरकर के योगदान की उपेक्षा करना और उन्हें अपमानित करना क्षमा योग्य और न्यायसंगत नहीं है। 

राजनाथ सिंह ने उदय माहूरकर और चिरायु पंडित की पुस्तक ‘‘वीर सावरकर हु कुड हैव प्रीवेंटेड पार्टिशन’’ के विमोचन कार्यक्रम में यह बात कही । उन्होंने यह भी कहा था कि महात्मा गांधी के कहने पर सावरकर ने अंग्रेजों के समक्ष दया याचिका दी थी ।