BREAKING NEWS

दिल्ली में निशुल्क यात्रा की योजना लागू होने के बाद से महिला यात्रियों की हिस्सेदारी 10 फीसदी बढ़ी ◾तीसहजारी कांड : दिल्ली पुलिस ने अदालत में दाखिल की प्रगति रिपोर्ट, SIT जांच में मांगा सहयोग◾लोकसभा से चिट फंड संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी◾महाराष्ट्र की राजनीतिक तस्वीर साफ हुई, जल्द बन सकती है शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार ◾मंत्रिमंडल ने 1.2 लाख टन प्याज आयात की मंजूरी दी : सीतारमण◾NC, PDP ने कश्मीर में सामान्य हालात बताने पर केंद्र की आलोचना की◾पृथ्वी-2 मिसाइल का रात के समय सफलतापूर्वक परीक्षण ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जल्द मिलेगी गुड न्यूज : राउत ◾सकारात्मक चर्चा हुई, जल्द सरकार बनेगी : चव्हाण◾'हिटलर की बहन' वाले बयान पर बेदी का मुख्यमंत्री पर पलटवार◾यशवंत सिन्हा ने 22 से 25 नवंबर तक कश्मीर यात्रा की घोषणा की ◾TOP 20 NEWS 20 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस ने भाजपा-जजपा गठबंधन पर साधा निशाना, कहा- ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी सरकार ◾INX मीडिया मामला : चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC का ED को नोटिस ◾राज्यसभा में सीट बदले जाने पर भड़के संजय राउत, स्पीकर वेंकैया नायडू को लिखा पत्र ◾CM ममता का अमित शाह पर पलटवार, कहा- बंगाल में एनआरसी को नहीं लागू होने देंगे◾पूरे देश में लागू होगा NRC, किसी को भी डरने की जरूरत नहीं : अमित शाह◾ महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच NCP प्रमुख शरद पवार ने PM मोदी से की मुलाकात◾राज्यसभा में बोले शाह- जम्मू एवं कश्मीर में 5 अगस्त के बाद से नहीं हुई एक भी मौत ◾कांग्रेस ने राज्यसभा में फिर उठाया SPG सुरक्षा का मुद्दा, भाजपा ने दिया ये जवाब◾

देश

रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच

सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि विधि प्रवर्तन एजेंसियों के पास अफवाह और हिंसा फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक पहुंच होनी चाहिए। हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारत कूटेलखन या एन्क्रिप्शन का सम्मान करता है। 

इंडिया मोबाइल कांग्रेस-2019 को संबोधित करते हुए सोमवार को प्रसाद ने कहा, ‘‘हम एन्क्रिप्शन का सम्मान करते हैं लेकिन जब अफवाह फैलाने के संदेश एक ही समय, एक ही क्षेत्र और एक ही मुद्दे पर बार-बार आगे बढ़ाएं जाएं, तो निश्चित रूप से इसके स्रोत का पता लगना चाहिए ताकि इनसे निपटा जा सके।’’ मंत्री ने कहा, ‘‘इंटरनेट स्थिर और सुरक्षित होना चाहिए। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए।’’ संदेश तक पहुंच या पहचान सरकार और मैसेजिंग कंपनी व्हॉट्सएप के बीच विवाद का प्रमुख मुद्दा है। 

भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई

फेसबुक की इकाई व्हॉट्सएप अभी तक संदेश के मूल स्रोत तक पहुंच की भारत की मांग पूरी नहीं कर रही है। व्हॉट्सएप की दलील है कि इससे गोपनीयता की नीति और कूटलेखन प्रभावित होगा। सूत्रों ने कहा कि फेसबुक के वैश्विक मुख्य कार्यकारी निक क्लेग ने पिछले महीने प्रसाद के साथ बैठक में संदेशों तक पहुंच के विकल्प रखे थे। इसमें इस मुद्दे से निपटने का ‘मेटा डेटा’ और मशीन इंटेलिजेंस का इस्तेमाल शामिल है। यहां तक कि उन्होंने विधि प्रवर्तन एजेंसियों को सहयोग के लिए व्हॉट्सएप, इंस्टाग्राम और फेसबुक के संपर्क उपलब्ध कराने की पेशकश की थी। 

अपने संबोधन में प्रसाद ने कहा कि भारत दुनिया में सबसे अधिक आंकड़ों का सृजन कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहता हूं कि भारत डेटा के विश्लेषण, शोधन और उसे परिष्कृत करने का बड़ा केंद्र बन सके।’’ मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि डेटा गोपनीयता, डेटा नवोन्मेष और डेटा उपयोग के बीच संतुलन कायम किया जाए।