BREAKING NEWS

दिल्ली : सरिता विहार और जसोला में शाहीन बाग प्रदर्शन के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग◾पहले शाहीन बाग, फिर जाफराबाद और अब चांद बाग में CAA के खिलाफ धरने पर बैठे प्रदर्शनकारी ◾ट्रम्प की भारत यात्रा पहले से मोदी ने किया ट्वीट, लिखा- अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करने के लिए उत्साहित है भारत◾सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसलों ने देश के कानूनी और संवैधानिक ढांचे को किया मजबूत : राष्ट्रपति कोविंद ◾Coronavirus के प्रकोप से चीन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 2400 पार ◾शाहीन बाग प्रदर्शन को लेकर वार्ताकार ने SC में दायर किया हलफनामा, धरने को बताया शांतिपूर्ण◾मन की बात में बोले PM मोदी- देश की बेटियां नकारात्मक बंधनों को तोड़ बढ़ रही हैं आगे◾बिहार में बेरोजगारी हटाओ यात्रा के खिलाफ लगे पोस्टर, लिखा-हाइटैक बस तैयार, अतिपिछड़ा शिकार◾भारत दौरे से पहले दिखा राष्ट्रपति ट्रंप का बाहुबली अवतार, शेयर किया Video◾CAA के विरोध में दिल्ली के जाफराबाद में प्रदर्शन जारी, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात ◾जाफराबाद में CAA के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर कपिल मिश्रा का ट्वीट, लिखा-मोदी जी ने सही कहा था◾US में निवेश कर रहे भारतीय निवेशकों से मुलाकात करेंगे Trump◾कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने पाक राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात◾J&K के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों की जल्द रिहाई के लिए प्रार्थना करता हूं : राजनाथ सिंह◾1 मार्च से नहीं मिलेंगे 2000 रुपये के नोट, इस सरकारी बैंक ने लिया बड़ा फैसला !◾इलाहाबाद रेलवे डिवीजन हुआ प्रयागराज रेलवे डिवीजन ◾GSI ने सोनभद्र को लेकर किया खुलासा , कहा - 3 हजार टन नहीं, 160 किलो सोना निकलने की संभावना◾कांग्रेस के शीर्ष नेता, पार्टी का बड़ा वर्ग चाहता है कि राहुल फिर बनें अध्यक्ष : सलमान खुर्शीद◾मायावती ने Modi सरकार पर बोला हमला, कहा - आरक्षण को ‘धीमी मौत’ दे रही है BJP◾देश के 20 राज्यों में AAP पार्टी शुरू करेगी राष्ट्र निर्माण अभियान◾

अमित शाह की रैली में शरणार्थियों का छलका दर्द

भारत सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू करके पूर्वी पाकिस्तान और बांग्लादेश के शरणार्थियों को न्याय दिलाने की कवायद शुरू कर दी है। पाकिस्तान और बांग्लादेश की हिंदू कालोनियों में लगने वाले 'अल्लाह ओ अकबर' के नारों के बीच खुद को असहाय समझने वाले लोग सीएए कानून लागू होने से खुश नजर आ रहे हैं। 

अमित शाह की रैली में आए हुए शरणार्थियों से जब आईएएनएस ने बातचीत की तो उनका दर्द कुछ इस तरह छलका : लखीमपुर के रहने वाले विश्राम विश्वास ने बताया कि वह अपने दादा के साथ 1975 में पूर्वी पाकिस्तान से आए थे। उनके दादा के और उनके परिवार के साथ वहां पर बहुत अन्याय हुआ। वे अपना त्यौहार नहीं माना पाते थे। काफी लूट-पाट होती थी। इसके बाद उन्होंने उस देश को छोड़ने का निर्णय लिया। 

खीरी जिले के रमिया बेहड़ ब्लक में सुजानपुर (कृष्णनगर) के रहने वाले अनुकूल चंद्र दास ने बताया कि जब उनके पिताजी, मां, दादी और उनका एक छोटा भाई पूर्वी पाकिस्तान के जिला फरीदपुर की तहसील गोपालगंज क्षेत्र से विस्थापित होकर आए, तब उनकी उम्र मात्र 14 साल थी। 

शुरुआत में उनका परिवार माना कैम्प, रायपुर (तब के मध्यप्रदेश और वर्तमान छत्तीसगढ़) में रुका। 3 माह तक ट्रांजिट कैम्प में रुकने के बाद पहले 1700 परिवार उधम सिंह नगर और रुद्रपुर आए। वहां से सरकार ने इन परिवारों को खीरी जिले में विस्थापित किया। बाद में भी हजारों परिवार लगातार 1970 तक खीरी में आकर बसे। यह लोग सीएए कानून लागू होने की खुशी मना रहे हैं। 

रवींद्रनगर, मोहम्मदी तहसील खीरी के रहने वाले निर्मल विश्वास ने बताया कि उनका परिवार बांग्लादेश के जसोर जिला से आाए थे। तब निर्मल आठ साल के थे। सन् 1964 में अपने माता-पिता के साथ आए निर्मल के पिता खीरी तक नहीं पहुंचे और विस्थापन की दौड़ में कलकत्ता (कोलकाता) में ही उनकी मौत हो गई।

 

आज निर्मल 65 साल के बुजुर्ग हैं। उन्होंने बताया कि इनके पास वोटर कार्ड और राशन कार्ड तो बन गए, पर नागरिकता अभी तक नहीं मिली है। यह कानून लागू होने के बाद भारत के नागरिक बन जाएंगे। 

रमेश अहूजा ने बताया कि उनके परदादा लखीमपुर 1967 में आए थे। पूर्वी पाकिस्तान में छोटे बच्चों तक की हत्या होती थी। वहां के लोग हिंदुओं की बस्ती में जबरदस्ती नारेबाजी करते थे। ऐसी हालत में उनके दादाजी वहां से जान बचाकर भागे थे। 

विक्रम ने कहा, 'सीएए कानून का विरोध करने वालों को एक बार इस कानून के बारे में पढ़ना चाहिए। वे हम लोगों से मिलें, हम उन्हें अपनी दर्दभरी दास्तां सुनाएंगे, तब उन्हें यकीन होगा।'