BREAKING NEWS

IPL-13: बेंगलोर का टूर्नामेंट में जीत से आगाज, हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त ◾ड्रग्स केस में एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण का नाम आया सामने, जया साह की मैनेजर से दीपिका की चैट्स आई सामने◾निलंबन को लेकर सरकार पर बरसा विपक्ष, संसद में रातभर धरना देंगे राज्यसभा से निलंबित सांसद◾कोरोना संक्रमित मां ठीक होकर पहुंची घर तो बेटा - बहु ताला लगाकर हुए गायब, वृद्धा ने 3 दिन गुजारे बाहर ◾सीएम योगी का एलान : नोएडा क्षेत्र को उत्तरी भारत के सबसे बड़े ‘लॉजिस्टिक हब’ के रूप में स्थापित करेंगे ◾गृह मंत्री अमित शाह ने रबी फसलों की एमएसपी में वृद्धि को बताया ‘ऐतिहासिक’◾रबी फसलों के समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी से गलतफहमी दूर होनी चाहिए : राजनाथ सिंह◾केंद्र सरकार ने रबी फसलों के एमएसपी में की वृद्धि, किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे : नरेंद्र तोमर◾राहुल गांधी ने राज्यसभा से विपक्षी सदस्यों के निलंबन को ‘अलोकतांत्रिक’ और ‘एकतरफा' बताया ◾भारतीय नौसेना ने पहली बार हेलीकॉप्टर स्ट्रीम में दो महिला अधिकारियों को किया तैनात◾माइक तोड़ा, रूलबुक फेंकी और राज्यसभा के उपसभापति को धमकी दी गई : वेंकैया नायडू◾इंदौर के अस्पताल में कोरोना मरीज बुजुर्ग के शव को चूहों ने कुतरा, जांच का आदेश◾राहुल का वार- देश की बदहाली के लिए खुद के कुशासन को दोषी नहीं ठहराती मोदी सरकार ◾विधानसभा चुनाव से पहले PM मोदी ने बिहार को दी 14,000 करोड़ की परियोजना की सौगात ◾MSP पर PM मोदी ने एक बार फिर दोहराई अपनी बात, कृषि मंडियों में पहले की तरह होता रहेगा काम◾संवेदनशील जानकारी साझा करने के आरोप में पत्रकार राजीव सहित 3 को 7 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा गया◾'सर्वज्ञ' सरकार के अहंकार ने ला दिया आर्थिक संकट, लोकतांत्रिक भारत की आवाज दबाना जारी : राहुल गांधी ◾कोविड-19 : देश में पॉजिटिव मामलों की संख्या 55 लाख के करीब, एक्टिव केस 10 लाख के पार ◾चीन से तनातनी के बीच भारतीय वायुसेना में शामिल हुए राफेल ने लद्दाख में भरी उड़ान ◾राज्यसभा के सभापति की सख्त कार्रवाई, हंगामा करने वाले आठ विपक्षी सदस्य निलंबित◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

हैदराबाद एनकाउंटर मामले में SC ने जांच समिति को दिया 6 महीने का और समय

सुप्रीम कोर्ट ने हैदराबाद एनकाउंटर मामले में जांच कर रही समिति को 6 महीने का और समय दिया है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज वी एस सिरपुरकर की अध्यक्षता वाले जांच समिति ने जांच पूरी करने के लिए और समय की मांग की थी। समिति ने कोरोना वायरस को जांच में देरी का कारण बताया है।

मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी. रमासुब्रमण्यम की खंडपीठ ने आयोग की ओर से वकील के. परमेश्वर द्वारा दायर अर्जी का निपटारा करते हुए जांच आयोग को अंतिम जांच रिपोर्ट दाखिल करने के लिए छह माह का और समय दिया। 

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया कि कोविड-19 महामारी के कारण आयोग की बैठकें नियमित नहीं हो सकी है, क्योंकि आयोग के तीनों सदस्य देश के अलग-अलग हिस्सों में रहते हैं, जबकि जांच का स्थान बिल्कुल अलग क्षेत्र में है। यह भी दलील दी गयी कि आयोग के तीनों सदस्यों की उम, काफी अधिक है, इसलिए उन्हें कोरोना काल में बाहर निकलने से संक्रमण का खतरा अधिक है। 

इस वजह से जांच पूरी नहीं हो सकी है। आयोग ने अपनी अंतिम रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कम से कम छह माह का और समय देने का अनुरोध किया, जिसे कोर्ट ने मान लिया। इस बीच याचिकाकर्ताओं में से एक भरत यादव के वकील प्रदीप यादव ने कोर्ट से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि देश के किसी भी हिस्से में भविष्य में हिरासत में मौत की घटना न हो। 

इस पर न्यायमूर्ति बोबडे ने कहा कि कोई कोर्ट यह कैसे सुनिश्चित कर सकती है कि भविष्य में किसी की मौत हिरासत में नहीं होगी। हिरासत में कुछ लोगों की प्राकृतिक मौत भी हो जाती है। उन्होंने कहा, ‘‘आप एक वकील हैं और वकील के तौर पर आपकी बहुत बड़ जिम्मेदारी है। हम कैसे यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि हिरासत में कोई भी मौत नहीं होगी।’’ 

गौरतलब है कि तेलंगाना के हैदराबाद में पिछले वर्ष दिसम्बर में दुष्कर्म एवं हत्या की घटना के चार आरोपियों की मुठभेड़ में मौत हो गयी थी, जिसकी जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश वी एस सिरपुरकर के नेतृत्व में तीन सदस्यीय जांच आयोग गठित किया गया था। आयोग में बॉम्बे हाई कोर्ट की पूर्व न्यायाधीश रेखा पी. सुन्दर बालडोटा और केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक डी.आर कार्तिकेयन भी शामिल हैं।