BREAKING NEWS

KXIP vs SRH ( IPL 2022) : पंजाब किंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को 5 विकेट से हराया◾PM मोदी टोक्यो में क्वाड इनिशिएटिव, द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक◾WHO चीफ ने कोविड महामारी को लेकर दिया बड़ा बयान◾राजभर ने अखिलेश पर कसा तंज , कहा - यादव जी को लग गई है एयर कंडीशनर की हवा ◾ केंद्र के बाद इन राज्य सरकारों ने भी पेट्रोल-डीजल पर घटाया VAT , जानें क्या हैं नई कीमतें◾ होशियारपुर में 300 फीट गहरे बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, कुत्ते से कर रहा था बचाव◾ श्रीलंका के लिए संकट मोचन बना भारत, जरूरी राहत सामग्री लेकर कोलंबो पहुंचा जहाज◾ SA टी20 सीरीज और इंग्लैंड के साथ एक टेस्ट के लिए भारतीय टीम हैं तैयार, यहां देखें किसे-किसे मिला मौका◾ SRH vs PBKS: हैदराबाद ने पंजाब के खिलाफ टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, यहां देखें Playing XI◾ बंगाल में BJP को लगा बड़ा झटका, सांसद अर्जुन सिंह ने थामा टीएमसी का हाथ◾'न उगली जाए, न निगली जाए' की स्थिति में विपक्ष! ज्ञानवापी विवाद में सपा, बसपा और कांग्रेस ने क्यों साधी चुप्पी?◾ आज से नौकरशाहों के हाथों में दिल्ली MCD की डोर, स्पेशल अफसर अश्वनी कुमार और कमिश्नर ज्ञानेश भारती ने संभाला चार्ज◾2024 की तैयारी में राजनीतिक समीकरण साध रहे KCR... CM केजरीवाल से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई चर्चा ◾दिल्ली: कुतुब मीनार परिसर में खुदाई को लेकर नहीं लिया गया कोई फैसला, केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कही यह बात ◾ इटालियन चश्मा उतारें तो पता चलेगा विकास....,राहुल गांधी पर अमित शाह ने कसा तंज◾ज्ञानवापी से लेकर ईदगाह मस्जिद तक... जानें क्यों कटघरे में खड़ा है पूजा स्थल अधिनियम 1991? पढ़े खबर ◾भारत में जनता के हित में लिए जाते हैं फैसले, बाहरी दबावों को किया जाता है दरकिनार : इमरान खान ◾ क्वाड के लिए जापान रवाना हुए पीएम मोदी, बैठक के बारे में बताया क्या-क्या होगा खास◾Gyanvapi Case: ज्ञानवापी मामले ने लिया दिलचस्प मोड़... विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने किया यह बड़ा दावा! ◾यूपी : विधानसभा सत्र से एक दिन पहले SP के विधायक दल की हुई बैठक, शामिल नहीं हुए आजम और शिवपाल ◾

कोविड 19 के गहराते संकट से जल्द मिलेगी राहत! कोरोना की तीसरी लहर को लेकर SBI के शोध में बड़ा दावा

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के नए मामले फिलहाल लगातार बढ़ोतरी कर रहे है। ऐसे में इस महामारी को रोकने के लिए टीका के सिवाए कोई और विकल्प भी नहीं है। देश समेत दुनियाभर के कई विशेषज्ञों ने दावा किया है कि इस महामारी का अंत अभी नहीं होने वाला है। 

तो दूसरी ओर, देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के शोध में पता चला है कि कोरोना की तीसरी लहर के अंत की शुरुआत इसी हफ्ते हो जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में सात जनवरी को कोरोना से जुड़े मामले अपने शिखर पर थे। इसके दो से तीन हफ्ते के भीतर देश में भी इसका पीक आ जाएगा। 

टीकाकरण ने रोकी तीसरी लहर की रफ्तार? 

रिसर्च के मुताबिक, देश में टीकाकरण की तेजी गति की बदौलत कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर ज्यादा लंबी नहीं खिंची है। वहीं ये भी बताया गया है कि ओमीक्रोन के पांव पसारने से पिछले एक सप्ताह में भारत की कारोबारी गतिविधियों मामूली गिरावट दर्ज की गई है। मंगलवार को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में 29 दिसंबर 2021 से कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे। 

मुंबई में सात जनवरी के बाद से नए मामले घट रहे हैं। यहां 20,971 तक रोजाना नए मामलों की संख्या पहुंची थी। हालांकि पुणे, बेंगलुरु जैसे शहरों में इजाफा देखने को मिल रहा है। ऐसे में अगर बाकी जिलों में कोरोना से निपटने के लिए सख्त कदम उठाए जाते हैं तो मुंबई के पीक के 2-3 हफ्ते के बाद देश में इसका उच्चतम स्तर देखने को मिल सकता है।  

today's corona case: बीते 24 घंटों में कोविड के मामलों में हुई वृद्धि, सामने आए 2 लाख 82 हजार से ज्यादा नए मरीज

देश में  64 प्रतिशत लोगों का पूर्ण टीकाकरण 

सोमवार तक प्रतिदिन सामने आए नए मामलों की संख्या 238938 (पिछले सात दिन का औसत) रही। इससे सक्रिय मामले 1656341 तक पहुंच गए हैं। लेकिन, ध्यान भारत ने अपनी पात्र आबादी के 64 प्रतिशत को पूरी तरह से टीकाकृत कर दिया है। वहीं, 89 प्रतिशत ने कम से कम टीके की एक खुराक अवश्य ले ली है। 

आंकड़ों के मुताबिक, मौजूदा समय में टीकाकरण के सात दिन का औसत लगभग 70 लाख है। एसबीआई का कारोबारी इंडेक्स इस वर्ष 10 जनवरी को 109 था, जो 17 जनवरी को घटकर 101 रह गया है। बता दें कि यह पिछले वर्ष 15 नवंबर के बाद न्यूनतम स्तर है। इस लहर के प्रसार से पिछले एक सप्ताह में सब्जियों की आवक और राजस्व संग्रह का इडेंक्स भी गिरा है। 

15-18 आयु वर्ग के 3.45 करोड़ किशोरों का टीकाकरण 

रिपोर्ट के अनुसार, देश में 15-18 आयु वर्ग के 3.45 करोड़ किशोरों को कोरोना का टीका वहीं 44 लाख लोगों एहतियाती खुराक दी जा चुकी है। साथ ही जनवरी 2022 में कुल टीकाकरण में ग्रामीण टीकाकरण का हिस्सा बढ़कर 83 प्रतिशत हो गया, जो दर्शाता है कि मौजूदा लहर में ग्रामीण आबादी को काफी हद तक संरक्षित किया गया है। 

ग्रामीण क्षेत्रों के मामले में बिहार का प्रदर्शन बेहतर 

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि देश में पाए जा रहे नए मामलों में ग्रामीण जिलों की कुल हिस्सेदारी जनवरी में बढ़कर 32.6 प्रतिशत हो गई जबकि दिसंबर 2021 में यह सबसे कम 14.4 प्रतिशत थी। नए मामलों में ग्रामीण क्षेत्रों का हिस्सा आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, बिहार, जम्मू-कश्मीर, ओडिशा और राजस्थान राज्यों में अधिक है। 

इस मामले में ये राज्य रह गए पीछे 

एसबीआई रिसर्च के अनुसार, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, गुजरात, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और उत्तराखंड ने पहले ही अपनी पात्र आबादी के 70 प्रतिशत से अधिक को कोरोना का दूसरा टीका लगा दिया है। इस मामले में पंजाब, उत्तर प्रदेश और झारखंड अभी भी पिछड़ रहे हैं। इन राज्यों में टीकाकरण की गति तेज करने की आवश्यकता है।