BREAKING NEWS

Independence Day : देशभक्ति के जोश में डूबी दिल्ली, तिरंगे से जगमगाती प्रतिष्ठित इमारतें◾सावधान ! चीनी मांझे का खतरा बरकरार : कुछ लोगों की जा चुकी है जान , कई लोग घायल◾हर घर तिरंगा अभियान : मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय पर फहराया तिरंगा ◾CM योगी ने वीर जवानों की सराहना की , कहा - देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया◾NGT चीफ और जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से की मुलाकात ◾विपक्ष के 11 दलों ने ईवीएम, धनबल और मीडिया के ‘दुरुपयोग’ के खिलाफ लड़ने का किया संकल्प◾ पाक : बारूदी सुरंग हमले में एक जवान की मौत, दो घायल◾ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं- लोगों से अपने घरों पर तिरंगा फहराने का आग्रह करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं मोदी ◾J-K News: जम्मू कश्मीर में आतंकियों का कहर! श्रीनगर में ग्रेनेड हमले में CRPF का एक जवान घायल◾जयराम ठाकुर ने कहा- पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग से केंद्र को अवगत कराऊंगा◾ उपराज्यपाल सिन्हा का दावा - आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील ठोकेगी सरकार◾Delhi: सिसोदिया ने कहा- स्कूलों के छात्र उद्यमिता......... कम उम्र में स्टार्ट-अप स्थापित कर रहे◾16 को होगा महागठबंधन सरकार का शपथ ग्रहण समारोह, कांग्रेस की भागीदारी तय ◾तिरंगा अभियान पर मोदी की मां ने बढ़ चढ़कर लिया भाग, पीएम की मां ने बाटे तिरंगे◾आत्मनिर्भर चाय वाली मोना पटेल की चर्चा देश में होगी और वह ब्रांड बनेगी:चिराग पासवान◾हिमाचल में सामूहिक धर्मांतरण जिहाद-रोधी विधेयक ध्वनिमत से पारित ◾हिमाचल में सामूहिक धर्मांतरण जिहाद-रोधी विधेयक ध्वनिमत से पारित ◾गुजरात : तिरंगा यात्रा के दौरान गाय के हमले में घायल हुए नितिन पटेल ◾सोनिया गांधी के कोरोना होने पर स्टालिन का छलका दर्द, बोले- आशा करता हूं वह जल्द ही सक्रिय दिखाई देगी◾चर्चा में वानखेड़े - नवाब के आरोप को जाति आयोग ने किया खारिज, दी 'क्लीन चिट'◾

केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच सेवाओं के नियंत्रण को लेकर जारी विवाद पर सुनवाई के लिए SC हुआ सहमत

देश की सर्वोच्च अदालत मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में प्रशासनिक सेवाओं पर नियंत्रण के संबंध में केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच विवाद पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया। दिल्ली सरकार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रधान न्यायाधीश एन.वी. रमना की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष मामले को तत्काल सूचीबद्ध करने का उल्लेख किया। 

दूसरी तरफ, पीठ में मौजूद अन्य न्यायमूर्ति ए.एस. बोपन्ना और हिमा कोहली ने मामले की सुनवाई 3 मार्च को निर्धारित की।न्यायमूर्ति ए.के. सीकरी और शीर्ष अदालत के न्यायमूर्ति अशोक भूषण ने फरवरी 2019 में सेवाओं पर दिल्ली सरकार और केंद्र की शक्तियों के सवाल पर एक विभाजित फैसला दिया और मामले को 3-न्यायाधीशों की पीठ के पास भेज दिया गया था। 

न्यायमूर्ति सीकरी ने बीच का रास्ता अपनाया 

न्यायमूर्ति भूषण ने कहा कि दिल्ली सरकार के पास 'सेवाओं' पर कोई अधिकार नहीं है, जबकि न्यायमूर्ति सीकरी ने बीच का रास्ता अपनाया। दिल्ली सरकार ने तर्क दिया था कि केंद्र ने राजधानी में निर्वाचित सरकार को अधिकारियों पर किसी भी तरह के प्रशासनिक नियंत्रण से बाहर रखा है। सरकार ने आगे तर्क दिया कि केंद्र सरकार के आदेश पर उपराज्यपाल (एलजी) के माध्यम से अधिकारी कार्य करना जारी रखे हुए हैं। 

यूपी: अखिलेश यादव का भाजपा पर जुबानी हमला, बोले- डबल इंजन की सरकार में भ्रष्टाचार डबल हो गया

मुख्यमंत्री के नेतृत्व में मंत्रिपरिषद के माध्यम से उपराज्यपाल को दी जा सकती है 

वहीं, न्यायमूर्ति सीकरी ने निष्कर्ष निकाला कि सचिव, विभागाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के रैंक के अधिकारियों के स्थानांतरण और पोस्टिंग पर फाइलें सीधे उप-राज्यपाल (एल-जी) को प्रस्तुत की जा सकती हैं। न्यायमूर्ति भूषण ने कहा कि संविधान की सातवीं अनुसूची में राज्य सूची की प्रविष्टि 41, 'राज्य लोक सेवाओं' से संबंधित, दिल्ली विधानसभा के दायरे से बाहर थी। 

न्यायमूर्ति सीकरी ने कहा कि डीएएनआईसीएस (दिल्ली, अंडमान निकोबार द्वीप समूह सिविल सेवा) कैडर के लिए, फाइलों को मुख्यमंत्री के नेतृत्व में मंत्रिपरिषद के माध्यम से उपराज्यपाल को दी जा सकती है। न्यायमूर्ति सीकरी ने कहा था कि दिल्ली की स्थिति 'अजीब' थी। फरवरी 2019 के फैसले ने जुलाई 2018 में एक संविधान पीठ के फैसले का पालन किया, जहां पीठ ने कहा कि उपराज्यपाल राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सरकार के मंत्रिपरिषद की सहायता और सलाह से बाध्य थे।