BREAKING NEWS

BJP सांसद की कार से कुचलकर बच्चे की मौत, पिता का आरोप - अब तक कोई कार्यवाही नहीं◾मदरसों में कक्षा 1 से 8 तक अब नहीं मिलेगी स्कॉलरशिप, केंद्र सरकार ने लगाई रोक◾अमेरिका के मैरीलैंड में बड़ा हादसा : बिजली के पोल से टकराया विमान, 90 हज़ार घरों की बत्ती गुल◾आफताब को लेकर दिल्ली के रोहिणी में स्थित FSL पहुंची पुलिस, आज फिर होगा पॉलीग्राफ टेस्ट◾भारत जोड़ो यात्रा : बुलेट के बाद साइकिल की सवारी करते दिखे राहुल गांधी◾Maharashtra: राज ठाकरे की कांग्रेस व भाजपा से अपील, राष्ट्रीय नायकों को बदनाम करना बंद करें◾आज का राशिफल (28 नवंबर 2022)◾Rajasthan News: धर्मेंद्र प्रधान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा -कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मिले जनादेश का अपमान कर रही है◾राष्ट्रपति मुर्मू 29 नवंबर को हरियाणा रोडवेज में E -Ticket प्रणाली की शुरुआत करेंगी,छह डिपो में होगी लागू◾AAP पर निशाना साधते हुए बोले PM - नर्मदा विरोधी ताकतों के समर्थकों को गुजरात में पैर जमाने देने का पाप न करें◾CM गहलोत को कुछ शब्दों का नहीं करना चाहिए था इस्तेमाल, हम संगठन को मजबूत करने वाला लेंगे फैसला : जयराम ◾Kerala : बंदरगाह विरोधी प्रदर्शनकारियों ने थाने पर किया हमला, 9 पुलिसकर्मी घायल, मीडिया से भी की बदसलूकी ◾Mangaluru Blast : कर्नाटक पुलिस ने तमिलनाडु में कई स्थानों पर की छापेमारी, लोगों को किया तलब ◾गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ शामिल IPL 2022 फाइनल, BCCI सचिव जय शाह ने दी जानकारी◾FIFA World Cup 2022 : जापान को कोस्टा रिका ने हराया, 1-0 से दी मात◾PM मोदी ने कहा- कांग्रेस और अन्य दल आतंकवाद को कामयाबी के ‘शॉर्टकट’ के रूप में देखते ◾ Punjab: पंजाब में दिल दहला देने वाला मामला, ट्रेन की चपेट में आने से तीन की मौत, जानें पूरी स्थिति◾Delhi: हाई कोर्ट ने कहा- मसाज पार्लर की आड़ में होने वाली वेश्यावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए दिल्ली पुलिस◾Bihar News: उमेश कुशवाहा को फिर मिला मौका, बने रहेंगे जदयू की बिहार इकाई के अध्यक्ष◾Maharashtra: महाराष्ट्र में दर्दनाक हादसा, रेलवे स्टेशन फुटओवर ब्रिज का गिरा एक हिस्सा, इतने लोग हुए घायल◾

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद : अंतिम सुनवाई के गवाह नहीं बन पाएंगे कई प्रमुख वादकारी

अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाये जाने के 25 साल पूरे होने से एक दिन पहले आज उच्चतम न्यायालय में रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की अंतिम सुनवाई हो रही है, मगर इस मामले के कई प्रमुख वादकारी इस अदालती प्रक्रिया के गवाह नहीं बन सकेंगे। मंदिर-मस्जिद विवाद सबसे पहले वर्ष 1949 में अदालत की चौखट पर पहुंचा था। उस वक्त महन्त रामचन्द, दास परमहंस ने रामलला के दर्शन और पूजन की इजाजत देने के लिये न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

विवादित स्थल से कुछ दूरी पर स्थित कोटिया इलाके में रहने वाले हाशिम अंसारी ने भी अदालत में याचिका दाखिल करके बाबरी मस्जिद में रखी मूर्तियां हटाने के आदेश देने का आग्रह किया था।  विवादित स्थल को लेकर अदालती लड़ई के दौरान भी महन्त परमहंस और अंसारी की दोस्ती नहीं टूटी। बताया जाता है कि वे पेशी पर हाजिरी के लिये एक ही रिक्शे से अदालत जाया करते थे। मगर अब ये दोनों ही उच्चतम न्यायालय में प्रकरण की अंतिम सुनवाई के साक्षी नहीं बन सकेंगे। महंत परमहंस का निधन 20 जुलाई 2003 को हुआ था, वहीं अंसारी पिछले साल जुलाई में दुनिया को अलविदा कह गये।

अयोध्या के रहने वाले मोहम्मद इदरीस का कहना है कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की अंतिम सुनवाई के दौरान दो प्रमुख वादकारियों महन्त परमहंस और अंसारी जरूर याद आएंगे।  अंसारी ऐसे पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने विवादित स्थल पर 22 दिसम्बर 1949 की रात को मूर्तियां रखे जाने को लेकर फैजाबाद की अदालत में हिन्दू महासभा द्वारा मस्जिद पर अवैध कब्जे का वाद दायर किया था। अंसारी ही ऐसे अकेले व्यक्ति थे जो ना सिर्फ वर्ष 1949 में बाबरी मस्जिद में मूर्तियां रखे जाने के गवाह थे, बल्कि उन्होंने विवादित स्थल से जुड़ तमाम घटनाक्रम को खुद देखा था। इनमें विवादित स्थल का ताला खोले जाने से लेकर छह दिसम्बर 1992 में ढांचा गिराये जाने और सितम्बर 2010 में विवादित जमीन को तीन हिस्सों में तकसीम करने का इलाहाबाद उच्च न्यायालय का फैसला भी शामिल है।

विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के नेता अशोक सिंघल को राम मंदिर आंदोलन का मुख्य शिल्पी बताया जाता है। सिंघल 1980 के दशक में मंदिर आंदोलन का पर्याय बन गये थे। वह भी देश की सर्वोच्च अदालत में अयोध्या मामले की अंतिम सुनवाई के साक्षी नहीं बन सकेंगे। उनका वर्ष 2015 में देहान्त हो चुका है।

सिंघल ने वर्ष 1985 में राम जानकी रथ यात्रा निकाली और विवादित स्थल का ताला खोलने की मांग की। फैजाबाद की अदालत द्वारा ताला खोलने के आदेश दिये जाने के बाद सिंघल ने राम मंदिर निर्माण की मुहिम शुरू की थी।

मंदिर-मस्जिद विवाद का एक और चेहरा रहे महन्त भास्कर दास भी अब इस दुनिया में नहीं हैं। वह रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले के मुख्य वादकारी तथा निर्मोही अखाड़ के मुख्य पुरोहित थे। दास ने वर्ष 1959 में रामजन्मभूमि के मालिकाना हक का दावा दायर किया था।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनरू पीठ द्वारा 30 सितम्बर 2010 को विवादित स्थल के मामले में फैसला सुनाये जाने के बाद भास्कर दास ने सम्पूर्ण रामजन्मभूमि परिसर पर मालिकाना हक का दावा उच्चतम न्यायालय में दाखिल किया था। दास का इसी साल सितम्बर में निधन हुआ है। बुधवार छह दिसंबर को बाबरी मस्जिद विध्वंस के 25 साल पूरे हो रहे हैं। अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।