BREAKING NEWS

थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित◾कर्नाटक उपचुनाव में 62.18 प्रतिशत मतदान, 12 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला ◾प्याज को लेकर भाजपा सांसद ने कांग्रेस पर कसा तंज ◾मोदी को तानाशाह के रूप में बदनाम करने की साजिश : स्वामी◾आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री पहुंचे दिल्ली, मिलेंगे प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय मंत्रियों से ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची, पुलिस ने अस्पताल तक बनाया ग्रीन कॉरीडोर ◾अनुच्छेद 370 : लाइव स्ट्रीमिंग संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾हफ्ते भर बाद भी मंत्रियों को नहीं मिला विभाग, भाजपा ने की आलोचना ◾बैंक धोखाधड़ी : ईडी ने रतुल पुरी की जमानत अर्जी का किया विरोध◾राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾मायावती ने केंद्र द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और असंवैधानिक◾चिदंबरम ने पहले ही दिन जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया: प्रकाश जावड़ेकर◾अर्थव्यवस्था पर असामान्य रूप से मौन हैं PM मोदी, सरकार को नहीं कोई खबर : चिदंबरम ◾रेपो दर में नहीं हुआ कोई बदलाव, RBI ने GDP ग्रोथ अनुमान घटाकर किया 5 फीसदी◾वायनाड में बोले राहुल- PM मोदी और अमित शाह ‘काल्पनिक’ दुनिया में जी रहे हैं इसलिए देश संकट में है◾जेल से बाहर आते ही एक्शन में दिखे चिदंबरम, संसद परिसर में मोदी सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन◾प्रियंका ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर होने के फर्जी प्रचार से बाहर निकलना चाहिए◾

देश

म्यामां के शरणार्थियों ने देश लौटने से किया इन्कार

 5-204

पिछले साल नवंबर में म्यामां में अराकान विद्रोहियों और सेना के बीच संघर्ष के बाद मिजोरम के लावंग्तलाई जिले में शरण लेने वाले वहां के 1,400 लोगों ने अपने देश लौटने से इनकार कर दिया है। जिले के पुलिस अधीक्षक लालसंगलुरा ने कहा कि म्यामां सेना द्वारा सीमाई इलाकों में रहने वाले अराकान विद्रोहियों पर की गयी कार्रवाई के चलते पिछले साल 25 नवंबर के बाद से म्यामां से पलायन करने वाले शरणार्थियों ने यह कहते हुए वापस जाने से मना कर दिया कि वे म्यामां के सैन्यकर्मियों से ‘‘डरे’’ हुए हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि म्यामां सेना और अराकान विद्रोहियों के बीच संघर्ष साफ तौर पर रुक गया है और करीब एक महीने से गोलियों की कोई आवाज सुनायी नहीं दी है, मिजोरम-म्यामां सीमा के चार गांवों- लैत्लांग, दमजौतलांग, जोचाछुआ और ह्मावंगबुछुआ - में शरण लेने वाले लोगों ने फिर भी अपने गांव लौटने से मना कर दिया है।’’

ये शरणार्थी मुख्य रूप से म्यामां के चिन राज्य के वारंग, पलेटवा, पकांग्वा और मुलाव जैसे सीमाई गांवों के रहने वाले हैं। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शरणार्थियों को प्रशासनिक सहूलियत के लिए दो गांवों में समूहों में राहत शिविरों में रखा गया है और ऐसा इसलिए भी किया गया है कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे सब अपने इलाके में शांति बहाल होने के बाद अपने घर लौट सकें।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ