BREAKING NEWS

‘तांडव’ की टीम ने बिना शर्त माफी मांगी, कहा भावनाएं आहत करने का कोई इरादा नहीं ◾सुशासन सरकार में पुलिस दोषियों के बजाये निर्दोष को जेल भेजने का काम करती है :तेजस्वी ◾आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को मिली जिंदा जलाकर मारने की धमकी ◾एम्स निदेशक की जनता से अपील - मामूली साइड इफेक्ट से मत डरें, वैक्सीन आपको मारेगी नहीं ◾SC की टिप्पणी के बाद बोले किसान संगठन - ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है◾बढ़ते क्राइम को लेकर तेजस्वी ने राज्यपाल से की मुलाकात, कहा- बिहारियों की बलि मत दिजीए CM नीतीश ◾नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी, कहा- दल बदलने वालों की नहीं है चिंता ◾केंद्र ने माल्या प्रत्यर्पण मामले में दी SC को सूचना, कहा- ब्रिटेन ने डिटेल सांझा करने से किया इंकार ◾'तांडव' वेब सीरीज विवाद को लेकर लखनऊ से मुंबई रवाना हुई UP पुलिस की टीम◾भारतीय किसान यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी को संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड◾SC की टिप्पणी पर बोले राकेश टिकैत-हम झगड़ा नहीं, गण का उत्सव मनाएंगे◾ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾गुजरात को PM मोदी का एक और तोहफा, अहमदाबाद-सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास◾कृषि कानून को लेकर 55वें दिन प्रदर्शन जारी, आंदोलन तेज करते हुए अन्नदाता आज मनाएंगे 'महिला किसान दिवस' ◾सूट-बूट वाले दोस्तों का कर्ज माफ करने वाली मोदी सरकार अन्नदाताओं की पूंजी साफ करने में लगी है : राहुल गांधी ◾देश में पिछले 24 घंटे में 13788 नए कोरोना मामलों की पुष्टि, 145 लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर बरकरार, मरीजों का आंकड़ा 9.5 करोड़ तक पहुंचा ◾पीएम मोदी आज अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे चरण और सूरत मेट्रो रेल परियोजना का करेंगे भूमि पूजन ◾कृषि कानूनों और किसान प्रदर्शनों संबंधी याचिकाओं पर SC आज करेगा सुनवाई ◾आज का राशिफल (18 जनवरी 2021)◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

‘हिंदुत्व’ की सफलता का अर्थ भारत की अवधारणा का अंत होगा : शशि थरूर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने ‘हिंदुत्व’ को 1947 की मुस्लिम सांप्रदायिकता का ‘प्रतिबिंब’ करार देते हुए कहा है कि इसकी सफलता का मतलब यह होगा कि भारतीय अवधारणा (इंडियन आइडिया) का अंत हो गया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि ‘हिंदुत्व’ कोई धार्मिक नहीं, बल्कि ‘राजनीतिक सिद्धांत’ है। 

थरूर ने अपनी नयी पुस्तक ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग ’ में कहा कि ‘हिंदू भारत’ किसी भी तरह से हिंदू नहीं होगा, बल्कि ‘संघी हिंदुत्व राज्य’ होगा जो पूरी तरह से अलग तरह का देश होगा। उनकी इस पुस्तक का शनिवार को विमोचन हुआ। कांग्रेस सांसद ने कहा, ‘‘मेरे जैसे लोग जो अपने प्यारे भारत को संजोए रखना चाहते हैं, उनकी परवरिश इस तरह हुई है कि वे धार्मिक राज्य का तिरस्कार करें।’’

उन्होंने यह भी कहा कि हिंदुत्व आंदोलन की जो बयानबाजी है उससे उसी कट्टरता की गूंज सुनाई देती है जिसको खारिज करने के लिए भारत का निर्माण हुआ था। ‘एलेफ बुक कंपनी’ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में थरूर ने हिंदुत्व और संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) की आलोचना की है। उनका कहना है कि ये भारतीयता के बुनियादी पहलू के लिए चुनौती हैं।

अपने ‘हिंदू पाकिस्तान’ वाले बयान से संबंधित विवाद को समर्पित एक पूरे अध्याय में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘मैंने सत्ताधारी पार्टी की ओर से पाकिस्तान का हिंदुत्व वाला संस्करण बनाने के प्रयास की निंदा की थी क्योंकि इसके लिए हमारा स्वतंत्रता आंदोलन नहीं था और न ही यह भारत की अवधारणा है जिसे हमारे संविधान में समाहित किया गया।’’

वह लिखते हैं, ‘‘यह सिर्फ अल्पसंख्यकों के बारे में नहीं है जैसा भाजपा हमें मनवाना चाहेगी। मेरे जैसे बहुत सारे गौरवान्वित हिंदू हैं जो अपनी आस्था के समावेशी स्वभाव को संजोते हैं और अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान के लोगों की तरह असहिष्णु एवं एक धर्म आधारित राज्य में रहने का इरादा नहीं रखते।’’ थरूर ने कहा, ‘‘हिंदुत्व हिंदू धर्म नहीं है। यह एक राजनीतिक सिद्धांत है, धार्मिक नहीं है।’’

सीएए की आलोचना करते हुए थरूर ने कहा कि यह पहला कानून है जो देश की उस बुनियाद पर सवाल करता है कि धर्म हमारे पड़ोस और हमारी नागरिकता को तय करने का पैमाना नहीं हो सकता। उनके मुताबिक, यह संशोधित कानून एक समावेशी राज्य के तौर पर भारत को लेकर जो धारणा है उसपर भी चोट करता है। हिंदुत्व के संदर्भ में कांग्रेस नेता इस पुस्तक में लिखते हैं, ‘‘हिंदुत्व आंदोलन 1947 की मुस्लिम सांप्रदायिकता का प्रतिबिंब है। इससे संबंधित बयानबाजी से उस कट्टरता की गूंज सुनाई देती है जिसे खारिज करने के लिए भारत का निर्माण हुआ था।

उन्होंने कहा कि इस हिंदुत्व की सफलता का मतलब यह होगा कि भारतीय अवधारणा का अंत हो गया। एआईएमआईएम नेता वारिस पठान के ‘भारत माता की जय’ का नारा नहीं लगाने से जुड़े विवाद का उल्लेख करते हुए थरूर ने कहा कि कुछ मुस्लिम कहते हैं कि ‘हमे जय हिंद, हिंदुस्तान जिंदाबाद, जय भारत कहने के लिए कहिए, लेकिन ‘भारत माता की जय’ कहने के लिए मत कहिए।’ उन्होंने कहा, ‘‘यह संविधान हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आजादी देता है और हमें चुप रहने की भी आजादी देता है। हमें दूसरों के मुंह में अपने शब्द नहीं डाल सकते।’’

इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर राहुल ने भी लिखा भावुक पोस्ट, प्रियंका ने दी श्रद्धांजलि