BREAKING NEWS

‘‘ अडानी बुलबुला’’ को लेकर राहुल गांधी की भविष्यवाणी हुई सच : दिग्विजय◾मालीवाल को हार्वर्ड विश्वविद्यालय में सम्मेलन में वक्ता के तौर पर आमंत्रित किया गया : DCW◾CM योगी बोले- आने वाले समय में फार्मा का एक बड़ा केंद्र बनकर उभरने जा रहा उत्तर प्रदेश◾महादयी मुद्दे पर टिप्पणी करने से केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव का इनकार, कांग्रेस ने की ये मांग ◾ED ने पंजाब में मादक पदार्थों से जुड़े धनशोधन मामले में छापेमारी के दौरान हथियार बरामद किए ◾पाकिस्तान: पुलिस की बड़ी कार्रवाई, तालिबान के दो कमांडर मार गिराए ◾केंद्र ने तमिलनाडु से विमान ईंधन पर वैट घटाने का किया आग्रह◾RSS defamation case: कोर्ट चार मार्च को राहुल गांधी की याचिका पर सुनाएगी आदेश◾वंदे भारत में भोजन की खराब गुणवत्ता की मिली शिकायत◾मस्क: लीगेसी सत्यापित खाते जल्द ही अपने ब्लू बैज खो देंगे ◾कांग्रेस का आग्रह- सिद्धू को जेल से रिहा करने पर विचार करें CM मान◾अजय मकान ने कहा- 'केजरीवाल ने कांग्रेस को हराने के लिए शराब घोटाला किया'◾Mumbai : मुंबई फायर ब्रिगेड भर्ती' में पुलिस और महिलाओं के बीच जमकर हुई झड़प, पुलिस ने चलाई लाठी ? ◾अभिषेक बनर्जी का आरोप- पश्चिम बंगाल को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है केंद्र◾ MP Election 2023: अब MP के चुनावी मैदान में उतरेगी AAP, 230 सीटों पर लडे़ेंगे चुनाव◾सेना का बड़ा फैसला, अब ‘अग्निवीर’ भर्ती प्रक्रिया में पहले देनी होगी ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा◾सेना का बड़ा फैसला, अब ‘अग्निवीर’ भर्ती प्रक्रिया में पहले देनी होगी ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा◾Doda Cracks: जोशीमठ और उत्तराखंड के बाद अब जम्मू-कश्मीर की जमीन में आई दरारे, स्टडी करने पहुंची टीम◾ बजट में से 200 करोड़ काटकर तालिबान को देने पर CM केजरीवाल ने सरकार पर उठाए सवाल ◾कर्नाटक चुनाव पर बोले बीएस येदियुरप्पा, कहा- 'इस बार भी बीजेपी का आना तय'◾

कश्मीरी पंडितों की हत्या और पलायन से जुड़ी याचिका पर सुनवाई करने से SC का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने कश्मीरी पंडितों की हत्या और पलायन को लेकर दायर की गई याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता को याचिका वापस लेने और उचित उपाय तलाशने की अनुमति दी। याचिका टीका लाल टपलू के बेटे आशुतोष टपलू ने दायर की। टीका लाल टपलू को जेकेएलएफ आतंकवादी ने 1989 में मौत के घाट उतार दिया था।

सुप्रीम कोर्ट की सलाह पर आशुतोष टपलू ने अपनी याचिका वापस ले ली। उनके द्वारा दायर याचिका में कहा गया था कि 32 साल बीत गए हैं, परिवार को यह भी नहीं पता कि मामले में किस तरह की जांच हुई। परिवार को एफआईआर की कॉपी तक नहीं दी गई।

पहले भी सुनवाई से हो चुका है इनकार

इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट ने कश्मीरी पंडितों की हत्याओं की एसआईटी से जांच कराने की मांग को लेकर दायर याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। न्यायमूर्ति बी.आर. गवई और सी.टी. रविकुमार ने एनजीओ 'वी द सिटिजन्स' का प्रतिनिधित्व कर रहे वकील से केंद्र सरकार के समक्ष शिकायतें उठाने के लिए कहा। 

याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व कर रहे अधिवक्ता बरुन कुमार सिन्हा ने पीठ से कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा को उजागर करने वाली उनकी दलीलों पर सुनवाई करने का आग्रह किया। पीठ ने कहा कि उन्हें केंद्र से संपर्क करना चाहिए। मामले में संक्षिप्त सुनवाई के बाद याचिकाकर्ता के वकील ने याचिका वापस लेने पर सहमति जताई। पीठ ने वकील को केंद्र सरकार और संबंधित अधिकारियों के समक्ष एक प्रतिनिधित्व करने की अनुमति दी। 

याचिका में घाटी से पलायन करने वालों के पुनर्वास के लिए निर्देश देने और 1989-2003 के बीच हिंदू और सिख समुदायों के नरसंहार को बढ़ावा देने वालों की पहचान करने के लिए एसआईटी गठित करने की मांग की गई थी। 'रूट्स इन कश्मीर' द्वारा दायर एक क्यूरेटिव पिटीशन भी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, जिसमें 1989-90 के दौरान कश्मीरी पंडितों की कथित सामूहिक हत्याओं और नरसंहार की सीबीआई या राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से जांच कराने की मांग की गई। 

संगठन की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि क्यूरेटिव पिटीशन के समर्थन में वरिष्ठ अधिवक्ता और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास सिंह द्वारा एक प्रमाण पत्र जारी किया गया है। क्यूरेटिव पिटिशन में सिख विरोधी दंगों के मामले में सज्जन कुमार पर 2018 के दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश का भी हवाला दिया गया है।