BREAKING NEWS

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्रंप के सत्ता हस्तांतरण पर कहा 'चुनाव बीत गया'◾मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार ने अपनी संपत्ति बनाने के लिए निजी कंपनियों की तरह काम किया :भाजपा ◾संजय राउत के बयान पर फडणवीस बोले- शिवसेना ने ‘लव जेहाद’ पर अपना रूख ‘नरम’ कर लिया है◾राकांपा प्रमुख शरद पवार बोले- शिवसेना विधायक सरनाईक के खिलाफ ईडी की कार्रवाई विपक्ष की निराशा है◾नेशनल कांफ्रेस के नेताओं ने सरकारी जमीन का किया अतिक्रमण : अनुराग ठाकुर◾'लव जिहाद' के खिलाफ अध्यादेश लाई योगी सरकार, जल्द बनेगा कानून ◾राहुल गांधी ने ‘निवार’ तूफान के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की ◾मोदी सरकार ने सुरक्षा का हवाले देते हुए बैन किए 43 मोबाइल ऐप्स, अधिकतर चाइनीज ऐप्स है शामिल ◾J&K प्रशासन का दावा - अब्दुल्ला का मकान गैरकानूनी तरीके से अतिक्रमण वाली जमीन पर बनाया गया ◾बंबई HC ने दी अभिनेत्री कंगना और उनकी बहन को बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई अंतरिम रोक ◾CM ममता ने PM मोदी को दिलाया विश्वास, कहा- बंगाल कोविड-19 के टीकाकरण लिए केंद्र के साथ मिलकर करेगा काम ◾पीएम मोदी बोले- कोरोना को लेकर फिर से जागरूकता फैलाने की जरूरत, वैक्सीन अभियान एक नेशनल कमिटमेंट ◾Covid 19 : PM मोदी के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी ने उठाया GST का मुद्दा◾पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी सर छोटू राम को उनकी जयंती पर किया नमन ◾PM मोदी के साथ संवाद में बोले सीएम गहलोत - राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच◾भारत ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, जल-थल और वायु में वार करने में सक्षम ◾PM मोदी के खिलाफ चुनाव में नामांकन रद्द करने के मामले में तेज बहादुर को SC से झटका, याचिका खारिज ◾मुख्यमंत्रियों संग पीएम मोदी की बैठक में बोले केजरीवाल- दिल्ली में 1000 बेड हो रिजर्व, प्रदूषण के मामले में दें दखल ◾केंद्रीय मंत्री रावसाहेब के दावे पर बोले राउत- हमारी सरकार 4 साल और करेगी पूरे, विपक्ष के सारे प्रयास फेल◾रोहिंग्या मुद्दे को लेकर ओवैसी का गृह मंत्री अमित शाह पर वार, BJP को दिया यह चैलेंज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

म्यामां के शरणार्थियों ने देश लौटने से किया इन्कार

पिछले साल नवंबर में म्यामां में अराकान विद्रोहियों और सेना के बीच संघर्ष के बाद मिजोरम के लावंग्तलाई जिले में शरण लेने वाले वहां के 1,400 लोगों ने अपने देश लौटने से इनकार कर दिया है। जिले के पुलिस अधीक्षक लालसंगलुरा ने कहा कि म्यामां सेना द्वारा सीमाई इलाकों में रहने वाले अराकान विद्रोहियों पर की गयी कार्रवाई के चलते पिछले साल 25 नवंबर के बाद से म्यामां से पलायन करने वाले शरणार्थियों ने यह कहते हुए वापस जाने से मना कर दिया कि वे म्यामां के सैन्यकर्मियों से ‘‘डरे’’ हुए हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि म्यामां सेना और अराकान विद्रोहियों के बीच संघर्ष साफ तौर पर रुक गया है और करीब एक महीने से गोलियों की कोई आवाज सुनायी नहीं दी है, मिजोरम-म्यामां सीमा के चार गांवों- लैत्लांग, दमजौतलांग, जोचाछुआ और ह्मावंगबुछुआ - में शरण लेने वाले लोगों ने फिर भी अपने गांव लौटने से मना कर दिया है।’’

ये शरणार्थी मुख्य रूप से म्यामां के चिन राज्य के वारंग, पलेटवा, पकांग्वा और मुलाव जैसे सीमाई गांवों के रहने वाले हैं। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शरणार्थियों को प्रशासनिक सहूलियत के लिए दो गांवों में समूहों में राहत शिविरों में रखा गया है और ऐसा इसलिए भी किया गया है कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे सब अपने इलाके में शांति बहाल होने के बाद अपने घर लौट सकें।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ