BREAKING NEWS

देश में आग की नौ बड़ी घटनाएं ◾भाजपा पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस पहले 70 साल का हिसाब दे : स्मृति इरानी◾PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में अरुण शौरी से मुलाकात की◾दिल्ली अनाज मंडी हादसा में फैक्ट्री मालिक हिरासत में◾TOP 20 NEWS 8 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने दक्षेस चार्टर दिवस पर सदस्य देशों के लोगों को दी बधाई ◾संसद में नागरिकता विधेयक का पारित होना गांधी के विचारों पर जिन्ना के विचारों की होगी जीत : शशि थरूर◾अनाज मंडी हादसे के लिए दिल्ली सरकार और MCD जिम्मेदार: सुभाष चोपड़ा◾दिल्ली आग: PM मोदी ने की मृतक के परिवारों के लिए 2 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा◾दिल्ली आग: दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ दर्ज किया मामला◾दिल्ली आग : CM केजरीवाल ने मृतकों के परिवारों के लिए 10 लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान◾दिल्ली आग: अमित शाह ने घटना पर शोक किया व्यक्त, प्रभावित लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने का दिया निर्देश◾कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस का मोदी पर वार, कहा- खुले आम घूम रहे हैं अपराधी, PM हैं ‘‘मौन’’ ◾दिल्ली: अनाज मंडी में एक मकान में लगी आग, 43 लोगों की मौत, 50 लोगों को सुरक्षित बाहर निकला गया ◾उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने कहा- CM योगी के आने तक नहीं होगा अंतिम संस्कार, बहन ने की ये मांग◾दिल्ली: अनाज मंडी में लगी भीषण आग पर PM मोदी और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जताया दुख◾RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले - गोसेवा करने वाले कैदियों की आपराधिक प्रवृत्ति में आई कमी◾देवेंद्र फडणवीस का दावा- अजित पवार ने सरकार बनाने के लिए मुझसे किया था संपर्क◾उन्नाव रेप पीड़िता का आज होगा अंतिम संस्कार, गांव में सुरक्षा के कड़े इंतजाम◾कहीं एनआरसी जैसा न हो सीएबी का हाल, आरएसएस बना रही रणनीति ◾

देश

शरद पवार ने की अपील, कहा- अयोध्या फैसले पर किसी को भी कानून अपने हाथों में नहीं लेना

 sharad pawar1200

अयोध्या मामले पर इस महीने उच्चतम न्यायालय का फैसला आने के मद्देनजर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को कहा कि उत्सुकता के साथ इस निर्णय का इंतजार कर रहे किसी भी व्यक्ति को कानून अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए। 

पवार ने कहा कि समाज के किसी भी वर्ग को फैसले को उसके खिलाफ नहीं देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के अयोध्या में लगभग 27 साल पहले बाबरी मस्जिद ढहाये जाने के बाद देश में बनी स्थिति की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। दिसम्बर 1992 में मस्जिद ढहाये जाने के बाद मुंबई समेत देश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक दंगे हुए थे। भारत के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई 17 नवम्बर को अपनी सेवानिवृत्ति से पहले राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद में अपना फैसला सुना सकते है। 

शरद पवार बोले- हम एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर ही करेंगे काम, महाराष्ट्र में जल्द सरकार बनाए BJP-शिवसेना

पवार ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘समाज के किसी भी वर्ग को अयोध्या फैसले को अपने खिलाफ नहीं समझना चाहिए।’’ पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘यह अच्छी बात है’’ कि विवादित स्थल पर राम मंदिर के निर्माण का समर्थन करने वाले लोग और मामले में एक पक्ष बाबरी मस्जिद एक्शन समिति न्यायालय के फैसले को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं राज्य सरकारों से भी अनुरोध करना चाहूंगा कि वे सतर्क रहे।’’ इस बीच पवार ने कुछ दिन पहले राष्ट्रीय राजधानी में तीस हजारी अदालत परिसर में वकीलों और दिल्ली पुलिस के कर्मियों के बीच हुए हिंसक संघर्ष को लेकर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि वर्दी में लोगों पर हमले से उनका मनोबल गिर सकता है और उन्होंने बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा से स्थिति सामान्य करने के लिए पहल करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा, ‘‘केन्द्र सरकार इस मामले में अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती है। उसे इस घटनाक्रम को गंभीरता के साथ लेना चाहिए।’’