BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾राहुल गांधी ने साधा PM पर निशाना, बोले- LAC पर चीन द्वारा निर्मित पुल का उद्घाटन कहीं मोदी न कर दें ◾बाटला हाउस में मरे लोग आतंकी नहीं, तौकीर रजा ने किया कांग्रेस का समर्थन, राहुल-प्रियंका को बताया सेक्युलर ◾दिल्ली : त्रिलोकपुरी में संदिग्ध बैग से मिला लैपटॉप और चार्जर, कुछ देर के लिए मची अफरातफरी◾अखिलेश ने अपर्णा को BJP में शामिल होने पर दी बधाई, बोले- नेता जी ने की रोकने की बहुत कोशिश, लेकिन... ◾दिल्ली: संक्रमण दर में आई कमी, जैन बोले- पाबंदियां कम करने से पहले होगा कोरोना की स्थिति का आकलन ◾भारत में यूएई जैसे हमले की योजना बना रहा ISI, चीन से ड्रोन खरीद रहा पाकिस्तान◾मुलायम सिंह का आशीर्वाद लेकर BJP में शामिल हुई अपर्णा, बोलीं- परिवार से विमुख नहीं, मैं स्वतंत्र हूं... ◾अमित पालेकर होंगे आगामी गोवा विधानसभा चुनाव में AAP का CM फेस, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान ◾भारत में 15 फरवरी तक चरम पर होगा ओमीक्रॉन, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने किया दावा- तीसरी लहर जल्द हो सकती है समाप्त◾उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस की CEC बैठक में 70 सीटों पर होगा फैसला, जल्द जारी होगी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट ◾श्रीलंका के तमिल नेताओं ने PM मोदी को लिखा पत्र, 13वें संशोधन को लागू करने की मांग की, जानें पूरा मामला◾

कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए

देश में कोरोना वायरस का प्रकोप काफी कम हो गया है, लेकिन इसके नए स्वरुप ने लोगों के साथ-साथ सरकार को भी चिंता में डाल दिया है। ऐसे में दूसरी तरफ, शीर्ष अदालत, सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कोविड पीड़ितों के परिजनों को 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि वितरण के संबंध में विभिन्न मुद्दों से जूझ रही राज्य सरकारों के प्रति चिंता व्यक्त की। 

केरल सरकार कोविड पीड़ितों के परिजनों की पहचान नहीं कर सकी। कई राज्य सरकारों ने कोविड मुआवजे के लिए कम संख्या में दावे दर्ज किए हैं और महाराष्ट्र सरकार ने प्राप्त दावों के बारे में जानकारी नहीं दी है। 

अनुग्रह राशि वितरण के संबंध में विभिन्न राज्य सरकारों से रिकॉर्ड डेटा ले 

शीर्ष अदालत ने 22 नवंबर को केंद्र से कहा था कि वह कोविड से मौतों के लिए अनुग्रह राशि वितरण के संबंध में विभिन्न राज्य सरकारों से रिकॉर्ड डेटा ले और शिकायत निवारण समितियों के गठन की जानकारी भी दे। अदालत ने सरकारों से कोविड मुआवजा योजना का व्यापक प्रचार करने के लिए कहा, क्योंकि वायरल संक्रमण से कई लोग अपने परिवार के सदस्यों को खो चुके हैं। मुआवजे के लिए पंजीकरण ऑनलाइन भी किया जा सकता है। 

परिजनों के बारे में स्पष्टता की कमी इसका कारण हो सकता है 

कोविड के दावों पर केंद्र के हलफनामे को ध्यान में रखते हुए केरल में जस्टिस एम.आर. शाह और बी.वी. नागरत्न की पीठ ने नोट किया कि अब तक 38,737 मौतें दर्ज की गईं और 6,116 दावा फॉर्म प्राप्त हुए, लेकिन वितरित की गई राशि शून्य है। परिजनों के बारे में स्पष्टता की कमी इसका कारण हो सकता है। महाराष्ट्र में, 1,40,807 मौतें दर्ज की गईं, हालांकि केंद्र को सौंपे गए आंकड़ों के अनुसार, प्राप्त दावों के बारे में जानकारी प्रदान नहीं की गई थी और वेब एप्लिकेशन को जारी न करने के कारण वितरित की गई राशि भी नहीं थी। 

उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी

पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को बताया कि हरियाणा में कोविड के कारण 10,053 मौतें दर्ज की गईं, लेकिन केवल 1,800 दावा फॉर्म प्राप्त हुए। कर्नाटक में 38,182 मौतें दर्ज की गईं, लेकिन केवल 14,237 दावा फॉर्म प्राप्त हुए। पीठ ने योजना का व्यापक प्रचार करने पर जोर दिया। मेहता ने कहा, गुजरात में पोर्टल पर 10,000 मौतों की सूचना मिली है। हमने प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण मोड में भुगतान करना शुरू कर दिया है। 

कोविड मुआवजे के दावों और वितरण से संबंधित विवरण केंद्र को भेजने का निर्देश दिया 

पीठ ने कहा, हम कुछ राज्यों - महाराष्ट्र, हरियाणा, केरल .. 3-4 राज्यों को नोटिस जारी करेंगे और उनसे विस्तृत हलफनामा दाखिल करने के लिए कहेंगे। शीर्ष अदालत ने सभी राज्यों को कोविड मुआवजे के दावों और वितरण से संबंधित विवरण केंद्र को भेजने का निर्देश दिया। साथ ही, सुझाव दिया कि दावों के पंजीकरण और मुआवजे के वितरण के लिए पूरे देश में एक समान और सरल प्रक्रिया अपनाई जा सकती है। 

गुजरात सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले मेहता ने अदालत को बताया कि वितरण प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल स्थापित किया जा रहा है और इसका व्यापक प्रचार किया जाएगा। पीठ ने यह भी कहा कि मुआवजे के लिए शारीरिक रूप से आवेदन जमा करने में कई कठिनाइयां हैं। इस पर मेहता ने कहा कि एक पोर्टल डिजाइन किया जाएगा और इस पर जानकारी प्रकाशित की जाएगी। उन्होंने कहा, हमारे पास दो सप्ताह में एक ऑनलाइन पोर्टल होगा। 

आंध्र प्रदेश के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि 14,431 मौतें दर्ज की गईं  

पीठ ने कहा कि एक बार डेटा संग्रह को सुव्यवस्थित करने के बाद इस बात की संभावना है कि दावों की संख्या कई गुना बढ़ सकती है। इसने आंध्र प्रदेश के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि 14,431 मौतें दर्ज की गईं और 23,868 दावे किए गए, जो दर्ज की गई मौतों की तुलना में बहुत अधिक है। 

इसने आगे कहा कि इसके आदेश के कारण हो सकता है कि दावेदार मुआवजे के लिए दावा फाइल कर सकता है, यदि आरटी-पीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव थी और व्यक्ति की मौत संक्रमित होने के 30 दिनों के भीतर हुई, भले ही मृत्यु प्रमाणपत्र में उल्लिखित कारण कुछ भी हो। 

6 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई  

अन्य राज्यों में भी दावेदारों की संख्या बढ़ने की संभावना है। शीर्ष अदालत ने राज्यों के मुख्य सचिवों को केंद्र, गृह मंत्रालय और आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को पूरा विवरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया और मामले की अगली सुनवाई 6 दिसंबर के लिए निर्धारित की। सुप्रीम कोर्ट ने अपने 4 अक्टूबर के फैसले में कोविड पीड़ितों के परिजनों के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि को मंजूरी दी थी, जिसकी सिफारिश राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने की थी। यह आदेश अधिवक्ता गौरव कुमार बंसल की याचिका पर दिया गया था।

-