BREAKING NEWS

CAB के खिलाफ जामिया के छात्रों ने किया उग्र प्रदर्शन, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले◾राहुल के 'रेप इन इंडिया' वाले बयान को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जनता का ध्यान भटकाने का लगाया आरोप◾निर्भया के दोषियों पर फैसला 18 दिसंबर को : कोर्ट ◾गुवाहाटी में मोदी और शिंजो आबे के बीच होनी वाली शिखर वार्ता हुई स्थगित◾लोकसभा में बोले राजनाथ सिंह- राहुल गांधी को सांसद होने का नैतिक अधिकार नहीं◾'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर बोले राहुल-कभी माफी नहीं मांगने वाला◾राहुल गांधी के 'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर लोकसभा में हंगामा, महिला सांसदों ने की माफी की मांग ◾निर्भया गैंगरेप : पटियाला हाउस कोर्ट में टली सुनवाई, पीड़िता की मां ने आरोपी की पुनर्विचार याचिका का किया विरोध ◾आम चुनावों में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को मिला बहुमत, PM मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने दी बधाई◾तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा ने नागरिकता संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती ◾संसद हमले की 18वीं बरसी आज, पार्लियामेंट के बाहर PM मोदी समेत कई सांसदों ने दी श्रद्धांजलि◾नागरिकता संशोधन विधेयक: भारत की यात्रा रद्द कर सकते हैं जापान के PM शिंजो आबे◾पिछले तीन साल में उच्चतम स्तर पर महंगाई, लेकिन प्रधानमंत्री मौन : प्रियंका गांधी◾नागरिकता संशोधन विधेयक: डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू में ढील, गुवाहाटी में प्रदर्शनकारी कर रहे हैं अनशन◾निर्भया गैंगरेप : चारों आरोपियों की जल्दी फांसी की मांग को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट में आज होगी सुनवाई◾केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन का जन्मदिन आज, PM मोदी ने दी बधाई◾CAB : अमेरिका ने भारत से धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा करने का किया अनुरोध◾झारखंड विधानसभा चुनाव : झरिया में देवरानी-जेठानी के बीच दिलचस्प मुकाबला◾किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार ने बनाया रोडमैप : कृषि मंत्री ◾उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾

देश

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट

 congress ncp meeting2

महाराष्ट्र के हाल के घटनाक्रम को लेकर कहा जा रहा है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी काफी खुश हैं। 

पार्टी सूत्रों ने कहा कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिवसेना के अलग होने के कारण विभाजित कांग्रेस और उसकी सहयोगी शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) एक बार फिर एकजुट हो गई हैं। उनके लिए यह घटनाक्रम किसी वरदान से कम नहीं है। 

हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बाद भी मुख्यमंत्री पद की दावेदारी को लेकर भाजपा-शिवसेना का गठबंधन टूट चुका है। 

राज्य में कांग्रेस 20 वर्षो से कांग्रेस और राकांपा के रूप में विभाजित रही है और साथ ही भारी मतभेदों को झेलने के बाद भी एक-दूसरे का समय-समय पर सहयोग करती आई है। 

वर्ष 1999 से 2014 तक कांग्रेसी और राकांपा के कार्यकर्ता अंदरूनी खींचतान और एक-दूसरे के साथ लड़ाई लड़ने में व्यस्त रहे और अनजाने में अपने प्रतिद्वंद्वियों को राजनीतिक लाभ दिया। 

यहां तक कि अक्टूबर के अंत तक, दोनों पार्टियों के पुरुष और महिला कार्यकर्ता आपस में राजनीतिक बयानबाजी करने में लगे हुए थे। पार्टियों ने एक-दूसरे की छवि को धूमिल किया। इसमें शक्तिशाली मुंबई कांग्रेस भी शामिल थी, इसका परिणाम यह हुआ कि लोकसभा और विधानसभा, दोनों ही चुनावों में गंभीर नतीजे सामने आए। 

इस बार अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 44 और राकांपा को 54 सीटों पर जीत मिली, वहीं वर्ष 2014 में यह आंकड़ा क्रमश: 42 और 41 था। दोनों दल का मनोबल तो जरूर बढ़ा, लेकिन दोनों अभी सरकार बनाने से बहुत दूर हैं। 

दोनों सहयोगी पाíटयां सरकार भले ही न बना पाएं, मगर भाजपा-शिवसेना का गठबंध टूटने और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से शिवसेना के अलग होने इनकी स्थिति राज्य में और मजबूत दिखाई दे रही है।