BREAKING NEWS

प्रमोशन में भगवान पर बयान देकर फंसी श्वेता, नरोत्तम मिश्रा ने दिए जांच के निर्देश, जानें क्या है पूरा मामला ◾दिल्ली : गैंगरेप के बाद महिला के साथ अभद्रता, काटे बाल, चेहरा काला कर इलाके में घुमाया◾UP चुनाव: प्रचार अभियान में कांग्रेस को क्यों होगी बुलेट प्रूफ जैकेट की जरूरत? मदद के लिए उन्नाव भेजी टीम ◾राहुल ने ट्विटर के CEO को लिखा पत्र, कहा- सरकार के दबाव में कार्य कर रही कंपनी, फॉलोअर्स किए कम ◾'टीपू सुल्तान स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स' को लेकर विवाद, राउत बोले-नया इतिहास मत लिखो◾उत्तराखंड चुनाव से पूर्व कांग्रेस को एक और बड़ा झटका! BJP में शामिल हुए पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ◾Today's Corona Update : नए मरीजों की संख्या से ज्यादा रिकवरी रेट, एक्टिव केस में भी दर्ज हुई गिरावट◾World Corona Update : नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण का कहर, वैश्विक स्तर पर 36.18 करोड़ हुआ आंकड़ा ◾पंजाब चुनाव : राहुल प्रचार अभियान का फूंकने बिगुल, 117 उम्मीदवारों संग स्वर्ण मंदिर में टेकेंगे मत्था ◾UP विधानसभा चुनाव : प्रचार के लिए आज मैदान में उतरेंगे BJP के दिग्गज, घर-घर देंगे दस्तक◾उत्तराखंड : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय थाम सकते हैं BJP का दामन◾UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾

कर्ज में डूबे किसान ने पहले बेटी-बेटे को काटा फिर पत्नी की खोपड़ी चूर-चूर कर डाली फिर खुद को लगाई फांसी

तनाव से ग्रस्त होकर रोहतक के सुंडाना के किसान बिजेंद्र ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर दी है। कर्ज में डूबे किसान बिजेंद्र ने कस्सी से अपनी पतनी की खोपड़ी चूर-चूर कर दी। किसान अपनी पत्नी पर तब तक वार करता ही रहा जब तक उसकी जान नहीं चली गई। सिर में लगी गहरी चोट कि वहज से डॉक्टर भी जान नहीं बचा सके। वहीं बेटी को मारने से पहले उसका गला घोंटा। फिर उसको भी कस्सी से काटा दिया। खेत में से अपनी जान बचाते हुए भाग रहे बेटे पर भी 6 बार कस्सी से वार किया।

\"\"  

पुलिस की जांच पड़ताल के बाद सुंडान में हुए इस खूनी हादसे में सबसे पहले 12 साल की किसान की बेटी जाह्नवी की जान गई। धर पर खाना खाने के बाद ताऊ के साथ लूडो खेल रही बच्ची को पिता ने उसके छोटे भाई को भेजकर बुलाया था। घर के पीछे पशु बाड़े में बच्ची को बुला कर उसके पिता ने ही गला घोंट दिया।

\"\"

गला घोंट देने के बाद बच्ची को नई कस्सी से पांच बार वार किया गया। उसने तीन वार तो सिर पर और दो वार गर्दन पर किए थे। इसी दौरान किसान कि पत्नी और बेटा वहां पहुंचा। पिता को ऐसी हालत में देख कर मां और बेटा भी घबरा गए और वह खुद की जान बचाने के लिए खेतों की तरफ भाग लिए। पिता ने इनका पीछा करते हुए दोनों मां-बेटे को भी कस्सी से मार दिया।

दूर पड़े मिले शव

घर के पीछे करीब 60 कदम दूर तो किसान की बेटी जाह्नवी का शव पड़ा मिला तो वही यहां से करीब 77 कदम दूर खेत में उसके भाई दीपांशू का शव पड़ा हुआ मिला था। बेटी और बेटे के शव के बाद थोड़ी सी दूरी पर मां का शव मिला। दोनों बच्चों और पत्नी की हत्या कर देने के बाद किसान ने खुद भी पेड़ पर लटककर फंसी दे दी जिसका शव पेड पर फंदे से लटका हुआ मिला।

\"\"

चार अर्थियां जलीं एक चिता पर

इस हादासे में जान गंवाने वाले परिवार के चारों सदस्यों के शव सुंडान पहुंचे। यहां से चारों के शव को शमशान घाट ले जाया गया। बता दें कि शमशान घाट में एक ही चिता पर परिवार के इन चारों लोगों का अंतिम संस्कार किया गया। गांव में ये पहला दिलदहला देने वाला मामला है जिससे हर ग्रामीण आहत है।

\"\"

गांव के एक भी घर नहीं जला चूल्हा

बिजेंद्र नाम के इस किसान ने हंसते खेलते परिवार को कर्ज के तनाव में डालकर अपना घर तबाह कर दिया। इस घटना की वजह से गांव का हर एक इंसान आहत में है जिसकी वह से गांव के किसी भी घर में चूल्हा नहीं जला है। सरंपच कुलदीप ने कहा कि इस समय पूरा गांव बिजेंद्र के इस कदम से हैरान है। वह बहुत शांत रहता था अपना ज्यादातर समय घर में ही व्यतीत करता था। किसी से मिलता-जुलता भी नहीं था। गांव के कई सारे लोगों को तो घटना के बाद उसके गांव में होने का पता भी नहीं लगा था। वह आपस में मिलजुल कर रहता तो शायद ऐसा ना होता।

\"\"