BREAKING NEWS

राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾बुलेट ट्रेन परियोजना के लिये भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के खिलाफ याचिकाओं पर न्यायालय करेगा सुनवाई ◾चुनाव में ‘कांग्रेस वाली दिल्ली’ के नारे के साथ प्रचार में उतरी कांग्रेस◾यूपी सीएम योगी ने हिमस्खलन में कुशीनगर के शहीद जवान की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया◾TOP 20 NEWS 17 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾निर्भया के गुनहगारों का नया डेथ वारंट जारी, 1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी फांसी◾दिल्ली चुनाव के लिए BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली सूची◾निर्भया केस : स्मृति ईरानी ने राष्ट्रपति का जताया आभार, केजरीवाल पर साधा निशाना◾CAA के विरोध प्रदर्शन में जामा मस्जिद पहुंचे चंद्रशेखर, समर्थकों के साथ मिलकर पढ़ी संविधान प्रस्तावना◾आरोपी की दया याचिका को पर राष्ट्रपति के फैसले का निर्भया के पिता ने किया स्वागत◾आजम खान के बेटे को सुप्रीम कोर्ट से झटका, हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार◾शिवाजी या इंदिरा का नाम कभी भी सियासी फायदे के लिए नहीं लिया : शिवसेना◾कार्ति चिदंबरम को बड़ी राहत, SC ने विदेश यात्रा के लिए रजिस्ट्री में जमा 20 करोड़ रुपये वापस लेने की दी अनुमति◾निर्भया गैंगरेप : राष्ट्रपति ने खारिज की आरोपी मुकेश की दया याचिका◾DSP देवेंद्र सिंह की गिरफ्तारी को लेकर राहुल का मोदी सरकार पर वार, ट्वीट कर कही ये बात ◾ओवैसी ने CDS पर साधा निशाना, बोले- डी-रेडिकलाइजेशन पर गोरों की भाषा बोल रहे जनरल बिपिन रावत ◾गौरव चंदेल हत्याकांड : गाजियाबाद पुलिस की बड़ी कामयाबी, राहगीरों से बरामद किया मोबाइल◾राष्ट्रपति के पास भेजी गई आरोपी मुकेश की दया याचिका, निर्भया की मां ने लगाया राजनीति करने का आरोप◾इसरो ने किया GSAT- 30 उपग्रह का सफल प्रक्षेपण, संचार क्षेत्र में आएगी क्रांति◾

शाह ने की मोदी की प्रशंसा, बोले- मोदी कर रहे हैं देश का आर्थिक एकीकरण

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सरदार पटेल और बीआर अंबेडकर के समकक्ष रखते हुए कहा कि पटेल ने देश का क्षेत्रीय एकीकरण किया था, अंबेडकर ने सामाजिक एकीकरण किया था और अब मोदी ने भारत का आर्थिक एकीकरण शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री के 67वें जन्मदिन के अवसर पर उनकी प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि मोदी का जीवन कई मायनों में भारत की विचारधारा का साकार रूप है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की गरीबों की आकांक्षाओं के प्रति संवेदनशीलता के चलते ही गरीबी उन्मूलन के ऐतिहासिक कदम उतने बड़े स्तर पर आकार ले रहे हैं, जिसके बारे में भारत के इतिहास में कभी सुना ही नहीं गया।

शाह ने कहा कि मोदी सरकार में ईमानदार करदाताओं, जिनमें अधिकतर मध्यम वर्ग से ताल्लुक रखते हैं, को लगता है कि कालेधन और भ्रष्टाचार पर नोटबंदी और बेनामी संपथि कानून जैसे विभिन्न कदमों के साथ की गयी कार्वाई के बाद उनकी अहमियत बढ़ी है। पिछले दिनों आरबीआई ने बताया था कि नोटबंदी के बाद 99 प्रतिशत पुराने नोट बैंकों में जमा हो गये, जिसके बाद विपक्षी दलों ने इस कदम को लेकर सरकार के दावों की तीखी आलोचना की, लेकिन भाजपा का कहना है कि इस कदम से पारदर्शिता बढ़ी है और संगठित अर्थव्यवस्था का विस्तार हुआ है।

शाह ने एक ब्लॉग में लिखा, भारत सरदार पटेल को हमारे देश के क्षेत्रीय एकीकरण के लिए याद करता है और हम सामाजिक एकीकरण में बाबासाहब अंबेडकर की भूमिका को याद करते हैं। इसी तरह जनधन योजना से लेकर जीएसटी तक विभिन्न पहलों के साथ नरेंद्र भाई ने भारत के आर्थिक एकीकरण की शुरूआत कर दी है। प्रधानमंत्री के आलोचकों पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी ने भ्रष्टाचार और यथास्थिति के खिलाफ कई कदम उठाये हैं। अंतत: कुछ चुनिंदा लोगों के विशेषाधिकार का समय अब गुजर गया है और गरीबों को उनका हिस्सा मिल रहा है। मोदी के साथ अपने दशकों पुराने साथ को याद करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाया। प्रधान सेवक मोदी का जन्मदिन मनाने का सर्वश्रेष्ठ तरीका सेवा है।

उन्होंने कहा कि मोदी का दिल गरीबों, वंचितों, शोषितों और देश के किसानों के लिए धड़कता है। शाह ने कहा कि गरीबों के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री की गहरी चिंता ने उन्हें बहुत कम उम्र से राष्ट्रनिर्माण में समर्पित होने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने ब्लॉग में लिखा, इंडिया फर्स्ट एक विचार है जो नरेंद्र भाई ने अपने जीवन के हर क्षण में जिया है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लोग मोदी को करऊणामयी नेता के तौर पर देखते हैं। उन्होंने कहा, लोग उन्हें अपना समझते हैं, ऐसा व्यक्ति समझते हैं जो उनके और राष्ट्र के कल्याण के लिए निस्वार्थ 24 घंटे काम कर रहा है। उनकी लोकप्रियता सारी सीमाएं पार कर चुकी है।

शाह ने कहा कि वह सबसे पहले मोदी से युवा भाजपा कार्यकर्ता के रूप मे मिले थे और दोनों में से कोई भी सत्ता में नहीं था क्योंकि तब भाजपा उतनी बड़ी शक्ति नहीं थी जितनी आज बन गयी है। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह थी कि दोनों ने अपना हर क्षण भारत के कल्याण के लिए लगा दिया। उन्होंने देश के भले के लिए मोदी के संकल्प और प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हुए मुद्रा योजना, जनधन खातों, सर्जिकल स्ट्राइक तथा नोटबंदी का जिक्र किया और कहा, हम देश की सेवा करते रहेंगे और उनका साथ देते रहेंगे ताकि वह भारत को सफलता और गौरव की नयी ऊंचाइयों पर ले जाएं।