BREAKING NEWS

असम: CM हिमंत ने 1200 से ज्यादा लोगों को सरकारी नौकरियों के नियुक्ति पत्र बांटे◾उच्चतम न्यायालय में दाखिल हुई याचिका, 'नागरिकों के मुद्दों पर संसद में चर्चा कराने को लेकर उठाया गया बड़ा कदम'◾स्टार्टअप के लिए सलाहकारों, निवेशकों, उद्यमियों का अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क बनाया जाएः पीयूष गोयल◾छत्तीसगढ़: कोयला लेवी 'घोटाला', मनी लॉन्ड्रिंग केस में ED ने चार लोगों को गिरफ्तार किया ◾Maharashtra: शरद पवार बोले- वंचित बहुजन अघाड़ी के बारे में MVA के घटक दलों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई है◾कई विवादों और आरोप-प्रत्यारोप के बीच सुर्खियों में बनी रही भारत जोड़ो यात्रा◾ मैं यज्ञ में शाम‍िल होने आया तो BJP ने मुझे रोकने के ल‍िए गुंडे भेजे- अख‍िलेश यादव◾ Kangana Ranaut: कंगना रनौत ने ट्वीट कर बॉलीवुड वालों को दी नसीहत, कहा- मत बनाओ हिंदू नफरत का नैरेटिव ◾लद्दाख : -20 डिग्री में लद्दाख को बचाने के लिए आंदोलन कर रहे 'सोनम वांगचुक' को सरकार ने किया नजरबंद ! ◾मायावती ने कहा, 'अडाणी समूह पर लगे आरोपों पर वक्तव्य जारी करे सरकार'◾MP: भारतीय वायुसेना के दो लड़ाकू विमान मुरैना में दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट शहीद ◾MP: भारतीय वायुसेना के दो लड़ाकू विमान मुरैना में दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट शहीद ◾Weather Update: पंजाब और हरियाणा में कड़ाके की ठंड जारी, जानें अपने शहर का हाल ◾यरूशलम में हुआ आतंकी हमला: अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने इजराइली प्रधानमंत्री से की बात ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के बिगड़े बोल: संतों-धर्माचार्यों को बताया आतंकवादी और जल्लाद◾आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान दिवालिया होने के कगार पर◾Delhi University: डीयू ने BBC वृत्तचित्र की स्क्रीनिंग को लेकर हुए हंगामे की जांच के लिए बनाई समिति ◾झारखंड के अस्पताल में लगी भयानक आग डॉक्टर समेत 6 लोग जिंदा जल कर हुए राख◾जयराम रमेश बोले- कांग्रेस को 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए किसी भी विपक्षी गठबंधन का आधार बनना होगा◾Tripura Assembly Election: चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची◾

चीनी मिल के मुद्दे पर राजद का हंगामा

पटना : बिहार विधानसभा में आज मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सदस्यों ने राज्य में नई चीनी मिलें खोलने, बंद पड़े मिलों को फिर से चालू कराने और गन्ना किसानों की खस्ताहाली को लेकर जमकर हंगामा किया। विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद विधायक ललन पासवान के रोहतास और कैमूर जिले में चीनी मिल खोले जाने से संबंधित तारांकित प्रश्न का उत्तर देते हुये गन्ना विकास मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने कहा कि राज्य सरकार के स्तर पर कोई चीनी मिल स्थापित करने की योजना नहीं है।

सरकार सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) और सहकारिता के माध्यम से इस क्षेत्र में निवेश करने वालों की मदद करती है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2006 और वर्ष 2014 में इस क्षेत्र के लिए प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की गई है। उन्होंने कहा कि रोहतास और कैमूर जिले के किसान गुड़ बनाने के लिए गन्ने की खेती करते हैं इसलिए इन जिलों में चीनी मिल खोलने की कोई योजना नहीं है।

यदि निवेशकों से प्रस्ताव प्राप्त होगा तो सरकार विचार करेगी। इस पर राजद विधायक एवं पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी ने पूछा कि राज्य में ऐसी कितनी मिलें हैं, जिनमें निजी क्षेत्र से निवेश का प्रस्ताव आया है। उन्होंने कहा कि सरकार 15 साल से बंद पड़ मिलों को चालू तो नहीं कर सकीं बल्कि उसकी जमीन औने-पौने दाम पर निजी क्षेत्र की कंपनियों को बेच रही है। उनके इतना कहते ही राजद सदस्य हंगामा करने लगे। सभाध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के आग्रह के बावजूद वे नहीं माने और किसान विरोधी सरकार हाय-हाय एवं किसानों की रक्षा करो के नारे लगाते हुये सदन के बीच में आ गए।

सभाध्यक्ष श्री चौधरी के हंगामा कर रहे राजद सदस्यों को अपनी सीट पर बैठने का आग्रह करने के बावजूद जब वे नहीं माने तो उन्होंने चुटकी लेते हुये कहा, 'लगता है अब आपके पास कोई प्रश्न नहीं बचा है।' कुछ देर बाद हंगामा शांत होने पर श्री सिद्दीकी ने कहा कि यह प्रश्न केवल रोहतास और कैमूर जिले का ही नहीं बल्कि पूरे राज्य से संबंधित है और इस मुद्दे पर सदन में विशेष वाद-विवाद कराया जाना चाहिए।

इस पर श्री चौधरी ने कहा, 'आप वरिष्ठ सदस्य हैं और आपको पता है कि किसी विषय पर विशेष वाद-विवाद कराने का तरीका अलग होता है।'इससे पूर्व राजद विधायक आलोक मेहता ने कहा कि वर्तमान में राज्य की लगभग सभी चीनी मिलें बंद हो चुकी हैं। इन मिलों की जमीनों को निजी क्षेत्र की कंपनियों को हस्तांतरित किया जा रहा है। वहीं कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने पूछा कि क्या चीनी मिल शुरू करने के लिए सरकार के पास सहकारिता क्षेत्र का कोई प्रस्ताव है।

जवाब में गन्ना मंत्री ने कहा कि सरकार के पास ऐसा एक प्रस्ताव रैयाम मिल के लिए आया है। इस बीच उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने स्पष्ट किया कि किसी भी राज्य की सरकार अब खुद उद्योग शुरू नहीं करती बल्कि उसे चलाने में सहयोग करती है। सरकार ने बंद पड़ी चीनी मिलों की संपत्ति का आकलन कर निविदा निकालने के निर्देश दिये थे।

अबतक पांच बार निविदा आमंत्रित की जा चुकी है लेकिन अभी तक निवेश का एक भी प्रस्ताव नहीं आया। उन्होंने कहा कि यदि राजद सदस्य श्री सिद्दीकी ही निवेशक लेकर आते हैं तो सरकार सहयोग करेगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि सरकार का नीतिगत निर्णय है कि बंद पड़ी चीनी मिलों की जमीन पर कोई अन्य उद्योग लगाने को इच्छुक हो तो सरकार उसे बियाडा के माध्यम से उस भूमि के इस्तेमाल की इजाजत देगी।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यह क्लिक करे