BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

अयोध्या मामले पर आरएसएस हुआ संजीदा, प्रचारकों के दौरे रद्द

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) अयोध्या मुद्दे को लेकर बहुत ज्यादा संजीदा दिख रहा है। इसी कारण संघ ने अपने प्रचारकों के दौरे और कार्यक्रमों को भी रद्द कर दिया है। हरिद्वार में 31 अक्टूबर से लेकर 4 नवंबर तक देश भर के सभी अनुशांगिक संगठनों के संगठन मंत्रियों की होने वाली बैठक को भी स्थागित कर दिया गया है। इसमें संघ प्रमुख मोहन भागवत, भइया जी जोशी, दत्तात्रेय होसबोल समेत अनेक अखिल भारतीय पदाधिकारियों को मौजूद रहना था। इसमें भाजपा के भी संगठन मंत्रियों को रहना था। 

संघ प्रमुख उन्हें संगठन और सरकार के समांजस्य और देश में संघ के अनेक मुद्दों के बारे में चर्चा करने वाले थे। संघ इस तरह की बैठक प्रत्येक पांच वर्ष में करता है। बदली परिस्थितियों को देखते हुए इसे भी स्थागित कर दिया है। इससे पहले लखनऊ में 17 नवंबर से प्रस्तावित एकल कुंभ, अयोध्या में चार नवंबर से आयोजित दुर्गा वाहिनी शिविर को भी स्थागित किया जा चुका है। हालांकि कार्यक्रम रद्द करने का कोई उचित कारण भी नहीं बताया जा रहा है। 

जम्मू कश्मीर : कुलगाम में आतंकियों ने की 5 मजदूरों की हत्या, CM ममता ने जताया शोक 

संघ के सूत्रों का कहना है कि संघ अयोध्या मुद्दे को लेकर सावधानी बरत रहा है। उसका मानना है कि फैसले के बाद किसी प्रकार की कोई ऐसी घटना न हो जाए जिससे दाग समेटने में दिक्कत हो। इसी कारण प्रचारकों से कहा गया है जिसका जहां पर केन्द्र निर्धारित हो वह वहीं पर रुके। यदि संगठन कोई निर्देश दे, वे तभी अपना केंद्र छोड़ें। 

संगठन के बड़े पदाधिकारियों पर यह लागू नहीं होगा। वह जहां पर होंगे वहीं रूक कर अपना निर्देश देते रहेंगे। सूत्रों का कहना है कि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय की संभावित तिथि 17 नवंबर तक है। ऐसे में प्रचारक अपने-अपने केंद्र पर रहेंगे तो उनसे संवाद स्थापित करना आसान रहेगा। इसके अलावा विषम परिस्थितियों पर वर्तमान की रणनीति के आधार पर उन्हें तुरंत जमीन पर भी उतारा जा सकता है।