BREAKING NEWS

Independence Day 2022 : पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस की बधाई देने वाले वैश्विक नेताओं का किया आभार व्यक्त ◾Independence Day 2022 : सीमा पर तैनात भारत और पाकिस्तान के सैनिकों ने मिठाइयों का किया आदान प्रदान ◾Independence Day 2022 : विश्व नेताओं ने स्वतंत्रता के 75 वर्षों में भारत की उपलब्धियों की सराहना की◾Independence Day 2022 : लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने दिया 'जय अनुसंधान' का नारा,नवोन्मेष को मिलेगा बढ़ावा◾स्वतंत्रता दिवस पर गहलोत ने फहराया झंडा! CM ने कहा- देश के स्वर्णिम इतिहास से प्रेरणा ले युवा ◾क्रूर तालिबान का सत्ता में एक साल पूरा : कितना बदला अफगानिस्तान, गरीबी का बढ़ा दायरा ◾नगालैंड : स्वतंत्रता दिवस पर उग्रवादियों के मंसूबे नाकाम, मुठभेड़ में असम राइफल्स के दो जवान घायल◾शशि थरूर के टी जलील की विवादित टिप्पणी पर भड़के, कहा- देश से ‘तत्काल' माफी मांगनी चाहिए◾विपक्ष का मोदी पर तीखा वार, कहा- महिलाओं के प्रति अपनी पार्टी का रवैया देखें प्रधानमंत्री◾स्वतंत्रता दिवस की 76 वी वर्षगांठ पर सीएम ने किया 75 ‘आम आदमी क्लीनिक’ का उद्घाटन ◾Bihar: 76वें स्वतंत्रता दिवस पर बोले नीतीश- कई चुनौतियों के बावजूद बिहार प्रगति के पथ पर अग्रसर ◾मध्यप्रदेश : आपसी झगड़े के बीच बम का धमाका, एक की मौत , 15 घायल◾बेटा ही बना पिता व बहनों की जान का दुश्मन, संपत्ति विवाद के चलते की धारदार हथियार से हत्या ◾स्वतंत्रता दिवस पर मोदी की गूंज! पीएम ने कहा- हर घर तिरंगा’ अभियान को मिली प्रतिक्रिया...... पुनर्जागरण का संकेत◾उधोगपति मुकेश अंबानी के परिवार को जान से मारने की धमकी, जांच शुरू◾स्वतंत्रता दिवस पर बोले केजरीवाल- 130 करोड़ लोगों को मिलकर नए भारत की नीव रखनी है, मुफ्तखोरी को लेकर कही यह बात ◾Independence Day 2022 : देश में सहकारी प्रतिस्पर्धी संघवाद की जरूरत : पीएम मोदी ◾कांग्रेस नेता पवन खेड़ा का केंद्र पर कटाक्ष- पीएम अपने आठ साल का ब्यौरा देंगे लेकिन मोदी ने जनता को किया निराश◾Independence Day: आजादी अमृत महोत्सव पर योगी बोले- 76वें स्वतंत्रता दिवस पर...संसदीय लोकतंत्र पर गर्व होना चाहिए ◾ देश की विविधता पर गर्व करने की जरूरत : पीएम मोदी ◾

राजद्रोह कानून पर SC ने लगाई रोक, कहा-नागरिकों के अधिकारों की रक्षा जरूरी

राजद्रोह कानून (Sediton Law) को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने राजद्रोह कानून पर फिलहाल के लिए रोक लगाते हुए कहा कि संबंधित सभी लंबित मामले, अपील और कार्यवाही को स्थगित रखा जाना चाहिए। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा है कि जिनके खिलाफ राजद्रोह के आरोप में मुकदमे चल रहे हैं और वो इसी आरोप में जेल में बंद हैं वो जमानत के लिए समुचित अदालतों में अर्जी दाखिल कर सकते हैं।

मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना की अध्यक्षता वाली न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने कहा कि जब तक केंद्र द्वारा देशद्रोह के प्रावधान की समीक्षा पूरी नहीं हो जाती, तब तक सरकारों को देशद्रोह के प्रावधान का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। पीठ ने कहा कि देशद्रोह के प्रावधान के तहत कोई नई FIR दर्ज नहीं की जानी चाहिए और पहले से ही जेल में बंद लोग राहत के लिए अदालतों का दरवाजा खटखटा सकते हैं।

जुलाई में होगी अगली सुनवाई

कोर्ट ने कहा कि आरोपियों को दी गई राहत जारी रहेगी। प्रावधान की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर जुलाई में होगी सुनवाई। बुधवार को हुई सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार का पक्ष रखते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट को बताया कि हमने राज्य सरकारों को जारी किए जाने वाले निर्देश का मसौदा तैयार किया गया है। 

उसके मुताबिक राज्य सरकारों को स्पष्ट निर्देश होगा कि बिना जिला पुलिस कप्तान यानी एसपी या उससे ऊंचे स्तर के अधिकारी की मंजूरी के राजद्रोह की धाराओं में एफआईआर दर्ज नहीं की जाएगी। इस दलील के साथ सॉलिसिटर जनरल ने कोर्ट से कहा कि फिलहाल इस कानून पर रोक न लगाई जाए।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को केंद्र से कहा कि राजद्रोह के संबंध में औपनिवेशिक युग के कानून पर किसी उपयुक्त मंच द्वारा पुनर्विचार किए जाने तक नागरिकों के हितों की सुरक्षा के मुद्दे पर वह अपने विचारों से अवगत कराए। कोर्ट ने इस बात पर सहमति जतायी कि इस प्रावधान पर पुनर्विचार केंद्र पर छोड़ दिया जाए जिसने इस संबंध में एक हलफनामा दायर किया है।

हालांकि कोर्ट  ने प्रावधान के लगातार दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की और यह सुझाव भी दिया कि दुरुपयोग को रोकने के लिए दिशानिर्देश जारी किए जा सकते हैं या कानून पर पुनर्विचार की कवायद पूरी होने तक इसे स्थगित रखने का फैसला किया जा सकता है। कोर्ट को यह तय करना था कि राजद्रोह कानून की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई तीन या पांच-न्यायाधीशों की पीठ को करनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के नए रुख पर गौर किया कि वह इसकी "पुन: जांच और पुनर्विचार" करना चाहती है।