BREAKING NEWS

पुलिस बूट से कूचलकर मारने पर नवजात शिशु की मौत, 6 पुलिसकर्मियों के खिलाफ FIR दर्ज◾PM मोदी के खिलाफ पोस्टर कार्रवाई को लेकर AAP ने जताया ऐतराज, आज धरना देंगे केजरीवाल◾आरिफ से दूर ले जाया गया सारस,यूपी पक्षी विहार से हुआ गायब◾अष्टमी और नवमी: चैत्र नवरात्रि में कब है अष्टमी और नवमी जानें सही तिथि◾AAP और BJP के बीच शुरू हुआ नया विवाद, CM केजरीवाल के खिलाफ लगे पोस्टर में लिखा- तानाशाह ◾कांग्रेस नेता ने CBI को लिखा पत्र,शाह के कोनराड संगमा सरकार को भ्रष्ट बताने वाले बयान की जांच की मांग की◾ED दिल्ली आबकारी नीति मामले में दूसरे पूरक आरोप पत्र के लिए तैयार, जुटाए कुछ और अहम सबूत◾दुबई से लाया Duty Free शराब, फ्लाइट में ही बनाने लगा पैग, अनुचित व्यवहार करने पर दो लोग गिरफ्तार◾PM मोदी ने डॉ. लोहिया की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की, कहा- दूरदृष्टि को साकार करने के लिए कर रहे हैं कड़ी मेहनत◾कर्नाटक के कलबुर्गी जिले के चेक-पोस्ट पर 1.90 करोड़ नकदी की गई जब्त◾आज का राशिफल (23 मार्च 2023)◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कुमार मंगलम बिरला, एसएम कृष्णा समेत इन दिग्गजों को पद्म पुरस्कार से नवाजा, देखें लिस्ट ◾मुकेश अंबानी सबसे अमीर भारतीय, गौतम अडाणी अरबपतियों की लिस्ट में 23वें स्थान पर खिसके◾भारत के कड़े रूख के बाद हरकत में आई ब्रिटेन सरकार, भारतीय उच्चायोग के बाहर बढ़ाई गई सुरक्षा ◾कर्नाटक में भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व मंत्री बाबूराव चिंचानसुर ने थामा कांग्रेस का दामन ◾सेना में जेएजी पद पर भर्ती के लिए विवाहितों को अपात्र घोषित करना तर्कपूर्ण: केन्द्र ने कोर्ट से कहा◾दिल्ली में फिर हिली धरती, रिक्टर स्केल पर 2.7 मापी गई तीव्रता ◾झारखंड विधानसभा में BJP नेता ने कुर्ता फाड़ा, CM हेमंत सोरेन ने कहा भाजपाइयों ने सदन की गरिमा तार-तार कर दी◾Gang-rape Case: बिलकिस बानो के दोषियों को सुप्रीम झटका, समयपूर्व रिहाई के खिलाफ की जाएगी सुनवाई ◾ अयोध्या में श्री राम मंदिर के सपरिवार करूंगा दर्शन - शिवपाल यादव◾

एनपीए पर गाइडलाइंस तैयार करने से SC का इनकार, कहा-यह नीतिगत मामला

सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी की उस याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है, जिसमें अधिकार क्षेत्र का हवाला देते हुए बैंकिंग क्षेत्र की गैर निष्पादित संपत्तियों (एनपीए) के मामले में गाइडलाइंस तैयार करने का अनुरोध किया गया था।

न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना की खंडपीठ ने सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा कि यह एक नीतिगत मामला है, जो सरकार और आरबीआई के अधिकार क्षेत्र में आता है।

SC का फैसला- NGT के पास पर्यावरणीय मुद्दों पर स्वत: संज्ञान लेने का है अधिकार, शक्तियों का कर सकती है प्रयोग

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘हम इस मामले में कैसे हस्तक्षेप कर सकते हैं? हमें दखल करने की कोई आवश्यकता नहीं है।’’ सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा कि आरबीआई और वित्त मंत्रालय समय-समय पर जरूरी दिशा निर्देश समेत कई उपाय करती रहती है ताकि बैंकों को एनपीए होने से बचाया जा सके।

कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता एनपीए से संबंधित दिशा निर्देश तैयार करने का मुद्दा सरकार और आरबीआई के समक्ष उठाने के लिए स्वतंत्र है। स्वामी ने कोर्ट से एक गाइडलाइंस तैयार करने का अनुरोध यह कहते हुए किया था कि बैंकों के एनपीए होने के कारण लोगों को अपनी रकम के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ती है। 

याचिकाकर्ता ने कोर्ट से गाइडलाइंस तैयार करने के लिए एक कमेटी के गठन करने की गुहार लगाई लेकिन कोर्टने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया।