BREAKING NEWS

BJP सरकार बनने के बाद गोरखा लोगों की चिंता होगी खत्म, दीदी ने विकास पर लगाया फुल स्टाप : अमित शाह ◾CM येदियुरप्पा ने कर्नाटक में लॉकडाउन पर दिया बड़ा बयान, हाथ जोड़कर लोगों से की ये अपील ◾इन 10 राज्यों में कोरोना की रफ्तार सबसे खतरनाक, 80 प्रतिशत नये मामलों ने बढ़ाया डर◾कोरोना के मद्देनजर CM केजरीवाल की केंद्र से मांग- रद्द की जाएं CBSE की परीक्षाएं◾ममता के बाद BJP उम्मीदवार राहुल सिन्हा पर भी लगी पाबंदी, चुनाव आयोग ने 48 घंटे का लगाया बैन ◾चुनाव आयोग के बैन के खिलाफ ममता का धरना शुरू, रात 8 बजे के बाद दो रैलियों को करेंगी संबोधित ◾राउत ने ममता को बताया ‘बंगाल की शेरनी', कहा-EC ने BJP के कहने पर लगाई प्रचार पर रोक◾देश में कोरोना संक्रमण के करीब 1 लाख 62 हजार नए मामलों की पुष्टि, 879 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 13.64 करोड़ के पार, प्रभावित देशों में भारत दूसरे स्थान पर ◾कोरोना की चौथी लहर से चल रही जंग के बीच CM केजरीवाल ने 14 अस्पतालों को किया कोविड अस्पताल घोषित ◾सोनिया गांधी ने PM मोदी से की मांग,कोरोना की दवाओं को GST से रखा जाए बाहर ◾कोलकाता में अमित शाह जनसंपर्क अभियान की करेंगे शुरुआत, नुक्कड़ सभाओं का किया जाएगा आयोजन ◾निर्वाचन आयोग के फैसले पर भड़की TMC, ममता बनर्जी आज कोलकाता में देंगी धरना ◾निर्वाचन आयोग की ममता पर बड़ी कार्रवाई, 24 घंटे के लिए चुनाव प्रचार करने पर लगाया प्रतिबंध◾‘स्पूतनिक वी’ के इमरजेंसी उपयोग को लेकर कांग्रेस का कटाक्ष: ‘अयोग्य’ सरकार ने कुछ सीख तो ली◾आंशिक लॉकडाउन का सिलसिला जारी, हरियाणा सरकार ने आज रात से नाइट कर्फ्यू लगाने का किया ऐलान◾क्या कोविड वैक्सीन लगवा चुके लोग दूसरों को कर सकते हैं संक्रमित, जानिये क्या है विशेषज्ञों की राय ◾100 करोड़ उगाही मामले में CBI ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को पूछताछ के लिए बुलाया ◾‘लोकतंत्र को लूटने’ की साजिश कर रही हैं ममता बनर्जी, बंगाल ने किया संकल्प 'दो मई, दीदी गई' : मोदी ◾कोरोना मरीजों से भरे हॉस्पिटल, 17 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में एक भी बेड खाली नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मराठा आरक्षण पर SC का राज्यों से सवाल, क्या आरक्षण सीमा 50 फीसदी से बढ़ाई जा सकती है?

सुप्रीम कोर्ट ने मराठा आरक्षण के मुद्दे पर राज्य सरकारों से सवाल किया है। कोर्ट ने राज्य से जानना चाहा है कि क्या आरक्षण पर सीमा को मौजूदा 50 प्रतिशत से और अधिक किया जा सकता है या नहीं। सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्‍यों को इस मसले पर नोटिस भेजकर उनका जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बैंच 18 मार्च तक इस मामले में सुनवाई करेगी। 

न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को नोटिस जारी किया कि क्या आरक्षण की मौजूदा 50 प्रतिशत सीमा को भंग करने की अनुमति दी जा सकती है? साथ ही पीठ ने केंद्र की आर्थिक रूप से कमजोर वर्गो (ईडब्ल्यूएस) के कोटे में संशोधन की भी बात कही। जस्टिस एल. नागेश्वर राव, जस्टिस एस. अब्दुल नाजेर, जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस एस. रवींद्र भट की पीठ ने कहा कि राज्यों को अपनी बात रखने का अवसर दिया जाना चाहिए। 

रेप के आरोपी को पीड़िता से शादी करने के लिए नहीं कहा, गलत की गई रिपोर्टिंग : CJI

सुप्रीम कोर्ट की यह टिप्पणी तब आई जब यह मराठा आरक्षण की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह मामला केवल एक राज्य तक सीमित नहीं है, इसलिए अन्य राज्यों को भी सुनना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस मामले में इसके फैसले का व्यापक असर होगा। कोर्ट इस संभावना पर भी विचार करेगा कि क्या इंद्रा साहनी के फैसले को किसी बड़ी पीठ को रेफर किया जा सकता है। इस मामले में कोर्ट 15 मार्च से प्रतिदिन सुनवाई शुरू करेगा। 

गौरतलब है कि पिछले साल 9 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में मराठाओं को नौकरी और शिक्षा के लिए आरक्षण लागू करने में स्थगन आदेश को संशोधित करने से परहेज किया था। कोर्ट ने कहा था कि "हमारा विचार है कि इस अपील में उठाए गए मुद्दों और उसके बाद के परिणामों को देखते हुए यह आवश्यक है कि इस अपील की अंतिम सुनवाई जल्द से जल्द पूरी की जाए।" 

याचिकाकर्ताओं ने जून 2019 में पारित बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। उन्होंने दलील दी है कि शिक्षा और नौकरियों में मराठा समुदाय को क्रमश: 12 प्रतिशत और 13 प्रतिशत कोटा प्रदान करने वाला अधिनियम वर्ष 1992 में सुप्रीम कोर्ट के 9 न्यायाधीशों वाली पीठ के फैसले में दिए गए उस सिद्धांत का उल्लंघन करता है, जिसने आरक्षण में 50 प्रतिशत की सीमा निर्धारित की थी। हाई कोर्ट ने मराठा कोटे को बरकरार रखा था, जहां उसने फैसला दिया था कि नौकरियों में आरक्षण 12 प्रतिशत और शिक्षा में 13 प्रतिशत होना चाहिए।