BREAKING NEWS

केजरीवाल ने दी निजी अस्पतालों को चेतावनी, कहा- राजनितिक पार्टियों के दम पर मरीजों के इलाज से न करें आनाकानी◾ED ऑफिस तक पहुंचा कोरोना, 5 अधिकारी कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद 48 घंटो के लिए मुख्यालय सील ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटों की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

RBI ने नीतिगत दर में कटौती के दिये संकेत, नकदी बढ़ाने के किये उपाय

रिजर्व बैंक ने सोमवार को नीतिगत दर में कटौती के संकेत दिये। गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि केन्द्रीय बैंक जरूरत पड़ने पर हर प्रकार के कदम उठाने को तैयार है। साथ ही उन्होंने तंत्र में नकदी बढ़ाने के और उपायों की भी घोषणा की। रिजर्व बैंक ने सोमवार को अचानक दोपहर में संवाददाता सम्मेलन बुलाये जाने की सूचना दी। इससे बाजार को नीतिगत दर में कटौती की उम्मीद थी। 

दास ने कहा कि रिजर्व बैंक के पास कोरोना वायरस महामारी से उत्पन्न स्थिति से निपटने को लेकर पर्याप्त नीतिगत उपाय हैं और जरूरत पड़ने पर वह कोई भी ‘उपाय’ करने को तैयार है। नीतिगत दर को 5.15 प्रतिशत में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किये जाने के बारे में पूछे जाने पर दास ने कहा, ‘‘कानून के तहत नीतिगत दर में कटौती मौद्रिक नीति समिति की बैठक में होने वाले निर्णय के जरिये होती है लेकिन वह किसी भी संभावना से इनकार नहीं कर रहे। मौजूदा परिवेश में उभरती स्थिति के आधार पर उठाये जाने वाले कदम के बारे में निर्णय करेंगे।’’ 

बाजार में नकदी बढ़ाने के लिये दास ने विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में 23 मार्च को खरीद-बिक्री के जरिये 2 अरब डॉलर डालने की घोषणा की है। इस व्यवस्था में आरबीआई बाजार में डॉलर बेचकर रुपया खरीदता है। साथ ही जरूरत पड़ने पर रेपो दर पर दीर्घकालीन (एलटीआरओ) एक लाख करोड़ रुपये मूल्य के बांड की खरीद-फरोख्त का एक और दौर शुरू करेगा। आरबीआई ने 16 मार्च को पहला डालर- रुपया खरीद-बिक्री के जरिये 2 अरब डॉलर बाजार में डाले। वहीं एलटीआरओ के तहत वह 14 फरवरी से चार चरणों में एक लाख करोड़ रुपये मूल्य के बांड खरीद चुका है। शीर्ष बैंक ने इस पहल की घोषणा छह फरवरी को नीतिगत समीक्षा में की थी। 

रिजर्व बैंक ने अचानक दोपहर में संवाददाता सम्मेलन बुलाये जाने की सूचना दी। बाजार यह मानकर चल रहा था कि रिजर्व बैंक नीतिगत दर में कटौती कर सकता है। कई विशेषज्ञों का मानना है कि आरबीआई के पास जून तक नीतिगत दर में 0.65 प्रतिशत तक की कटौती की गुंजाइश है। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने पिछले 10 दिनों में नीतिगत दर में दोबारा कटौती की और यह शून्य के करीब पहुंच गई है। इसी प्रकार, बैंक ऑफ इंग्लैंड ने भी नीतिगत दर में 0.50 प्रतिशत की कटौती की है। यूरोपीय सेंट्रल बैंक ने भी इसी प्रकार का कदम उठाया है। इसको देखते हुए आरबीआई से नीतिगत दर में कटौती की उम्मीद की जा रही थी। 

कोरोना वायरस के अर्थव्यवस्था पर प्रभाव के बारे में पूछे गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि आरबीआइ्र इसका आकलन कर रहा है ओर एमपीसी की अगली बैठक में इस बारे में अनुमान जताया जाएगा। यस बैंक के बारे में दास ने कहा कि यस बैंक संकट के समाधान को लेकर सरकार तथा केंद्रीय बैंक ने त्वरित कदम उठाये हैं। यस बैंक का पुनर्गठन भरोसेमंद और मजबूत है। उन्होंने कहा कि यस बैंक में जमाकर्ताओं का धन पूर्ण रूप से सुरक्षित, बैंक निजी क्षेत्र की इकाई बना रहेगा। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि निजी क्षेत्र के छोटे बैंकों समेत सभी बैंकों की सेहत बेहतर है और यस बैंक मजबूत पुनरूद्धार योजना के अंतर्गत है।