BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

आपराधिक मामलों वाले नेताओं पर कसा SC ने शिकंजा, कहा- हाईकोर्ट की मंजूरी के बिना वापस नहीं होंगे केस

आपराधिक मामलों के इतिहास वाले नेताओं कि बड़ी मुश्किलें, दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को यानी आज कहा कि संबंधित हाई कोर्ट की मंजूरी के बिना सांसदों और विधायकों के खिलाफ कोई भी आपराधिक मामला वापस नहीं लिया जा सकता है। एमिकस क्यूरी वरिष्ठ अधिवक्ता विजय हंसरिया ने सुप्रीम कोर्ट में एक रिपोर्ट पेश की। 

रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि जनहित में सीआरपीसी की धारा 321 के तहत अभियोजन वापस लेने की अनुमति है और इसे राजनीतिक विचार के लिए नहीं किया जा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य सरकारों को हाई कोर्ट की मंजूरी के बाद ही पूर्व या मौजूदा विधायकों के खिलाफ मामले वापस लेने की अनुमति दी जानी चाहिए। 

इसमें कहा गया है कि इस तरह के आवेदन अच्छे विश्वास में, सार्वजनिक नीति और न्याय के हित में किए जा सकते हैं न कि कानून की प्रक्रिया को बाधित करने के लिए। एमिकस ने मौजूदा और पूर्व सांसदों/विधायकों के खिलाफ आपराधिक मुकदमे में तेजी लाने से संबंधित एक याचिका में सिफारिश की थी। मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमन्ना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि धारा 321 के तहत मामलों को वापस लेने के संबंध में शक्ति के दुरुपयोग का मुद्दा हमारे सामने है। 

पीठ ने कहा, हाई कोर्ट की अनुमति के बिना सांसद / विधायक के खिलाफ कोई मुकदमा वापस नहीं लिया जाएगा। पीठ में जस्टिस विनीत सरन और सूर्य कांत भी शामिल हैं। सुनवाई के दौरान अधिवक्ता स्नेहा कलिता हंसरिया को सहायता प्रदान कर रहीं थीं। उन्होंने कहा कि यूपी सरकार ने संगीत सोम, कपिल देव, सुरेश राणा और साध्वी प्राची के खिलाफ मुजफ्फरनगर दंगा के मामलों सहित निर्वाचित प्रतिनिधियों के खिलाफ 76 मामले वापस लेने की मांग की है। 

उन्होंने कहा, उक्त समाचार रिपोर्ट के अनुसार, चारों ने एक समुदाय के खिलाफ भड़काऊ बयान दिया और धारा 188 आईपीसी (घातक हथियार से लैस गैरकानूनी सभा में शामिल होना), 353 आईपीसी (लोक सेवक को रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल) इत्यादि धाराओं के तहत आरोपी हैं।

एमिकस क्यूरी की रिपोर्ट में कहा गया है, ये मामले मुजफ्फरनगर दंगों से संबंधित हैं जिसमें 65 लोग मारे गए थे और लगभग 40,000 लोग विस्थापित हुए थे। 12 जनवरी, 2020 को एक अन्य समाचार रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी जिसमें कहा गया था कि सरकार ने ऐसे 76 मामलों को वापस लेने का फैसला किया है।