BREAKING NEWS

दुखद और शर्मनाक है बिहार में चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौत : PM मोदी ◾इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश ने नगर निगम अफसरों को बल्ले से पीटा◾कांग्रेस ने 2014 से देश की विकास यात्रा शुरू करने के दावे पर मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ ◾SC ने राजीव सक्सेना को विदेश जाने की अनुमति देने वाले दिल्ली HC के फैसले पर लगाई रोक ◾अध्यक्ष पद छोड़ने के रुख पर कायम राहुल गांधी, कांग्रेस सांसदों ने नेतृत्व करते रहने का आग्रह किया◾जम्मू-कश्मीर: त्राल मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी किया ढेर◾अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ ने की PM मोदी से मुलाकात, अहम सामरिक मुद्दों पर हुई चर्चा ◾उत्तर प्रदेश में जनता 'जंगल राज' से पीड़ित और योगी सरकार बेपरवाह : कांग्रेस◾पश्चिम बंगाल : नमाज के विरोध में बीजेपी ने रोड पर किया हनुमान चालीसा का पाठ◾पटना : तेज तफ्तार SUV ने फुटपाथ पर सो रहे 4 बच्चों को कुचला, 3 की मौत◾UP: बहुजन नेताओं की नजर में भाई-भतीजावाद से BSP को होगा नुकसान !◾पुलवामा के त्राल में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू◾आज अमरनाथ दर्शन के साथ जम्मू-कश्मीर का दौरा शुरू करेंगे अमित शाह ◾आंध्र प्रदेश के पूर्व CM चंद्रबाबू नायडू के घर पर चली JCB◾TDP के दर्जन से ज्यादा विधायक BJP के संपर्क में ◾अमरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ पहुंचे भारत, आज PM मोदी से करेंगे मुलाकात !◾World Cup 2019 AUS vs ENG : ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में, इंग्लैंड गहरे संकट में◾राम रहीम की पैरोल पर निर्णय डीसी, एसपी की रिपोर्ट के बाद : खट्टर ◾लकीर छोटी करने की बजाय अपनी लकीर लंबी करने में विश्वास करते हैं : PM मोदी ◾Modi का 5 साल का कार्यकाल ‘सुपर इमरजेंसी’ का : ममता◾

देश

18 साल बाद हुआ था पुलवामा हमले में शहीद हो गए जयमाल सिंह का बेटा, बोला- पापा जम्मू में ड्यूटी पर हैं

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ जिसमें सीआरपीएफ के 44 जवानों ने अपनी जान दे दी। इन्हीं जवानों में से एक जवान के घर शुक्रवार को गम का माहौल था। उस जवान का 5 साल का बेटा है और वह अपनी मां और दादी को रोता-बिलखता देखकर बहुत हैरान हो रहा था और परेशान भी।

pulwama attack

उसे छोटे से बच्चे को यह पता ही नहीं था कि उसके पंजाब के मोगा के घलोटी खुर्द गांव में उसके घर में क्या हो रहा था उसे उसका कोई अंदाजा नहीं था। उसे पांच साल के बच्चे को यह पता था कि उसके पिता इस समय जम्मू में ड्यूटी पर हैं और जल्द घर आएंगे। हम बात कर रहे हैं शहीद साआरपीएफ हेड कॉन्स्टेबल जयमाल सिंह की उम्र 44 साल की थी उनकी इस हमले में मौत हो गई।

बेटे ने कहा पाप वापिस आएंगे

गुरप्रकाश ने कहा, पापा जम्मू में हैं, जल्द ही वापस आएंगे। वह सीआपीएफ में हैं। वहां से हमारे लिए पैसे लाएंगे। गुरप्रकाश जयमाल सिंह के बेटे हैं और वह सीआरपीएफ में बस ड्राइवर थे।

जयमाल सिंह का एक ही सपना था कि वह अपने बेटे को अच्छी शिक्षा दे सकें। पढ़ाई के लिए ही वह अपने परिवार के साथ इसी महीने के आखिरी में चंडीगढ़ शिफ्ट होने वाले थे। उन्होंने जालंधर में अपने बेटे गुरप्रकाश का दाखिला कॉन्वेंट स्कूल में करवा दिया था ताकि वह अपने बेटे को अच्छी पढ़ाई दें सकें। जयमाल सिंह अपनी घर की वित्तीय परेशानियों की वजह से ज्यादा नहीं पढ़ पाए थे और सेना में भर्ती हो गए थे।

जयमाल की पत्नी सुखजीत ने कहा, हम इस महीने के अंत में चंडीगढ़ शिफ्ट होने वाले थे। वह चाहते थे कि हमारा बेटा कक्षा 1 से नए स्कूल में पढ़ाई करे। हमारा बेटा हमारी शादी के 18 साल बाद कई मुश्किलियों से हुआ था। पूरी दुनिया में वह जिस इंसान से सबसे ज्यादा प्यार करते थे वह हमारा बेटा है। मुझे नहीं पता कि गुरप्रकाश अब अपने पिता के बिना कैसे जीएगा।

शहीद जयमाल सिंह ने पहले अपने भाई-बहनों को पढ़ाया और अब वह अपने बेटे को अच्छी शिक्षा देने चाहते थे। उनकी विवाहित बहन हरविंदर कौर ने कहा, सिर्फ मेरा बड़ा भाई ही था जिसने माता-पिता केसाथ लड़ाई करके मुझे आगे पढ़ाया था क्योंकि उन्होंने मेरी पढ़ाई 8वीं क्लास के बाद बेद कर दी थी। हमारा परिवार बहुत गरीब था जिसके लिए उन्होंने सेना एन्जॉय की और घर के खर्च में साथ दिया।

भारत सरकार की लापरवाही की वजह से हुआ आतंकी हमला

गुरुवार को जयमाल ने सुबह 8 बजे अपनी पत्नी से बात की थी। सुखजीत ने कहा, उन्होंने मुझे बताया कि वह एक दूसरे ड्राइवर की जगह जा रहे हैं क्योंकि वह अपने बेटे की शादी के लिए छुट्टी लेकर घर गया है। उन्होंने कहा वह बाद में बात करेंगे लेकिन बाद में फोन आया ही नहीं।

सुखजीत ने कहा, वह और गुरुप्रकाश दिन में कम से कम 5-6 बार फोन पर बात करते थे। दोनों वीडियो कॉल पर घंटों तक बात करते थे और गुरुप्रकाश अपने दिन की सारी बातें अपने पापा को बताता था। जब वह दोनों एक साथ होते थे तो वह बहुत सारी सेल्फी खिंचवाते थे। इस घातक हमले की साजिश रचने वाले पाकिस्तान और बाहरी ताकतों को दोषी ठहराने से पहले मैं अपनी ही सरकार से सवाल करना चाहती हूं कि कैसे विस्फोटक से भरा हुआ वाहन सीआरपीएफ के वाहनों के पास पहुंचने में सफल रहा। यह हमारी अपनी सरकार की लापरवाही और विफलता की वजह से हुआ है। क्या उनके पास कोई जवाब है कि मेरा 5 साल का बेटा अपने पिता के बिना कैसे रहेगा?