BREAKING NEWS

UP में वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान, शुक्रवार रात से लगातार 35 घंटे तक जारी रहेगा कोरोना कर्फ्यू◾राहुल समेत दिग्गज कांग्रेस नेताओं का आरोप - टीकाकरण को लेकर सरकार की रणनीति भेदभाव वाली◾केजरीवाल ने लोगों से की अपील, कहा- लॉकडाउन आपकी सुरक्षा के लिए लगाया गया, संक्रमण से बचकर रहें◾UP के पांच शहरों में लॉकडाउन लगाने के इलाहबाद HC के फैसले पर SC ने लगाई रोक◾सिब्बल का वार-चुनाव जीतने के लिए PM अपनी सभी शक्तियों का कर रहे हैं प्रयोग लेकिन कोविड के लिए नहीं◾5 शहरों में लॉकडाउन लगाने के इलाहाबाद HC के आदेश के खिलाफ SC पहुंची योगी सरकार◾राहुल ने केंद्र को याद दिलाई जिम्मेदारी, कहा- प्रवासी मजदूरों के खातों में रुपये जमा करे सरकार◾देशभर में बेकाबू हुआ कोरोना, मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा कोरोना से संक्रमित ◾कोरोना : ICSE ने कैंसिल की 10वीं बोर्ड की परीक्षा, बाद में एग्जाम का विकल्प भी लिया वापस ◾देश में कोरोना संक्रमण के 2 लाख 59 हजार नए मामलों की पुष्टि, पिछले 24 घंटे में 1761 लोगों की मौत ◾दिल्ली में लॉकडाउन के बीच पलायन करने के लिए मजबूर हुए प्रवासी मजदूर, आनंद विहार बस स्टैंड पर लगी भीड़ ◾विश्व में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 14.18 करोड़ के पार◾विदेश मंत्री जयशंकर और टोनी ब्लिंकन ने अफगानिस्तान, म्यांमा में सुरक्षा संबंधी मामलों पर चर्चा की◾कोरोना वैक्सीन की कमी के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से तत्काल आपूर्ति करने का किया अनुरोध ◾गुजरात में सामने आये कोविड-19 के सर्वाधिक 11,403 मामले आए◾उत्तर प्रदेश : पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 167 मरीजों की मौत, 28287 नए केस ◾1 मई से 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोग लगवा सकते हैं कोरोना वैक्सीन, खुले बाजार में भी बिकेगी वैक्सीन◾विदेश मंत्री जयशंकर ने कोविड-19 रोधी टीके के निर्यात पर आलोचनाओं को किया खारिज◾पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कोविड से हुए संक्रमित, एम्स में भर्ती ◾PM मोदी ने चिकित्सकों - स्वास्थ्यकर्मियों के सेवा भाव को बताया ‘अमूल्य’, कहा - टीकाकरण सबसे बड़ा हथियार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोविड टीके के लिए वरिष्ठ नागरिक, बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोग कराएं ‘ऑन-साइट’ पंजीकरण

भारत 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और पहले से किसी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का एक मार्च से कोविड-19 टीकाकरण करने की तैयारी में जुटा हुआ है। इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि ‘ऑन-साइट’ पंजीकरण कराने की सुविधा उपलब्ध होगी, ताकि योग्य लाभार्थी अपनी पसंद के टीकाकरण केंद्र पर जाकर अपना पंजीकरण कराएं और टीका लगवाएं। 

टीके के लाभार्थी को-विन 2.0 पोर्टल डाउनलोड कर और आरोग्य सेतु आदि मोबाइल ऐप के जरिए पहले भी अपना पंजीकरण करा सकते हैं। मंत्रालय ने कहा कि लाभार्थी अपनी पसंद के कोविड-19 टीकाकरण केंद्र (सीवीसी) को चुन सकते हैं और टीका लगवाने के लिए अपना समय निर्धारित करवा सकते हैं। 

मंत्रालय ने कहा कि सरकारी टीकाकरण केंद्रों में टीका नि:शुल्क लगाया जाएगा। वहीं, टीकाकरण केंद्र के रूप में निर्धारित निजी स्वास्थ्य संस्थानों में टीका लगवाने वालों को पहले से तय शुल्क का भुगतान करना होगा। केंद्र सरकार ने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य सचिवों और एमडी (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) के साथ यह सूचना साझा की। 

वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई बैठक में टीका प्रशासन (को-विन) पर उच्चाधिकार समूह के अध्यक्ष और कोविड-19 पर टीका प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के सदस्य डॉ आर एस शर्मा भी शामिल हुए। कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ था। 

मंत्रालय ने कहा कि आयु समूह के आधार पर टीकाकरण का नया चरण देश में टीकाकरण अभियान को कई गुना विस्तारित कर देगा। इस चरण की एक खास विशेषता यह है कि टीकाकरण के मौजूदा चरण में जो स्वास्थ्यकर्मी या अग्रिम मोर्चे के कर्मी छूट गये हैं, वे भी अपनी पंसद का टीकाकरण केंद्र चुन सकते हैं। 

मंत्रालय ने कहा कि वहीं, दूसरी विशेषता यह है कि निजी क्षेत्र के अस्पताल भी टीकाकरण केंद्रों के तौर पर शामिल किये जाएंगे, जिससे टीकाकरण की रफ्तार बढ़ेगी। मंत्रालय ने इस बात का जिक्र किया कि सीवीसी अवश्य ही सरकार संचालित स्वास्थ्य सेवा संस्थान होने चाहिए। 

मंत्रालय ने कहा है कि सभी लाभार्थियों को अपना एक तस्वीर युक्त पहचान पत्र--आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र--आदि लेकर टीकाकरण केंद्र जाना होगा। वहीं, किसी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक उम्र का लाभार्थी होने की स्थिति में बीमारी से संबद्ध प्रमाणपत्र भी लाना होगा, जिसपर पंजीकृत चिकित्सक के हस्ताक्षर हों।